• Talk To Astrologers
  • AstroSage Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Child Report

शुक्र का सिंह राशि में गोचर (28 सितंबर 2020)

शुक्र देव 28 सितंबर 2020 को 00:50 बजे कर्क राशि से निकलकर सिंह राशि में प्रवेश करेंगे और 23 अक्टूबर 10:44 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। इसके बाद शुक्र ग्रह का गोचर कन्या राशि में होगा। सूर्य के स्वामित्व वाली सिंह राशि में शुक्र ग्रह के गोचर का सभी राशि के जातकों पर प्रभाव पड़ेगा।

किसी समस्या से हैं परेशान, समाधान पाने के लिए ज्योतिष से प्रश्न पूछें

शुक्र को सभी ग्रहों में सबसे चमकदार ग्रह माना जाता है। चूंकि शुक्र एक शुभ ग्रह है इसलिए कुंडली में इसकी अच्छी स्थिति से जातकों को जीवन में कई सुख सुविधाएँ मिलती हैं लेकिन मुख्य रुप से प्रेम, भौतिक सुखों में इसकी मजबूती से वृद्धि होती है। इसके साथ ही वैवाहिक जीवन में भी शुक्र की स्थिति का असर पड़ता है, यदि कुंडली में शुक्र अच्छी स्थिति में है तो दांपत्य जीवन सुखद रहता है।

वहीं शुक्र की दुर्बल स्थिति व्यक्ति के वैवाहिक जीवन को खराब कर सकती है। शुक्र को मजबूत करने के लिए और इसके अच्छे फल प्राप्त करने के लिए इस ग्रह से जुड़े उपाय करने चाहिए। चूंकि शुक्र ग्रह का गोचर सिंह राशि में होने जा रहा है, इसलिए सभी 12 राशियों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। तो आईए जानते हैं शुक्र गोचर से आपके जीवन में क्या परिवर्तन आएंगे।

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। जानें अपनी चंद्र राशि

Read Here In English: Venus transit in Leo

शुक्र का सिंह राशि में गोचर

मेष

सौंदर्य के देवता शुक्र का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में होगा। इस भाव से हम संतान, शिक्षा, प्रेम आदि के बारे में विचार करते हैं। इस राशि प्रेमी-प्रेमिकाओं के लिए शुक्र का यह गोचर कई अच्छे फल लेकर आया है। इस गोचर के दौरान प्रेम में प्रगाढ़ता आएगी। अपने लवमेट के साथ आप अच्छा समय बिता सकते हैं। रोमांस आपके दिलो दिमाग पर छाया रहेगा जिससे आपका संगी भी आपकी ओर आकर्षित होगा।

वहीं इस राशि के शादीशुदा जातकों को इस गोचर काल के दौरान थोड़ा संभलकर रहना होगा जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है। हालांकि आपके जीवनसाथी को शुक्र के इस गोचर के दौरान उनके कार्यक्षेत्र में तरक्की मिल सकती है। इस गोचर के दौरान मेष राशि के लोग मनोरंजन के साधनों पर खर्च करने से पीछे नहीं हटेंगे।

इस राशि के विद्यार्थियों का मन इस दौरान पढ़ाई से भटक सकता है, पढ़ने से ज्यादा ध्यान खेलकूद पर या सोशल मीडिया पर रहेगा। पारिवारिक जीवन में मेष राशि के लोगों को अच्छे फल प्राप्त होंगे, आपके घर के सदस्यों का रवैया आपके प्रति सहयोगात्मक होगा। स्वास्थ्य ठीक रहेगा, हालांकि आपको ज्यादा मसालेदार भोजन करने से बचना चाहिए नहीं तो पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

उपाय- शिव भगवान की पूजा करें और उन्हें सफेद पुष्प अर्पित करें।

वृषभ

शुक्र ग्रह का गोचर आपके सुख भाव यानि चतुर्थ भाव में होगा। शुक्र ग्रह आपके लग्न और षष्ठम भाव का स्वामी है और इस गोचर काल के दौरान आपके चतुर्थ भाव में विराजमान होकर सुखों में वृद्धि करेगा।

इस राशि के जो जातक नया मकान लेने के बारे में विचार बना रहे थे या घर की साजसज्जा करने वाले थे उनके मनसूबे इस दौरान पूरे हो सकते हैं। वहीं कुछ जातक वाहन भी इस गोचर के दौरान खरीद सकते हैं। हालांकि अपने बजट के अनुसार ही आपको खर्च करना चाहिए अन्यथा आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इस राशि के शादीशुदा लोगों के जीवनसाथी को इस गोचर का फायदा प्राप्त होगा, आपके जीवनसाथी को कार्यक्षेत्र में अच्छा पद मिल सकता है। इस दौरान आपको अपनी क्षमताओं पर भरोसा करना चाहिए और रिस्क लेने से नहीं घबराना चाहिए। कई बार आप पूरी योग्यता होने के बावजूद भी घबराते हैं और अच्छे अवसरों से हाथ धो बैठते हैं।

इस गोचर काल के दौरान पारिवारिक जीवन में भी आपको अनुकूल परिणाम मिल सकते हैं लेकिन माता के स्वास्थ्य को लेकर कुछ चिंताएं भी आपको होंगी, ऐसे में आपको उनके साथ समय बिताना चाहिए और उनकी परेशानियों को जानना चाहिए। अपने स्वास्थ्य में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए व्यायाम करें।

उपाय- शुक्रवार के दिन जरुरतमंदों को भोजन करवाएं, शुभ फल मिलेंगे।

मिथुन

आपके पंचम और द्वादश भाव का स्वामी ग्रह शुक्र का गोचर आपके तृतीय भाव में होगा। इस भाव से हम साहस, पराक्रम, छोटे भाई-बहन आदि के बारे में विचार करते हैं। मिथुन राशि के जातकों के लिए शुक्र का यह गोचर कई मायनों में अच्छा रहेगा।

इस राशि के जो जातक नौकरी पेशा हैं उन्हें कार्यक्षेत्र में काम के लिए सम्मान मिलेगा। वहीं जो लोग अपना व्यवसाय करते हैं उन्हें भी अच्छे फल प्राप्त होंगे। इस गोचर के दौरान यदि आप काम के सिलसिले में यात्रा करते हैं तो उस यात्रा से आपको लाभ होगा।

वैवाहिक जीवन में भी सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। यदि जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर मतभेद था तो वह इस गोचर काल के दौरान खत्म हो जाएगा। यदि आप प्रेम में पड़े हैं तो शुक्र के इस गोचर काल के दौरान अपने लवमेट का किसी भी तरह से मजाक न उड़ाएं इससे आपके प्रति उनके विचार बदल सकते हैं और रिश्ते में दरार आ सकती है।

इस राशि के जो जातक रचनात्मक कार्य जैसे- लेखन, गायन, वादन आदि करते हैं उन्हें इस गोचर काल के दौरान लोगों का सम्मान प्राप्त होगा। अपनी रचनात्मकता से आप लोगों को आकर्षित भी करेंगे और कुछ नयी रचना भी बना सकते हैं।

उपाय- शुक्र बीज मंत्र का जाप करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।


कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट से अपने करियर में आ रही हर परेशानी को करें दूर

कर्क

आपके एकादश और चतुर्थ भाव का स्वामी ग्रह शुक्र सिंह राशि में गोचर के दौरान आपके द्वितीय भाव में होगा। द्वितीय भाव से आपकी वाणी, परिवार, धन आदि पर विचार किया जाता है। यदि आपका पारिवारिक व्यवसाय है तो उसमें आपको लाभ की प्राप्ति होगी। परिवार के छोटे सदस्य भी काम में आपका पूरा सहयोग करेंगे। अपने कारोबार को विस्तार देना चाहते हैं तो यह समय अनुकूल है।

इस राशि के नौकरी पेशा लोगों की बात की जाए तो काम का अच्छा फल मिलने के पूरे आसार हैं, इस गोचर काल के दौरान आपकी आमदनी में बढ़ौतरी हो सकती है, जिससे आपके आर्थिक हालात सुधरेंगे। इस राशि के जो लोग प्रेम संबंधों में पड़े हैं उनके जीवन में रोमांस की अधिकता इस दौरान रहेगी। लवमेट के साथ वक्त बिताने के लिए आप अपने जरुरी कामों को भी छोड़ सकते हैं।

द्वितीय भाव आपकी वाणी का भी होता है इसलिए शुभ ग्रह शुक्र के इस भाव में होने के चलते आपकी वाणी में भी मधुरता देखने को मिलेगी। अपने ज्ञान का सही उपयोग इस दौरान आप करेंगे। सामाजिक स्तर पर भी लोग आपसे प्रभावित होंगे। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डालें तो शुक्र के इस गोचर के दौरान आपको आंखों से जुड़ी समस्या हो सकती है इसलिए अपनी आंखों का विशेष ध्यान दें।

उपाय- शुक्रवार के दिन देवी मंदिर में जाकर लाल पुष्प चढ़ाएं।

सिंह

सिंह राशि के लग्न भाव यानि प्रथम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। किसी भी कुंडली के लग्न भाव से हम शरीर, व्यक्तित्व, स्वास्थ्य, चरित्र, बुद्धि आदि के बारे में विचार करते हैं। शुक्र के इस गोचर से आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव आएंगे आपके चरित्र में अच्छे गुण शामिल होंगे। आपको भाग्य का भी पूरा सहयोग प्राप्त होगा जिससे जीवन की कई कठिनाईयां दूर होंगी। यदि अपनी रचनात्मक प्रतिभा को अपने प्रोफेशन में बदलना चाहते हैं तो उसके लिए भी यह समय अच्छा है। इस राशि के लोग अपने करियर को बेहतर बनाने के लिए इस दौरान दृढ़-संकल्प रहेंगे। हालांकि आपको ज्यादा इच्छाएं नहीं रखनी चाहिए इससे आपका ध्यान कई दिशाओं में भटक सकता है। ध्यान के भटकने से किसी भी काम को आप पूरी तरह से नहीं कर पाएंगे। शुक्र के आपके लग्न में होने से आप का व्यवहार भी सुधरेगा जिसके चलते सामाजिक स्तर पर आपको मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। इस गोचर काल के दौरान आप आध्यात्म का सराहा लेकर अपने अंतर्मन के बारे में जानने की कोशिश कर सकते हैं। स्वास्थ्य में सकारात्मक बदलाव आएंगे और जीवन के रंगों का आप पूरी तरह से आनंद ले पाने में समर्थ होंगे।

उपाय- शुक्रवार के दिन घर या दफ्तर में शुक्र यंत्र की स्थापना करें।


कन्या

शुक्र ग्रह का गोचर आपकी राशि से द्वादश भाव में होगा। इस भाव को हानि का भाव कहा जाता है और इससे जीवन में आने वाली परेशानियों, खर्चों, विदेश आदि के बारे में विचार किया जाता है। कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र का यह गोचर चुनौतीपूर्ण रह सकता है।

इस गोचर के दौरान इस राशि के लोगों को अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा। यदि आप किसी बीमारी से परेशान हैं तो रेगुलर चेकअप कराते रहें छोटी सी समस्या को भी नजरअंदाज न करें। इसके साथ ही वाहन भी बहुत सावधानी से चलाएं। आर्थिक रुप से भी आपकी स्थिति कमजोर हो सकती है इसलिए आपको किसी को उधार देने से बचना चाहिए।

जो चीजें आपके पास हैं उनका सही इस्तेमाल और धन की बचत करने की कोशिश करें। यह गोचर उन लोगों के लिए अच्छा रह सकता है जो किसी विदेशी कंपनी में काम करते हैं या विदेशों से जुड़ा कोई व्यापार करते हैं।

उपाय- गाय की सेवा करें और उन्हें सफेद वस्तुएं जैसे पके हुए चावल खिलाएं।


कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

तुला

आपके लग्न और अष्टम भाव का स्वामी ग्रह शुक्र इस गोचर काल के दौरान आपके एकादश भाव में स्थित होगा। शुक्र के इस गोचर से आपके जीवन में कई सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे। इस राशि के जो लोग नौकरी पेशा से जुड़े हैं उन्हें अपने सीनियर्स का सहयोग प्राप्त होगा और उनसे सम्मान की प्राप्ति होगी। इसके साथ ही किसी दोस्त या रिश्तेदार से आपको अचानक उपहार की प्राप्ति हो सकती है।

इस दौरान आप महत्वकांक्षी हो सकते हैं और जो भी आप कर रहे हैं उससे बेहतर परिणामों की आस लगा सकते हैं। हालांकि आपको ऐसा करने से बचना चाहिए आप बस कर्म पर ध्यान दें उसका जो फल है वो आपको स्वयं मिल जाएगा। इस राशि के जो जातक प्रेम संबंधों में पड़े हैं उनके जीवन में रोमांस की अधिकता इस दौरान देखी जा सकती है। वहीं विवाहित जातकों के जीवन में भी सामंजस्य बना रहेगा।

शुक्र आपके अष्टम भाव का स्वामी है इसलिए इस दौरान आप गूढ़ विद्याएं सीखने की कोशिश कर सकते हैं। विद्यार्थियों के लिए भी यह समय अनुकूल रहेगा, नए विषयों को जानने में आपकी दिलचस्पी बढ़ेगी। स्वास्थ्य को दुरुस्त बनाए रखने के लिए इस दौरान योग-ध्यान इत्यादि का सहारा लें।

उपाय- आटे की लोई व गुड़ गाय को खिलाने से आपको शुभ फल प्राप्त होंगे।

वृश्चिक

मंगल के स्वामित्व वाली वृश्चिक राशि के जातकों के दशम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। इस भाव से आपके कर्म, नेतृत्व, व्यवसाय आदि के बारे में विचार किया जाता है। इस गोचर के दौरान आपको कार्यक्षेत्र में अपने वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग प्राप्त होगा लेकिन बावजूद इसके भी कुछ दिक्कतें आपको आ सकती हैं। आप जो बात अपने सहकर्मियों को समझाने की कोशिश करेंगे वो उन्हें उस तरह से नहीं समझ पाएंगे जैसे आप समझाना चाहते हैं।

इस राशि के जो जातक आयात-निर्यात के व्यवसाय में हैं उन्हें लाभ मिलने की पूरी संभावना है। कामकाज में बेहतरी के चलते आपकी आमदनी भी अच्छी होगी जिससे मानसिक चिंताएं दूर हो जाएंगी। वहीं जो लोग मीडिया या फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं उन्हें अपनी रचनात्मकता से लाभ हो सकता है। आपके काम को इस दौरान जनता द्वारा पसंद किया जाएगा। पारिवारिक जीवन भी अच्छा रहेगा।

शादीशुदा लोगों को उनके जीवनसाथी का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। हालांकि इस दौरान कुछ जातकों के खर्चों में वृद्धि होने की भी संभावना है इसलिए पहले से ही अच्छा बजट बनाकर चलेंगे तो बेवजह के खर्चों पर लगाम लगाने में आसानी होगी। स्वास्थ्य में आवश्यक बदलावों के लिए दिनचर्या में सुधार करें।

उपाय- शुक्रवार के दिन रिंग फिंगर में ओपल रत्न धारण करना आपके लिए शुभ रहेगा।

धनु

धनु राशि के जातकों के षष्ठम और एकादश भाव का स्वामी शुक्र का गोचर आपके नवम भाव में होगा। इस भाव से हम भाग्य, पिता, यात्राओं आदि के बारे में विचार करते हैं। शुक्र के इस गोचर के दौरान आपको थोड़ा संभलकर रहने की जरुरत है। ज्यादा बोलने से इस दौरान बचें।

पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो पिता के साथ आपके कुछ मतभेद इस दौरान हो सकते हैं जिसकी वजह से घर का माहौल भी खराब होगा। इस राशि के विद्यार्थियों के अपने गुरुजनों के साथ भी कुछ मतभेद होने की संभावना है। ऐसे समय में आपको यही सलाह दी जाती है कि चाहे वो गुरुजन हों या पिता बातचीत के दौरान अपनी सीमाओं का ध्यान रखें। इस राशि के शादीशुदा जातकों के लिए यह समय अच्छा रहेगा आप अपने जीवनसाथी के साथ अच्छा समय बिता पाएंगे।

इस राशि के जो जातक प्रारंभिक शिक्षा अर्जित कर रहे हैं उनके लिए यह गोचर शुभ साबित होगा, इस समय आप उन विषयों का भी अध्ययन करेंगे जिनमें आपकी पकड़ मजबूत नहीं है। स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो कोई बड़ी परेशानी आपको नहीं होगी। हालांकि आपके गलत खानपान की वजह से पेट से जुड़ी समस्याएं होने की संभावना है।

उपाय- अपने जीवनसाथी को खुश रखें, शुभ फल प्राप्त होंगे।

मकर

राशि चक्र के दशम राशि मकर के अष्टम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को आयुर भाव भी कहा जाता है और इससे जीवन में आने वाली परेशानियों, गूढ़ विषय, बाधा, पैतृक संपत्ति आदि के बारे में विचार किया जाता है। शुक्र का यह गोचर आपके लिए बहुत अनुकूल नहीं कहा जा सकता।

इस गोचर के दौरान आपको संतान पक्ष को लेकर चिंताएं हो सकती हैं। वो कैसी संगति में रहते हैं इसका आपको विशेष ध्यान रखना होगा। इसके साथ ही उनकी सेहत पर भी नजर बनाए रखने की जरुरत है। नौकरी पेशा लोगों को कार्यक्षेत्र में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है जिसके कारण मानसिक परेशानियां होंगी। अनावश्यक चिंताएं आपको घेरे रहेंगी और आप हल ढूंढ पाने में खुद को असमर्थ पाएंगे। ऐसी स्थिति में आपको घर के बड़े-बुजुर्गों से सलाह मशवरा करना चाहिए और हल ढूंढने की कोशिश करनी चाहिए।

हालांकि आर्थिक रुप से आपको इस दौरान ज्यादा परेशानियां नहीं आएंगी और जहां से पैसा मिलने की आपको उम्मीद नहीं थी वहां से भी आपको इस दौरान पैसा मिल सकता है। यदि यात्रा करते हैं तो यात्राओं के दौरान आपको अपने कीमती सामान पर ध्यान देने की जरुरत है। स्वास्थ्य को दुरुस्त रखने के लिए रोजाना ताजे फलों का सेवन करें।

उपाय- शुक्रवार के दिन सफेद वस्त्र पहनें आपको शुभ फल प्राप्त होंगे।

रंगीन बृहत कुंडली आपके सुखद जीवन की कुंजी

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के सप्तम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। इस भाव से साझेदार और जीवनसाथी के बारे में विचार किया जाता है। इस भाव में शुक्र के गोचर के दौरान आपको अपने जीवनसाथी का हर क्षेत्र में सहयोग मिलेगा और उनका भाग्योदय भी होगा। हालांकि छोटी-छोटी बातों को लेकर तू-तू मैं-मैं भी हो सकती है लेकिन इसका आपके दांपत्य जीवन पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।

इस राशि के जो जातक साझेदारी में व्यवसाय करते हैं उन्हें शुक्र के गोचर के दौरान लाभ होगा। आपकी कोई योजना इस दौरान सफल हो सकती है। इसके साथ ही साझेदार के साथ आपके संबंध भी मधुर बनेंगे। नौकरी पेशा से जुड़े लोग अपनी स्किल्स को सुधारने का निरंतर प्रयास करते नजर आएंगे। कुंभ राशि के जातकों के व्यक्तित्व में भी इस दौरान निखार देखने को मिल सकता है।

चूंकि शुक्र सौंदर्य का कारक ग्रह है इसलिए इस राशि की महिलाएं अपने सौंदर्य में निखार लाने के लिए धन खर्च करने से भी नहीं हिचकिचाएंगी। इस राशि के विद्यार्थियों के लिए भी यह गोचर अच्छा रहेगा अपने बुद्धि कौशल से आप जटिल विषयों को भी समझ पाएंगे। स्वास्थ्य पक्ष से भी आपको शुभ संकेत मिलने की उम्मीद है यदि किसी बीमारी से जूझ रहे थे तो उसमें इस दौरान आपको आराम मिल सकता है।

उपाय- देवी माता के किसी भी रुप की उपासना करना आपके लिए शुभ रहेगा।

मीन

मीन राशि के जातकों के षष्ठम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को अरि भाव भी कहा जाता है, यह भाव शत्रु, ऋण, विवाद, अधिनस्थ कर्मचारी आदि का कारक है। इस गोचर काल के दौरान इस राशि के जातकों को कार्यक्षेत्र में बहुत सावधानी से रहने की जरुरत है आपके विरोधी आपके खिलाफ इस दौरान साजिश कर सकते हैं।

स्वास्थ्य में भी गिरावट आ सकती है इसलिए छोटी से छोटी बीमारी भी हो तो तुरंत अच्छे चिकित्सक से सलाह मशवरा करें। मीन राशि के कुछ जातक इस गोचर काल के दौरान कमर दर्द से भी जूझ सकते हैं इसलिए अत्यधिक वजन उठाने से बचें। इस गोचर के दौरान बाहर का खाना खाने से भी आपको बचना चाहिए।

सामाजिक स्तर पर बातचीत के दौरान आपको शब्दों का चयन बहुत सोच समझकर करने की आवश्यकता है। बेवजह के वाद-विवाद से जितना दूर रहेंगे उतना ही आपके लिए अच्छा रहेगा। यदि आपको लगता है कि लोग आपको उकसाने की कोशिश कर रहे हैं तो कुछ बोलने से बेहतर होगा कि आप उनसे दूर हो जाएं। आर्थिक रुप से कुछ कमजोर हो सकते हैं लेकिन ऐसे समय में आपको चिंता करने से ज्यादा मेहनत करने की जरुरत है।

उपाय- शुक्रवार के दिन शुक्र बीज मंत्र का जाप करने से जीवन की कई परेशानियां हल होंगी।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।