• Talk To Astrologers
  • Talk To Astrologers
  • Talk To Astrologers
  • Brihat Horoscope
  • Personalized Horoscope 2024
  • Live Astrologers

बुध धनु राशि में मार्गी (18 जनवरी 2023)

बुध धनु राशि में मार्गी: ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों की मार्गी और वक्री दोनों की स्थितियों का विशेष महत्व है और इसी क्रम में, बुध 18 जनवरी 2023 की शाम 06 बजकर 18 मिनट पर धनु राशि में मार्गी हो जाएंगे। लेकिन आगे बढ़ने से पहले आपको पता होना चाहिए कि वक्री और मार्गी अवस्था होती क्या है? जब कोई ग्रह विपरीत दिशा में चलता हुआ प्रतीत होता है तो उसे वक्री अवस्था कहा जाता है। हालांकि, ऐसा वास्तव में नही होता है क्योंकि कोई ग्रह उल्टी दिशा में नहीं चलता है।

बुध धनु राशि में मार्गी: जानें, 12 राशियों पर इसका प्रभाव!

लेकिन वैदिक ज्योतिष में वक्री गति को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है जो लोगों के जीवन को अत्यधिक प्रभावित करती है। ज्योतिष शास्त्र में किसी ग्रह के मार्गी होने का अर्थ होता है जब वह अपनी उल्टी चाल से सीधी चाल में आ जाता है। साथ ही मार्गी अवस्था लोगों को वक्री गति के प्रभावों से मुक्ति दिलाती है।

एस्ट्रोसेज के इस विशेष बुध धनु राशि में मार्गी आर्टिकल में हम आपको जानकारी प्रदान करेंगे कि बुध के धनु राशि में मार्गी होने से सभी 12 राशियों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा? साथ ही, हम आपको बुध ग्रह के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के उपाय भी प्रदान करेंगे। आइये सबसे पहले जानते हैं बुध ग्रह का ज्योतिषीय महत्व।

Read in English: Mercury Direct in Sagittarius (18 Jan 2023)

वैदिक ज्योतिष में बुध का ज्योतिषीय महत्व

ज्योतिष में बुध को ग्रहों के राजकुमार की संज्ञा दी गई है जो बुद्धिमान, जिज्ञासु और संवाद में माहिर एक युवा है। 12 राशियों में बुध को मिथुन और कन्या का स्वामित्व प्राप्त हैं और ये बुद्धि, याददाश्त, सीखने की क्षमता, वाणी और संवाद को नियंत्रित करते हैं। इसके अलावा बुध को कॉमर्स, बैंकिंग, शिक्षा, बातचीत, लेखन, किताबें, मीडिया आदि का कारक माना गया है।

और अब 18 जनवरी 2023 को बुध धनु राशि में मार्गी होने जा रहे हैं और इस राशि को समृद्धि, प्रेरणा, बुद्धि और सौभाग्य की राशि माना जाता है। ऐसे में, यह अवधि दार्शनिकों, सलाहकारों, गुरुओं आदि के लिए श्रेष्ठ होगी क्योंकि इस दौरान ये लोग आसानी से दूसरों को प्रभावित करने में सफल रहेंगे।

यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी व्यक्तिगत चन्द्र राशि अभी जानने के लिए चंद्र राशि कैलकुलेटर का उपयोग करें।

बुध धनु राशि में मार्गी: राशि अनुसार राशिफल और उपाय

अब आगे बढ़ते हैं और राशि अनुसार जानते हैं कि बुध के धनु राशि में मार्गी होने से सभी राशियों पर इसका कैसा प्रभाव पड़ेगा और किन उपायों की मदद से आप बुध ग्रह से शुभ परिणामों को प्राप्त कर सकते हैं।

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए बुध आपके तीसरे और छठे भाव के स्वामी हैं जो आपके नौवें भाव में मार्गी होंगे। यह भाव धर्म, पिता, राजनीति, नेता, लंबी यात्रा, भाग्य और तीर्थ स्थल का भाव है। ऐसे में, बुध के धनु राशि में मार्गी होने से इन जातकों को उन सभी समस्याओं से राहत मिलेगी जिनका सामना ये स्वास्थ्य, पेशेवर जीवन और संवाद के क्षेत्र में कर रहे थे। अगर आप लंबे समय से नौकरी में बदलाव करने की सोच रहे थे लेकिन किसी न किसी वजह से ऐसा कर नहीं पा रहे थे तो यह अवधि नौकरी में बदलाव के लिए अनुकूल साबित होगी। तीसरे भाव पर बुध की दृष्टि आपको भाई-बहनों, चाचा-मामा के बच्चों और दोस्तों के साथ घूमने-फिरने के अवसर प्रदान करेगी।

उपाय: प्रतिदिन तुलसी के पौधे को पानी दे और नियमित रूप से एक पत्ते का सेवन करें।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध आपके दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी हैं और ये आपके आठवें भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। आठवें भाव में बुध की स्थिति को ज्यादा अच्छा नहीं माना जा सकता है और ऐसे में, धनु राशि में मार्गी बुध वृषभ राशिवालों को जीवन में चल रही परेशानियों से पूरी तरह राहत प्रदान करने में असफल रह सकते हैं। इसलिए आपको अपनी सेहत का ध्यान रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि आपको यूटीआई, एलर्जी या संक्रमण जैसी समस्याएं परेशान कर सकती हैं। साथ ही, शारीरिक साफ़-सफाई का भी ध्यान रखें। हालांकि, बुध अपनी ही राशि मिथुन के दूसरे भाव को देख रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप आपके धन-धान्य और बैंक-बैलेंस में भी वृद्धि होगी।

उपाय: ट्रांसजेंडर का आदर करें और संभव हो तो, उन्हें हरे रंग के कपड़े और चूड़ियों का दान करें।

मिथुन राशि

बुध आपके लग्न और चौथे भाव के स्वामी हैं और अब ये आपके सातवें भाव में मार्गी होने जा रहे हैं जो जीवनसाथी और बिज़नेस पार्टनरशिप का भाव है। ऐसे में, बुध की मार्गी अवस्था इन जातकों के लिए अनुकूल परिणाम लेकर आएगी। मिथुन राशि के जातक यदि बुध की वक्री अवस्था के कारण स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे थे तो अब उनसे छुटकारा मिलेगा। साथ ही, आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। बुध की लग्न भाव पर दृष्टि पड़ने से इन जातकों का व्यक्तित्व आकर्षक बनेगा।

मिथुन राशि के जो जातक विवाह बंधन में बंधना चाहते हैं तो ऐसा करने के लिए ये समय अनुकूल है। इस दौरान आप अपने लिए योग्य जीवनसाथी की खोज़ को पुनः शुरू कर सकते हैं। इसमें आपको आपकी माता का साथ भी मिलेगा और यदि आप किसी को पसंद करते हैं तो आप उन्हें अपने परिवार से मिलवा सकते हैं। साथ ही, शादी की तारीख़ निर्धारित कर सकते हैं। वहीं, इस राशि के विवाहित जातक जो पार्टनर के साथ किसी बहस या गलतफहमी का सामना कर रहे हैं तो अब आपकी परेशानियों का अंत होगा और आप पार्टनर के साथ आनंददायक लम्हें बिताएंगे।

उपाय: बेडरूम में पौधा लगाएं।


करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

कर्क राशि

बुध आपके बारहवें और तीसरे भाव के स्वामी हैं जो आपके छठे भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। ये शत्रु, स्वास्थ्य, प्रतियोगिता और मामा का भाव है। बुध धनु राशि में मार्गी होने से आपको मिले-जुले परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। यदि हम इस राशि के नौकरीपेशा जातकों की बात करें तो ये समय आपके लिए अच्छा रहेगा और इस दौरान आप प्रगति की उम्मीद कर सकते हैं। कर्क राशिवालों के लिए बुध की छठे भाव में स्थिति ज्यादा अनुकूल नहीं होगी और ऐसे में, आपको मधुमेह, पाचन या लीवर से जुड़ी समस्याएं घेर सकती हैं। इस समय आपको चिकित्सा या किसी यात्रा पर धन खर्च करना पड़ सकता है।

उपाय: प्रतिदिन गाय को हरा चारा खिलाएं।

सिंह राशि

सिंह राशिवालों के लिए बुध आपके दूसरे और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं और ये दोनों धन के भाव हैं। बुध आपके पांचवें भाव में मार्गी होने जा रहे हैं और ये भाव शिक्षा, प्रेम संबंध, बच्चे आदि का प्रतिनिधित्व करता है, साथ ही ये पूर्व पुण्य भाव भी है। ऐसे में, बुध की वक्री अवस्था का अंत होने से इन लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार आ सकता है क्योंकि बुध पांचवें भाव से आपके धन लाभ, इच्छा और सामाजिक मेलजोल के भाव यानी ग्यारहवें भाव पर दृष्टि डाल रहे हैं। इस प्रकार, इस राशि के जातक नए लोगों से संपर्क स्थापित करने और बुध की वक्री अवस्था के कारण संवाद की वजह से उत्पन्न हुई गलतफहमियों को दूर करने में ही व्यस्त नज़र आएंगे। जो जातक अपने रिलेशनशिप में समस्याओं का सामना कर रहे हैं वे उनका समाधान ढूंढने में सफल रहेंगे। इस राशि के जो छात्र मास कम्युनिकेशन, लेखन या कोई नई भाषा सीख रहे हैं उनके लिए बुध की ये स्थिति फलदायी होगी।

उपाय: शुक्रवार के दिन देवी सरस्वती की पूजा करें और उन्हें लाल रंग के पांच फूल अर्पित करें।


आपकी कुंडली के शुभ योग जानने के लिये अभी खरीदें एस्ट्रोसेज बृहत् कुंडली

कन्या राशि

आपके दसवें और लग्न भाव के स्वामी बुध माता, घरेलू जीवन, घर, वाहन, संपत्ति के भाव यानी चौथे भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। ऐसे में बुध धनु राशि में मार्गी होकर घर परिवार या माता के साथ चल रही सभी समस्याओं का समाधान करेंगे। बुध की वक्री अवस्था के समाप्त होने से आपकी सेहत और व्यवहार में भी सुधार देखने को मिलेगा। इसके परिणामस्वरूप आप ऊर्जावान महसूस करेंगे। यदि आप वाहन, घर में उपयोग होने वाले उपकरण या फिर गैजेट्स के बार-बार ख़राब होने की समस्याओं का सामना कर रहे थे तो अब आपको उनसे छुटकारा मिलेगा। पेशेवर जीवन में चल रहे मुद्दे सुलझेंगे और इस दौरान आप प्रगति की उम्मीद कर सकते हैं।

उपाय- विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श करने के बाद बुधवार के दिन 5-6 कैरेट का पन्ना पंचधातु या सोने की अंगूठी में धारण करें। संभव न हो तो हरे रंग का रुमाल हमेशा अपने पास रखें।

तुला राशि

तुला राशि वालों के लिए बुध आपके नौवें और बारहवें भाव के स्वामी हैं जो अब आपके तीसरे भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। तीसरे भाव को भाई-बहन, रूचि, छोटी यात्राओं और संवाद का भाव माना गया है। इस राशि वालों के लिए बुध की वक्री अवस्था के साथ ही इनके जीवन में चल रही संवाद से जुड़ी समस्याओं का भी अंत होगा। तुला राशि के लेखकों और मीडिया क्षेत्र में काम करने वाले जातकों के लिए भी अच्छे समय का आगाज़ होगा क्योंकि बुध की वक्री गति की वजह से ये लोग समय पर कार्य पूरा करने में असफल हो रहे थे। धनु राशि में बुध के मार्गी होने से छोटे भाई-बहनों के साथ चल रहे विवादों का समाधान होगा। साथ ही, तीसरे भाव में बैठे बुध आपके नौवें भाव पर दृष्टि डाल रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप आपको अपने पिता और गुरु का समर्थन प्राप्त होगा।

उपाय: बुधवार के दिन घर पर तुलसी का पौधा लगाएं और उसकी पूजा करें।

वृश्चिक राशि

बुध आपके आठवें और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं जो अब आपके परिवार, बचत और भाषण के भाव यानी कि दूसरे भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। ऐसे में, बुध धनु राशि में मार्गी होने से इन जातकों को बातचीत, धन और परिवार के सदस्यों के साथ चल रहे विवादों आदि समस्याओं से राहत मिलेगी। हालांकि, ये अवधि धन कमाने और उसकी बचत करने की दृष्टि से फलदायी रहेगी। संभव है कि आप पार्टनर के साथ मिलकर कोई निवेश करें इसलिए ये समय धन संबंधित मामलों के लिए अच्छा रहेगा लेकिन बुध आपके आठवें भाव के स्वामी हैं। ऐसे में, आपको थोड़ा सावधान रहना होगा क्योंकि गले में खराश जैसी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं।

उपाय: बुध के बीज मंत्र का जाप करें।


बृहत् कुंडली: जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

धनु राशि

बुध आपके सातवें और दसवें भाव के स्वामी हैं जो अब आपके लग्न भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। यदि बुध पहले भाव में विराजमान हो तो इस स्थिति को सबसे शुभ स्थितियों में से एक माना जाता है। इस भाव में बुध के बैठे होने से जातकों को आकर्षक और हंसमुख व्यक्तित्व की प्राप्ति होती है। लेकिन वक्री बुध की वजह से धनु राशि के जातकों को इस शुभ स्थिति का पूर्ण फल नहीं मिल पा रहा था और इसके परिणामस्वरूप उन्हें आत्मविश्वास की कमी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था। अब बुध की वक्री अवस्था के समाप्त होने से जातकों को निजी और पेशेवर जीवन में शुभ फलों की प्राप्ति होगी। वहीं, जो लोग डाटा साइंटिस्ट, आयात-निर्यात, वार्ताकार, बैंकिंग, मीडिया, कम्युनिकेशन और व्यापार आदि क्षेत्रों से संबंध रखते हैं उनके लिए यह अवधि अनुकूल साबित होगी। सातवें भाव पर बुध की दृष्टि होने से पार्टनरशिप में सुधार देखने को मिलेगा और आपको अपने पार्टनर का पूरा साथ मिलेगा। बुध के धनु राशि में मार्गी की अवधि के दौरान इस राशि के शादीशुदा जातक पार्टनर के साथ प्रेमपूर्ण और शांतिपूर्ण संबंधों का आनंद लेंगे।

उपाय: भगवान गणेश की पूजा करें और उन्हें दूर्वा अर्पित करें।

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए बुध आपके छठे और नौवें भाव के स्वामी हैं और अब ये आपके बारहवें भाव में मार्गी हों जाएंगे। बारहवें भाव को विदेशी भूमि, अलगाव, अस्पताल, खर्चें, विदेशी कंपनी जैसे एमएनसी आदि का कारक माना गया है। बारहवें भाव में बुध के मार्गी होने के बावजूद भी बुध की इस भाव में उपस्थिति होने से जातकों को मिश्रित परिणामों की प्राप्ति होगी। यदि आप पेशेवर जीवन में किसी तरह के बदलाव के बारे में सोच रहे हैं जैसे कंपनी बदलना या विदेश जाने आदि के इच्छुक हैं तो यह अवधि आपकी उम्मीदों पर खरी उतर सकती है। लेकिन अगर किसी दशा या किसी कारण की वजह से ऐसा नहीं होता है तब भी आपको काम के सिलसिले में यात्रा करनी पड़ सकती है। दूसरी तरफ, बुध धनु राशि में मार्गी होने से इन लोगों को अपने पिता की सेहत को लेकर सतर्क रहना होगा इसलिए समय-समय पर उनका चेकअप कराएं। अगर आप इन खर्चों को टालने की कोशिश करेंगे तो ये धन आपको कहीं और खर्च खर्च करना पड़ सकता है।

उपाय: बुधवार के दिन गायों को हरा चारा खिलाएं।

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध आपके पांचवें और आठवें भाव के स्वामी हैं और अब ये आपके ग्यारहवें भाव में मार्गी होने जा रहे हैं। यह भाव आर्थिक लाभ, इच्छा, बड़े भाई-बहन और चाचा आदि का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसे में, ग्यारहवें भाव में बुध की स्थिति को अच्छा कहा जा सकता है और इसके परिणामस्वरूप आपको सट्टे या निवेश के माध्यम से धन लाभ के योग बनेंगे क्योंकि बुध आपके पांचवें और आठवें भाव के स्वामी हैं। बुध ग्यारहवें भाव से आपके पांचवें भाव पर दृष्टि डाल रहे हैं इसलिए ये समय छात्रों के लिए शानदार रहेगा, विशेष रूप से उन छात्रों के लिए जो मास कम्युनिकेशन, लेखन और कोई भाषा का कोर्स कर रहे हैं। प्रेमी जोड़ें पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताएंगे और जो महिलाएं संतान प्राप्ति की चाह रखते हैं इस दौरान वे गर्भधारण कर सकती हैं।

उपाय: छोटे बच्चों को हर रंग की कोई वस्तु दान करें।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए बुध चौथे और सातवें भाव के स्वामी हैं जो अब आपके प्रोफेशन, कार्यक्षेत्र के भाव यानी कि दसवें भाव में मार्गी होने जा रहे हैं और ऐसे में, वक्री बुध के कारण मीन राशि के जातक जो अपने पेशेवर जीवन में समस्याओं का सामना कर रहे थे अब उनका अंत हो जाएगा। बुध धनु राशि में मार्गी होकर इन जातकों को पेशेवर जीवन में तरक्की का आशीर्वाद प्रदान करेंगे। साथ ही, इन्हें नाम और प्रसिद्धि की भी प्राप्ति होगी। इस अवधि के दौरान व्यापार में बढ़ोतरी होगी और बिज़नेस बुलंदियां हासिल करेगा। आपके दसवें भाव से बुध की दृष्टि चौथे भाव पर पड़ रही है जो घरेलू जीवन और खुशियों का भाव है। इसके परिणामस्वरूप आपका पारिवारिक जीवन खुशियों से भरा रहेगा। यदि आप सिंगल हैं तो संभावना है कि आप कार्यक्षेत्र में किसी के साथ प्रेम में पड़ सकते हैं। जो लोग पहले से शादीशुदा हैं लेकिन गलतफहमियों की वजह से वैवाहिक जीवन में समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो अब उन परेशानियों का निवारण हो जाएगा।

उपाय: घर और कार्यस्थल पर बुध यंत्र की स्थापना करें और उसका पूजन करें।


सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।