• Arun
  • Biren
  • Debolina
  • Vinutha

मंगल का मिथुन राशि में गोचर: जानें प्रभाव और राशिफल

ऊर्जा, भाई, भूमि, शक्ति, साहस, पराक्रम, शौर्य का कारक, माने जाने वाले लाल ग्रह मंगल 14 अप्रैल 2021, बुधवार को सुबह 01बजकर 16 मिनट पर मिथुन राशि में गोचर करेगा और, वो वहां उसी अवस्था में 02 जून 2021, बुधवार की सुबह 06 बजकर 39 मिनट तक इसी राशि में स्थित रहेगा। ऐसे में मंगल के इस गोचर का प्रभाव, सभी 12 राशियों पर किसी न किसी रूप से अवश्य ही पड़ेगा। तो चलिए इस राशिफल के ज़रिए जानते हैं, मंगल के गोचर का आपकी राशि पर होने वाला प्रभाव।

एस्ट्रोसेज वार्ता से हमारे प्रमाणित ज्योतिषियों से अब कभी भी फोन पर बात करें

Click here to read in English: Mars Transit in Gemini

यह भविष्यफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैलकुलेटर

मंगल का मिथुन राशि में गोचर

मेष राशिफल

मंगल ग्रह आपकी राशि के लग्न भाव और आठवें भाव के स्वामी होते हैं। अब अपने इस गोचर के दौरान, वो आपकी राशि से तृतीय भाव में विराजमान होंगे। काल पुरुष कुंडली के अनुसार तीसरा भाव भाई-बहन, साहस, पराक्रम, संवाद और यात्रा को दर्शाता है। ऐसे में आपको इस दौरान अपने जीवन में, कई शुभ बदलाव और परिणाम प्राप्त होने के योग बनेंगे।

इस समय आप उन सभी कार्यों को करने के लिए तत्पर दिखाई देंगे, जिन्हें करने में अधिक साहस और पराक्रम की आवश्यकता हो। क्योंकि इस दौरान आपके अंदर उर्जा, साहस और धैर्य की भरमार रहेगी। जिसके चलते कार्य क्षेत्र पर पूर्व के सभी लंबित पड़े कार्यो को भी, आप बेहद आसानी से पूरा करते दिखाई देंगे। नए व्यवसाय की शुरुआत के लिए भी, समय उत्तम ही रहने वाला है।

चूँकि इस गोचर के समय, मंगल की आपके दशम भाव पर भी दृष्टि होगी। इसके चलते कार्यस्थल पर आप पहले से अधिक संगठित और व्यवहारिक दिखाई देंगे। जिससे आपको उच्च पद, प्रतिष्ठा और प्रोत्साहन की प्राप्ति भी होगी। वहीं नई नौकरी की तलाश कर रहे जातकों और व्यापारी जातकों को, अपने-अपने क्षेत्रों में इच्छानुसार फलों की प्राप्ति होने के भी योग बनेंगे।

वो व्यापारी जातक जो नया व्यवसाय शुरू करने का सोच रहे थे, उनके लिए भी समय शुभ रहेगा। हालांकि आपको सलाह दी जाती है कि कार्यस्थल पर, हर तरह के विवाद या मतभेद से खुद को दूर ही रखें। अन्यथा आप किसी परेशानी में डालते हुए खुद को, कई शुभ अवसरों का लाभ उठाने से भी वंचित कर सकते हैं। साथ ही केवल उसी कार्य की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर ले, जिसे आप पूरा कर सकें। अर्थात किसी भी कार्य के प्रति झूठा वादा करने से बचें, अन्यथा आपकी छवि को नुकसान पहुंच सकता है।

पारिवारिक जीवन के लिए समय अनुकूल रहेगा, क्योंकि इस दौरान आप अपने भाई-बहनों से चल रहे अपने हर विवाद को हल करने में सफल होंगे। वहीं मंगल देव की यह शुभ स्थिति प्रेमी जातकों को अपने प्रेमी के समक्ष, अपनी हर भावनाओं को व्यक्त करने में मदद करेगी। जिससे आपको प्रेमी से सकारात्मक परिणाम मिलने के योग बनेंगे।

स्वास्थ्य जीवन के लिहाज से भी, यह गोचर आपको अपने किसी पुराने रोग से हमेशा-हमेशा के लिए निजात दिलाने में मदद करेगा। हालांकि वाहन चलाने वाले जातकों को थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता होगी, क्योंकि आशंका है कि कुछ जातकों के साथ किसी प्रकार की कोई दुर्घटना हो।

कुल मिलाकर कहें तो, मंगल का यह गोचर आपके लिए सामान्य से बेहतर रहेगा। हालांकि बावजूद इसके आपको हर अवसर का उचित लाभ उठाने के लिए, धैर्य बनाते हुए किसी भी निर्णय को जल्दबाजी में लेने से बचने की सलाह दी जाती है।

उपायः मंगल की होरा के दौरान, प्रतिदिन मंगल के मंत्रों का जप करें।

वृषभ राशिफल

पराक्रम का कारक ग्रह मंगल, आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेगा। जो बचत, वाणी, भाषा और परिवार का भाव होता है। ऐसे में मंगल के इस गोचर से वृषभ राशि के जातकों को आर्थिक लाभ मिलने के योग बनेंगे। इस दौरान आप अपने पूर्व में किए गए हर निवेश ,से अच्छा मुनाफ़ा अर्जित करने में भी सफल होंगे।

नौकरी पेशा वो जातक जो, लंबे समय से पदोन्नति और वेतन वृद्धि की उम्मीद कर रहे थे, उन्हें भी इस दौरान इच्छानुसार लाभ मिलेगा। साथ ही आयात-निर्यात या किसी भी विदेशी संबंधी व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों को भी, इस समय उत्तम फलों की प्राप्ति होगी।

हालांकि आपकी आय में वृद्धि के साथ ही, आपके ख़र्चों में भी अचानक से बढ़ोतरी देखी जाएगी। इसलिए अपनी आय और ख़र्चों के बीच सही तालमेल बिठाते हुए, योजनानुसार ही अपना धन खर्च करें।

चूँकि मंगल आपके पंचम भाव को भी दृष्टि करेंगे, जिसके चलते बीच-बीच में आपके जीवन में आ रहे बदलाव आपके स्वभाव में कठोरता और क्रोध की वृद्धि करेंगे। जिसके परिणामस्वरूप आपको अपनी उन्नति में बाधा महसूस होगी, इसलिए अपने सभी परिवर्तनों के प्रति अधिक अनुकूलता बरतते हुए, सभी अफसरों से बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए ही, अपने प्रयास जारी रखें।

इसके साथ ही आपको कार्यस्थल पर, अपने वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत के समय अधिक चतुराई और कूटनीतिक व्यवहार करने की जरूरत होगी। क्योंकि अक्सर आप उनसे संवाद करते वक्त अधिक स्पष्ट और गंभीर दिखाई देते हैं, जिससे आपको विपरीत परिणामों की प्राप्ति होती है। ऐसे में इस समय इस तरह की किसी भी परिस्थिति से बचने के लिए, अपने स्वभाव में चतुराई लाना, आपके लिए बेहतर विकल्प सिद्ध होगा।

प्रेम संबंधों की बात करें तो, वैवाहिक जातकों को इस दौरान अपने जीवन साथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करते हुए, उन्हें अपना सहयोग देने की आवश्यकता होगी। क्योंकि आपके जीवनसाथी को स्वास्थ्य हानि संभव है। वहीं परिवार के किसी भी सदस्य से बातचीत के समय, अपने शब्दों का चयन भी सोच-समझ कर करें। अन्यथा आप न चाहते हुए भी, उन्हें आहत कर सकते हैं।

चूँकि मंगल आपके पंचम भाव को दृष्टि कर रहा है, जो संतान और दांपत्य जीवन को दर्शाता है। ऐसे में आपको अपनी संतान के ऊपर किसी भी कार्य को थोपने की जगह, उनके सामने उस कार्य को लेकर एक ऐसा उदाहरण तेश करने की जरूरत होगी, जो उनके लिए उपयोगी सिद्ध हो। इससे आपको उनके साथ अपने रिश्ते भी बेहतर करने में मदद मिलेगी।

उपायः प्रतिदिन सुबह, भगवान कार्तिकेय की उपासना करें।

मिथुन राशिफल

आपकी राशि के लिए मंगल देव छठे और एकादश भाव के स्वामी होते हैं। और अब मंगल ग्रह आपकी ही राशि यानि आपके लग्न भाव में गोचर करेंगे। अत: इस गोचर का प्रभाव आप पर सबसे अधिक पड़ेगा। क्योंकि इससे आपको मिश्रित परिणामों की प्राप्ति होगी।

इस गोचर के दौरान मिथुन राशि के जातकों को, सबसे अधिक अपनी अपेक्षाओं को नियंत्रित करते हुए, अपने स्वभाव में बदलाव करने की सबसे अधिक आवश्यकता होगी। अन्यथा परिणाम आपकी उम्मीद के विपरीत आने पर, आपके स्वभाव में निराशा और आक्रामकता की वृद्धि हो सकती है। जिससे आपके व्यक्तिगत और कार्यक्षेत्र दोनों पर, आपको परेशानियों का सामना करना होगा पड़ेगा। क्योंकि इससे आप अत्यधिक गंभीर और भावनात्मक हो सकते हैं, परिणामस्वरूप आपके अधीन कार्य कर रहे कर्मियों के प्रति, आपका रवैया आपको उनका समर्थन देने से वंचित कर सकता है। इसलिए मिथुन राशि के जातकों को इस बात को भली-भांति समझने की आवश्यकता होगी कि, असली शक्ति इच्छाशक्ति या बल के माध्यम से नहीं, बल्कि विश्लेषण, अवलोकन और संचार के माध्यमों से ही प्राप्त की जा सकती है।

साथ ही मंगल देव आपके सप्तम भाव को भी दृष्टि करेंगे, जिससे वैवाहिक जातकों को अपने जीवन में कई प्रकार के उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ेगा। आप बिना किसी कारण भी छोटी-छोटी बात पर, अपने साथी के साथ विवाद या मतभेद करते दिखाई देंगे। इसलिए धैर्य रखें और अपने जीवन साथी के साथ बातचीत करते हुए, खुद को शांत रखना आपके लिए बेहद ज़रूरी होगा।

ये गोचरकाल आपके स्वभाव में क्रोध की उन्नति भी करेंगे, जिसके चलते स्वास्थ्य जीवन में आपको कई गंभीर समस्या जैसे: सूजन, सिरदर्द, रक्तचाप, आदि से जुड़ी परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए इस समय शारीरिक गतिविधियों जैसे: खेल-कूद, योग, आदि का सहारा लेते हुए, मंगल देव की ऊर्जा को सही दिशा में ले जानें की कोशिश करें। इससे आपको अपनी उर्जा को भी सकारात्मक दिशा में बढ़ाने में मदद मिलेगी, जिससे स्वास्थ्य जीवन भी पहले से बेहतर होता दिखाई देगा।

उपायः मंगलवार के दिन, तांबे का दान करें।

कर्क राशिफल

उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे या विदेश जाकर पढ़ाई करने का सपना देख रहे छात्रों को, मंगल के इस गोचर के दौरान शुभ समाचार प्राप्त होने के योग बनेंगे। चूंकि मंगल का गोचर आपकी राशि से द्वादश भाव में होगा। इसलिए मंगल देव आपके ख़र्चों में भी बढ़ोतरी का मुख्य कारण भी बनेंगे। ऐसे में अपनी आय और ख़र्चों के बीच सही तालमेल बिठाना, इस समय आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण कार्य रहेगा।

वो जातक जो किसी मल्टीनेशनल कंपनी या विदेशों से जुड़े संगठन में कार्यरत हैं, उन्हें भी गोचरकाल से अच्छे परिणाम मिलने की संभावना है। साथ ही व्यापारी जातक भी आयात-निर्यात या विदेशी संपर्कों से, बेहतर मुनाफ़ा अर्जित करने में सफल होंगे।

हालांकि आपको सलाह दी जाती है कि, अपनी हर प्रतिक्रिया पर नजर रखते हुए, इस अवधि के दौरान कार्यस्थल पर किसी से भी झगड़े में न पड़े। अन्यथा इससे आपकी शांति और कार्य क्षमता प्रभावित होंगी। वहीं कार्यक्षेत्र या व्यापार से संबंधित किसी भी अनावश्यक की यात्रा को करने से भी बचें, क्योंकि इस दौरान की गई हर यात्रा आपको नुकसान पहुंचाएगी।

गोचरकाल के समय, मंगल देव आपके तीसरे भाव को भी दृष्टि करेंगे, जो भाई-बहनों का भाव होता है। इसलिए आशंका है कि आपके भाई-बहनों को, मंगल देव किसी प्रकार की समस्या दें। साथ ही उन्हें अपने करियर और कार्यक्षेत्र पर भी, कई विपरीत परिस्थितियों से दो-चार होना पड़ सकता है ,ऐसे में उनके साथ समय व्यतीत करते हुए, उनका सहयोग करना आपके लिए बेहतर रहेगा।

चूँकि मंगल आपके सप्तम भाव (वैवाहिक और साझेदारी) के भाव से, आपके छठे भाव में विराजमान है। इसलिए आशंका है कि आपके जीवन साथी को मानसिक तनाव, थकान या सेहत से जुड़ी कोई समस्या परेशान करें। ऐसे में उन्हें अपना प्रेम और स्नेह देते हुए, उनकी सही देखभाल करें।

आपकी सेहत की बात करें तो उसमें भी आपको बेचैनी और मानसिक चिंताओं के चलते, कुछ अनिंद्र की समस्या परेशान कर सकती हैं। इसलिए हर प्रकार की आक्रामकता और तनाव से दूर रहते हुए, योग, ध्यान और शारीरिक व्यायाम का सहारा लें। इससे आपकी सेहत में सकारात्मक बदलाव आएँगे, जिससे आपका स्वास्थ्य भी बेहतर हो सकेगा।

उपायः मंगलवार के दिन तांबे या सोने में, अच्छी गुणवत्ता वाला लाल मूंगा पहनें। इससे आपको लाभकारी परिणाम प्राप्त होंगे।

मूंगा बनाएगा कमजोर मंगल को बली- यहाँ क्लिक कर पढ़ें

सिंह राशिफल

सिंह राशि के जातकों के लिए मंगल एक “योगकारक” ग्रह होता है, और अब मिथुन राशि में अपने गोचर के दौरान मंगल आपके एकादश भाव में विराजमान होगा। जो लाभ भाव भी होता है। ऐसे में आपको उत्तम फलों की प्राप्ति होगी।

कार्यस्थल पर आप हर कार्य को, अपनी मेहनत और लगन से पूरा करने में सफल होंगे। जिसके परिणामस्वरूप आपके प्रयासों को, भरपूर प्रशंसा और मान्यता की प्राप्ति भी होगी।

इसके साथ ही मंगल देव आपके छठे भाव को भी दृष्टि करेंगे, जिसके कारण आप इस दौरान अपनी हर बाधा और अपने दुश्मनों से भी पार पाने में सक्षम होंगे। वो नौकरी पेशा जातक जो, अपने पसंदीदा पदों पर पदोन्नति या स्थानांतरण के इच्छुक थे, उन्हें भी इस अवधि के दौरान शुभ फलों की प्राप्ति होगी।

साथ ही यदि आप अपनी नौकरी में अच्छे बदलाव के अवसर तलाश रहे थे, तो आपको कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा। कुल मिलाकर कहें तो इस समय, आप अपने पूर्व के सभी अधूरे पड़े कार्यो को गति के साथ बिना किसी बाधा के पूरा करते दिखाई देंगे।

व्यापारी जातकों की बात करें तो, इस समय वह अपनी रणनीति बनाते हुए, उससे अच्छा लाभ और मुनाफ़ा हासिल करने में सक्षम होंगे। साथ ही वो व्यापारी जातक जो पार्टनरशिप या पारिवारिक व्यवसाय से जुड़े हैं, उन्हें भी इस दौरान भरपूर सफलता मिलने की संभावना है।

पारिवारिक जीवन में भी भाई-बहनों से भरपूर समर्थन और स्नेह प्राप्त होगा। साथ ही वो अपने कार्य क्षेत्र में भी, बेहतर करते दिखाई देंगे। घर-परिवार में किसी मांगलिक या शुभ कार्यक्रम का आयोजन संभव है, जिससे आपको स्वादिष्ट भोजन खाने का अवसर मिलेगा। समाज में भी आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। साथ ही कुछ पुराने दोस्तों के साथ, आपके रिश्ते और अधिक मजबूत होंगे। इस अवधि के दौरान कुछ जातकों को नए दोस्त बनाने के भी, कई अवसर प्राप्त होने की उम्मीद है।

आर्थिक जीवन के लिहाज से आपको पूर्व में किए गए हर निवेश से, इस समय अच्छा लाभ प्राप्त होगा। साथ ही कमीशन के आधार पर भी, आप धन लाभ कर सकेंगे। यदि आप आर्थिक जीवन के संदर्भ में कोई रणनीति तैयार करना चाहते हैं तो, उसके लिए समय अच्छा रहेगा। वहीं यदि कोई मामला कोर्ट-कचहरी में निलंबित पड़ा था तो, उसका फैसला इस समय आपके पक्ष में आने की संभावना अधिक है।

स्वास्थ्य जीवन के लिहाज से, आपकी जीवनशैली और उत्साह में वृद्धि होगी। जिससे आप हर संक्रमण से निजात पाते हुए, अपनी पूर्व की किसी बीमारी से उबरने में भी सफल होंगे।

उपायः गोचर के शुभ फल पाने के लिए मंगलवार और शनिवार के दिन, भगवान हनुमान की पूजा करें।

कन्या राशिफल

मंगल का गोचर कर्म भाव यानि आपके दशम भाव में होगा। जो कार्य क्षेत्र और करियर का भाव होता है। ऐसे में मंगल देव आपको अनुकूल फल देने का कार्य करेंगे। इसके साथ ही मंगल देव आपके तीसरे और अष्टम भाव के स्वामी होते हैं, और इस दौरान वो आपकी राशि में 'दिग्बली अवस्था' में विराजमान होंगे। इसलिए नौकरी पेशा लोगों के लिए, यह गोचर खासा अच्छा रहेगा। क्योंकि इस दौरान कार्यस्थल पर, आपकी महत्वाकांक्षाओं में वृद्धि होगी। जिससे आपकी उन्नति होने के योग बनेंगे।

कार्यस्थल पर आपको इस गोचर के दौरान, कई नई जिम्मेदारियां भी मिल सकती हैं, जिससे आपकी मान्यता और कद में निरंतर बढ़ोत्तरी देखी जाएगी। जहाँ मंगल देव नौकरी पेशा जातकों को नए अवसर देंगे, तो वहीं व्यापारी जातकों को भी व्यापार में विस्तार और वृद्धि करने में मदद मिलेगी। सरकार या कोई सरकारी अधिकारी भी अपना सहयोग देते हुए, आपके व्यवसाय में विस्तार करने में खासा मददगार साबित हो सकता है।

हालांकि बीच-बीच में मंगल देव की दृष्टि के चलते, आप विपरीत परिणामों के बारे में सोचकर कुछ बेचैनी और अशांति महसूस कर सकते हैं। जिससे आपके स्वभाव में क्रोध की भी वृद्धि होगी। इसके परिणामस्वरूप आप पहले से ही प्राप्त उपलब्धियों और अच्छे अवसरों से खुद को वंचित कर सकते हैं। इसलिए अपने स्वभाव में बदलाव करते हुए, अपने गुस्से को शांत रखकर ही किसी भी कार्य को करें।

इसके साथ ही गोचरकाल के दौरान कार्यों के प्रति अपनी प्रतिबद्धताओं के कारण, आप अपने परिवार और जीवन साथी को पर्याप्त समय देने में असमर्थ होंगे। इससे परिवार का माहौल थोड़ा अशांत दिखाई देगा। ऐसे में आपको अपनी सभी जिम्मेदारियों को समझते हुए, अपने कार्य और परिवार के बीच सही तालमेल बिठाने की आवश्यकता होगी।

चूँकि आपके अष्टम भाव के स्वामी मंगल, इस समय आपके दशम भाव में विराजमान होंगे, जो पिता को दर्शाता है। ऐसे में आपको अपने पिता की सेहत को लेकर भी सतर्क रहने की जरूरत होगी, क्योंकि आशंका है कि उन्हें स्वास्थ्य हानि हो। जिससे आपको भी कुछ मानसिक तनाव से दो-चार होना पड़ सकता है।

स्वास्थ्य जीवन के लिहाज से, समय बेहतर दिखाई दे रहा है। हालांकि बावजूद इसके आपको अपने स्वभाव में आने वाली हर आक्रामक उर्जा को उपयोग करते हुए, उसे शारीरिक व्यायाम और योग में लगाने की आवश्यकता होगी। इसके लिए आप रोज़ाना करीब 30 मिनट तक चल सकते हैं। तभी इससे आपकी आक्रामक उर्जा को सही दिशा मिलने में मदद मिलेगी।

उपायः मंगलवार के दिन, मंगल यंत्र की पूजा और आराधना करें।


क्या हैं आपके जीवन की ख़ास बातें? जानने के लिए खरीदें बृहत् कुंडली

तुला राशिफल

मंगल ग्रह आपकी राशि के दूसरे और सप्तम भाव के स्वामी होते हैं। अब अपने इस गोचर के दौरान वो, आपकी राशि से नवम भाव में विराजमान होंगे। जो भाग्य और आध्यात्मिकता का भाव होता है।

साथ ही आपके धन भाव के स्वामी मंगल, आपके नवम भाव में मौजूद होते हुए, स्वयं से आठवें भाव में होंगे। ऐसे में आपको अपनी सेहत और परिवार के ऊपर, अपना धन खर्च करना पड़ेगा। इसके साथ ही आपको इस समय हर प्रकार की यात्रा करने से भी बचना होगा, अन्यथा आपके तनाव और थकान में वृद्धि होने के योग बनेंगे। कुछ नौकरी पेशा जातकों का उनकी इच्छा के विपरीत, स्थानांतरण या ट्रांसफर भी संभव है।

व्यापारी जातकों को भी, अभी हर प्रकार के नए निवेश से बचने की सलाह दी जाती है। हालांकि अगर बहुत जरूरी हो तो, किसी विशेषज्ञों और बड़ों की सलाह के बाद ही किसी पर भी भरोसा करें। आपका अपने वरिष्ठ और बड़े बुजुर्गों के साथ भी, कुछ विचारों का मतभेद संभव है। हालांकि आपको हर परिस्थिति में खुद को शांत रखते हुए, हर प्रकार के विवाद से दूर रहने की ज़रूरत होगी।

पिता के साथ भी कुछ मतभेद उत्पन्न होगा, जिससे परिवार का वातावरण अशांत हो सकता है। ऐसे में घर की शांति के लिए, उनसे संवाद के दौरान विशेष सावधानी बरतें।

यदि आप विवाहित हैं तो, आपको अपने जीवनसाथी से लाभ और मुनाफ़ा होने की भी संभावना है। क्योंकि यह समय आपके साथी को नौकरी या व्यवसाय में पदोन्नति व वेतन वृद्धि देगा। जिसके परिणामस्वरूप आपकी भी, विलासिता और सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी होगी।

मंगल की यह स्थिति दर्शा रही है कि, आप अपने धार्मिक विश्वासों और विचारों को लेकर थोड़ा जिद्दी या कठोर हो सकते हैं। इससे अन्य लोगों के साथ, आपका तर्क-वितर्क संभव है। इसलिए अपने दृष्टिकोण में सुधार करते हुए, किसी को भी प्रतिक्रिया देने से पहले दूसरों की राय सुनने का प्रयास ज़रूर करें। अन्यथा समाज में आपकी छवि को, नुकसान पहुंच सकता है।

छात्रों के लिए भी समय उत्तम रहेगा। खासतौर से विदेश जाकर शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक छात्रों को, इस गोचर के दौरान कोई शुभ समाचार प्राप्त होने की संभावना है। वहीं स्वास्थ्य के लिहाज से भी आपको, इस दौरान ज्यादा वजन उठाने से बचना होगा। अन्यथा जांघ, कंधे या पीठ से जुड़ी कोई समस्या उत्पन्न हो सकती है।

उपायः मंगल की होरा के दौरान, प्रतिदिन मंगल ग्रह के मंत्रों का जप करें।

वृश्चिक राशिफल

वृश्चिक राशि के जातकों को मंगल के इस गोचरकाल के दौरान, अपनी राह में बहुत-सी बाधाओं का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि आपके लग्न भाव के स्वामी मंगल, इस समय आपके अष्टम भाव में गोचर कर रहे हैं।

ऐसे में इस समय आपको अपने जीवन में, कुछ ऐसे बदलावों और परिवर्तनों का सामना करना पड़ सकता है, जिसके लिए आप पहले से तैयार नहीं होंगे। परिणामस्वरूप, आपको कई प्रकार की शारीरिक समस्याएं भी हो सकती हैं। आशंका है कि आपको पेट और त्वचा से संबंधित भी कुछ समस्याओं का सामना करना पड़े। इसलिए अपने स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखते हुए, सही आराम करें और हर प्रकार के तनाव से दूर ही रहे। हालांकि यह समय उन सभी पुरानी खराब आदतों को भी बदलने या छोड़ने के लिए उत्तम रहेगा, जिसका आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा था।

कार्यक्षेत्र पर बार-बार आने वाली बाधाएं, आपके मन में अपनी कार्य क्षमता को लेकर कुछ अविश्वास की स्थिति उत्पन्न करेंगी। जिससे आप काफी हद तक नकारात्मक सोच के शिकार हो सकते हैं, और इससे आपके जीवन के अलग-अलग क्षेत्रों में कई समस्याएं भी बढ़ने के योग बनेंगे। यह समय कार्यस्थल पर, आपकी उत्पादकता और कार्यकुशलता को भी कम करेगा। इससे आप कई कार्यों को, अधूरा ही बीच में छोड़ देंगे।

इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि खुद को शांत रखते हुए, कोई भी फैसला जल्दबाजी में न लें और केवल अपनी क्षमता पर ही विश्वास रखें। क्योंकि ये बात आप भी जानते हैं कि ये सभी परिस्थितियाँ हमेशा ऐसी नहीं रहने वाली, और समय के साथ इनमें भी सुधार होगा।

इस गोचर के दौरान मंगल, आपके दूसरे भाव को भी दृष्टि करेंगे। जो परिवार, वाणी, धन, आदि का भाव होता है। ऐसे में आपके द्वारा कहीं गई कोई बात, न चाहते हुए भी दूसरों को आहत कर सकती हैं। इसलिए परिवार के सदस्यों से बातचीत के दौरान, अपनी भाषा पर खासतौर से ध्यान दें।

हालांकि यह समय पैतृक संपत्ति या ससुराल पक्ष से आपको, अच्छा मुनाफ़ा कमाने का अवसर देगा। साथ ही आपका रुझान गहन विषयों की ओर भी अधिक लगेगा। लेकिन आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता होगी कि, आप इन विषयों में अधिक लिप्त न होते हुए, आपको हर समस्या का जल्द ही समाधान खोजने के लिए, इनका गलत उपयोग करने से भी बचना होगा। अन्यथा आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।

शोध कार्यों या उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों के लिए भी, मंगल का यह गोचर अनुकूल रहने वाला है।

उपायः मंगलवार के दिन अपने दाहिने हाथ की अनामिका में सोने या तांबे में अच्छी गुणवत्ता वाला लाल मूंगा पहनें।

धनु राशिफल

साहस और पराक्रम के कारक ग्रह, मंगल आपकी राशि के पंचम और द्वादश भाव के स्वामी होते हैं। अब वो आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर करेंगे। इस भाव को विवाह भाव भी कहा जाता है, और इस भाव से जीवन में होने वाली साझेदारियों के बारे में विचार किया जाता है। इस दौरान धनु राशि के जातकों को, मिश्रित परिणामों की प्राप्ति होगी।

यह गोचर उन दांपत्य जातकों के लिए विशेष अनुकूल सिद्ध होगा, जो अपनी संतान को विदेश पढ़ाई के लिए भेजना चाहते थे। क्योंकि इस समय उनका यह सपना भी पूरा होने के योग बनेंगे। साथ ही वो व्यापारी जातक जो, किसी विदेशी साझेदार के साथ व्यापार करते हैं। उनके लिए भी यह समय अधिक मुनाफ़ा लेकर आएगा।

चूँकि मंगल इस गोचरकाल के दौरान, आपके दशम भाव को भी दृष्टि कर रहा है। जो कार्यक्षेत्र और करियर का भाव होता है। ऐसे में धनु राशि के जातकों को कार्य क्षेत्र से संबंधित, पदोन्नति और वेतन वृद्धि होने की संभावना रहेगी। इस गोचर के दौरान आप अपने धन को भी संचय करने में सफल होंगे, जिससे आपकी बचत और आर्थिक जीवन में सुधार होगा।

हालांकि प्रेम संबंधों में कुछ मन मुटाव या उतार-चढ़ाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। इसलिए साथी के साथ संवाद करते हुए, उनकी नाराज़गी दूर करने की कोशिश करें। इससे आपको हर मतभेद को सुलझाते हुए, अपने रिश्ते को मजबूत बनाने में मदद मिलेगी। संभव हो तो साथी के साथ, किसी पहाड़ी स्थल या उनके किसी पसंदीदा स्थल पर घूमने जाने का प्लान करें। क्योंकि इससे आप दोनों को एक-दूसरे के करीब आने का मौका मिलेगा।

उपायः भगवान नरसिंह के अवतार की कथाएँ पढ़ने या सुनने से आपको, शुभ फल प्राप्त होंगे।

मकर राशिफल

मंगल का गोचर आपकी राशि से षष्टम भाव में होगा। जो बाधाओं, शत्रुओं और चुनौतियों का भाव होता है। इस समयावधि में मंगल आपके प्रथम भाव को भी दृष्टि करेंगे, जिसके परिणामस्वरूप आपके अंदर उत्साह और ऊर्जा की वृद्धि होगी। इससे आप अपने सभी कार्यों को भी, सफलता के साथ पूरा करने में सक्षम होंगे।

कोर्ट-कचहरी से जुड़ा कोई मामला, आपके पक्ष में आने की संभावना अधिक है। वहीं प्रतियोगी परीक्षा में भी मकर राशि के जातकों को सफलता मिलेगी। कार्यस्थल पर आपके शत्रु सक्रिय होते हुए, आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेंगे। परंतु आपकी प्रतिस्पर्धी भावना और इच्छाशक्ति आपको, उन पर विजय दिलाने में मदद करेगी।

इस समय आप अपने काम के प्रति, अधिक व्यवस्थित दिखाई देंगे। इसके चलते आपकी कड़ी मेहनत और प्रयास दूसरों को आपकी और आकर्षित करने में ख़ासा मददगार साबित होंगे। वो जातक जो वेतन वृद्धि या पदोन्नति की तलाश में थे, उन्हें भी इस गोचरकाल के समय अनुकूल परिणाम प्राप्त होने की संभावना है। साथ ही नई नौकरी की तलाश कर रहे हैं जातकों के लिए, छठे भाव में मंगल की स्थिति कई शुभ अवसर देने का कार्य करेगी।

वो व्यापारी जातक जो अपने व्यवसाय में विस्तार करने के लिए, किसी संस्थानों या बैंकों से ऋण लेने के इच्छुक थे। उन्हें इस दौरान कोई शुभ समाचार मिल सकेगा। हालांकि इस अवधि के समय किसी भी तरह के, विवाद या झगड़ों से भी आपके लिए दूर ही रहना उचित होगा।

पारिवारिक जीवन में भी, पिता को कोई बड़ा लाभ मिलेगा। जिससे परिवार में खुशहाली आएगी। आपको भी कुछ अच्छा समय, अपने साथी के साथ व्यतीत करने की आवश्यकता होगी। क्योंकि इस दौरान आशंका है कि साथी को स्वास्थ्य हानि हो, जिससे उन्हें परेशानी हो सकती है।

सेहत के लिए मंगल की यह स्थिति, आपको नई बीमारियों से लड़ने में मदद करते हुए, अपने किसी पुराने रोग से उभरने में भी विशेष फलदायी सिद्ध होगी। लेकिन फिर भी आपको इस दौरान तले-भुने और अधिक मसालेदार खाने से बचने की सलाह दी जाती है, अन्यथा आप अपने पेट से जुड़ी किसी समस्या से पीड़ित हो सकते हैं। इसके अलावा शारीरिक गतिविधि या व्यायाम की मदद लेना भी, इस समय आपके लिए जरूरी होगा। वाहन चलाने वाले जातकों को भी, विशेष सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है।

कुल मिलाकर कहें तो मंगल का यह गोचर, आपके लिए सामान्य से बेहतर ही रहेगा। हालांकि बावजूद इसके आपको किसी भी निर्णय को जल्दबाजी में, लेने से बचने की आवश्यकता होगी।

उपायः मंगलवार के दिन, गुड़ का दान करें।


किसी समस्या से हैं परेशान, समाधान पाने के लिए प्रश्न पूछें

कुंभ राशिफल

मंगल ग्रह आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर करेंगे। इस गोचर के चलते आपको कई महत्वपूर्ण परिणामों की प्राप्ति होगी। चूँकि मंगल आपकी राशि के दसवें भाव का स्वामी होता है, जो कार्यक्षेत्र और करियर का भाव होता है। और इस समय उसका आपके पंचम भाव में गोचर करना, आपकी कार्य क्षमता में वृद्धि लेकर आएगा। जिससे आप अपनी हर रणनीति को को स्पष्ट रूप से दूसरों के सामने रखते हुए उसका उपयोग कर, अपने सहकर्मियों के साथ-साथ अपने वरिष्ठ अधिकारियों से भी उत्तम प्रोत्साहन प्राप्त करने में सफल होंगे।

हालांकि कुछ नौकरी पेशा जातकों का इस गोचर के दौरान, अप्रकाशित स्थानांतरण संभव है। जिससे आपके मानसिक तनाव और चिंता में बढ़ोतरी होगी। लेकिन बावजूद इसके आपको बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए खुद को शांत रखते हुए, हर प्रकार के तनाव से भी दूर रहने की सलाह दी जाती है। तभी आप हर सकारात्मक अवसर का उचित लाभ उठाने में समर्थ होंगे।

अपने शौक या किसी रुचि को पेशे में बदलने की इच्छा रखने वाले जातकों को भी, अपने कौशल का प्रदर्शन देने के लिए कई शुभ अवसर प्राप्त होने की संभावना है। साथ ही खेल-कूद से जुड़े जातक भी, अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता का प्रदर्शन करते हुए, मंगल देव से उत्तम परिणाम प्राप्त करने में सफल होंगे।

हालांकि यह भी देखा गया है कि जब भी, अपनी ग़लतियों को स्वीकार करने और दूसरों की स्वीकृति लेने की बात आती है तो, आपके स्वभाव में कठोरता और जिद्दीपन की वृद्धि भी होती है। इससे आपके कार्यक्षेत्र में कुछ मुश्किलें आने की आशंका रहती है। इसलिए अपनी आलोचना के प्रति अधिक जुझारू बनें और दूसरों की राय व मशवरे का सम्मान करें। क्योंकि इससे आपको उन सभी समस्याओं के समाधान खोजने में मदद मिलेगी, जिसमें आपको पूर्व से ही मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था।

मंगल देव का आपके पंचम भाव में मौजूद होना, आपको अपने प्रेमी के प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में भी आपकी मदद करेगा। इससे रिश्ते में मजबूती आएगी और आप दोनों रिश्ते को आगे बढ़ाते भी दिखाई देंगे। वहीं यदि आप शादीशुदा हैं तो इस समय, जीवनसाथी या संतान के साथ होने वाली छोटी-छोटी बातें भी आपके स्वभाव में चिड़चिड़ापन उत्पन्न कर सकती हैं। जिससे परिवार का माहौल बिगड़ेगा। इसलिए जितना संभव हो खुद को शांत रखें।

हालांकि ये समय आपके जीवन साथी को, अच्छा लाभ और मुनाफ़ा अर्जित करने में भी मदद करेगा। वहीं आपके भाई-बहन भी इस गोचर से अच्छा लाभ, हासिल करने में सक्षम होंगे।

स्वास्थ्य जीवन के लिहाज से गोचरकाल की यह स्थिति, आपको अपच और एसिडिटी से संबंधित समस्याएं दे सकती हैं। इसलिए अपने खाने की खराब आदतों में सुधार करते हुए, बाहर के तले-भूले और अधिक मसालेदार भोजन खाने से बचें।

उपायः लाभकारी परिणाम प्राप्त करने के लिए, इस गोचर के दौरान भगवान काल भैरव की पूजा करें।

मीन राशिफल

मंगल का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ भाव में होगा। इस भाव को सुख भाव भी कहा जाता है। इसके साथ ही मंगल आपके दूसरे और नवम भाव के स्वामी भी होते हैं। अब आपके चतुर्थ भाव में मंगल का ये गोचर, आपको मिलेजुले परिणाम देगा।

चूँकि चतुर्थ भाव आपकी ज़मीन और चल- अचल संपत्ति को दर्शाता है। इसलिए आपको इस दौरान इस संबंधित गतिविधियों, जैसे घर के नवीकरण या मरम्मत, किसी ज़मीन कि खरीद या बिक्री जो लंबे समय से लंबित हो, उसे आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। हालांकि मंगल एक लाल ग्रह होता है, इसलिए सभी प्रकार की कागज़ी कार्रवाई और दस्तावेज़ों के प्रति पूरी सावधानी बरतें। क्योंकि इस मामले में कोई छोटी-सी लापरवाही भी, आपको बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है।

इस समय मंगल दशम भाव में अपनी “दिग्बली अवस्था” यानी मजबूत स्थिति से वितरित उपस्थित हैं, जिससे आपको कार्य क्षेत्र पर अपनी कार्य क्षमता और प्रयासों को बढ़ाने की जरूरत होगी। कुछ नौकरी पेशा जातकों को, अपनी इच्छा के विरुद्ध जाकर स्थानांतरण या किसी यात्रा पर जाना पड़ सकता है। इसके परिणामस्वरूप, आपको थकान और तनाव की वृद्धि होगी। इससे कार्य क्षेत्र पर भी आपका, दूसरों के साथ झगड़ा या विवाद होगा। इसलिए अपने खुद को शांत रखते हुए, हर परिस्थिति में संयम के साथ ही आगे बढ़ें।

लाल ग्रह मंगल का आपके चौथे भाव में उपस्थित होना, आपकी मां को भी स्वास्थ्य हानि देगा। इसलिए उनकी सही देखभाल करते हुए, उनका उचित ध्यान रखें। चौथा भाव आपके बचपन या पूर्व की घटनाओं को भी दर्शाता है। ऐसे में आपके पूर्व के कुछ पुरानी समस्याएँ भी आपके जीवन में पुनः लौट सकती हैं, जिससे आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। परिवार के सदस्यों के साथ भी, इससे आपका मतभेद या विवाद संभव है। इसलिए किसी से भी झगड़े में न पड़ते हुए, खुद को शांत ही रखें। अन्यथा इसका आपके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

मंगल ग्रह आपके सप्तम भाव को भी दृष्टि कर रहे हैं, जो आपके वैवाहिक जीवन को दर्शाता है। ऐसे में आशंका है कि जीवन साथी के साथ आपका, अहम का टकराव हो। इसलिए उनके साथ खुलकर संवाद जारी रखते हुए, हर ग़लतफहमी को दूर करने का प्रयास करें।

स्वास्थ्य जीवन के लिहाज से वो सभी जातक जो, रक्तचाप, हृदय रोग या रक्त संबंधी किसी भी बीमारी से परेशान हैं। उन्हें इस समय हर प्रकार के तनाव और क्रोध करने से बचना होगा। साथ ही इस समय आपके लिए सही नींद लेना और आराम करना भी, सबसे अधिक आवश्यक रहेगा। अन्यथा बाद में आपको कई बड़ी समस्याओं से, दो-चार होना पड़ सकता है।

उपायः मंगलवार के दिन भगवान हनुमान की स्तुति में, "हनुमानाष्टक" का पाठ करें।


रत्न, यंत्र समेत समस्त ज्योतिषीय समाधान के लिए विजिट करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।