• Varta Astrologers
  • Mragaank
  • Parul

मंगल का वृषभ राशि में गोचर (10 अगस्त, 2022)

मंगल का वृषभ राशि में गोचर आपके व्यक्तिगत, पेशेवर, स्वास्थ्य, प्रेम जीवन पर क्या प्रभाव डालेगा इस बात की सम्पूर्ण जानकारी हम आपको एस्ट्रोसेज के इस विशेष ब्लॉग के माध्यम से प्रदान कर रहे हैं। मंगल यानि एक ऐसा ग्रह जिसे ज्योतिष की दुनिया में उग्र और लाल ग्रह का दर्जा दिया गया है। यही मंगल ग्रह अगस्त के महीने में वृषभ राशि में अपना गोचर करने जा रहा है। ऐसे में ऐस्ट्रोसेज के इस विशेष आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि मंगल के इस महत्वपूर्ण गोचर का सभी बारह राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा और इसके नकारात्मक प्रभाव को दूर करने के लिए आप क्या कुछ उपाय कर सकते हैं। वैदिक ज्योतिष की गणना पर आधारित इस लेख में हम आपको इस तो आइए आगे बढ़ते हैं और आपकी राशि के अनुसार जानते हैं कि मंगल का यह गोचर आपके जीवन में क्या बदलाव लेकर आने वाला है।

मंगल का वृषभ राशि में गोचर

मंगल का वृषभ राशि में गोचर 10 अगस्त, 2022 बुधवार को रात 09:43 बजे होगा। इस दौरान मंगल देव अपनी स्वराशि मेष से वृषभ राशि में गोचर करने जा रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि मंगल और सूर्य ग्रह मानव शरीर के अग्नि तत्वों को नियंत्रित करते हैं। साथ ही हमें जीवन शक्ति, शारीरिक शक्ति, सहनशक्ति, इच्छा शक्ति तथा किसी कार्य को लगन के साथ सम्पन्न करने की ऊर्जा प्रदान करते हैं। जिन लोगों पर मंगल का प्रभाव होता है, ऐसे लोग आमतौर पर साहसी, आवेगी तथा मुखर होते हैं। मंगल को भूमि, रियल एस्टेट, प्रौद्योगिकी तथा इंजीनियरिंग आदि के कारक के रूप में भी जाना जाता है।

एस्ट्रोसेज वार्ता से दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात

पृथ्वी तत्व की राशि वृषभ दूसरे नंबर की राशि है तथा यह शुक्र द्वारा शासित है यानी कि इस राशि का प्रभुत्व शुक्र ग्रह को प्राप्त है। यह धन, वित्त, भोग विलास और उच्च स्तर की जीवन शैली का प्रतिनिधित्व करता है। साथ ही वाणी, परिवार और आपके खानपान को भी दर्शाता है।

मंगल का वृषभ राशि में गोचर इस बात की ओर इशारा करता है कि इस दौरान आप अपनी ऊर्जा विलासिता और भौतिक सुखों से जुड़े लाभ प्राप्त करने की ओर लगाएंगे। संपत्ति तथा रियल एस्टेट से लाभ अर्जित करने के लिए भी यह गोचर काल अनुकूल सिद्ध होगा लेकिन यह सब जातक की जन्मकुंडली में मंगल के स्थान व उसकी दशा पर पूर्ण रूप से निर्भर करेगा।

मंगल का वृषभ राशि में गोचर 2022 का हमारे जीवन पर कैसा प्रभाव डालने वाला है आइए विस्तार से जानते हैं इसका जवाब। साथ ही यह भी जानते हैं कि इसके नकारात्मक प्रभावों से बचाव के लिए क्या उपयुक्त उपाय किए जा सकते हैं, जो कि हमारे विद्वान ज्योतिषियों द्वारा ग्रहों, नक्षत्रों की चाल व स्थिति का गहन अध्ययन करने के बाद प्रदान किए गए हैं।

यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। यहाँ क्लिक करें और चंद्र राशि कैलकुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि।

Read in English: Mars transit in Taurus (10 August, 2022)

मेष

मेष राशि के जातकों के लिए मंगल लग्न भाव और आठवें/अष्टम भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके दूसरे भाव यानी कि धन, परिवार, बचत व वाणी के भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान आप स्वभाव से मुखर होंगे, जो कि हो सकता है कि अन्य लोगों को पसंद न आए। साथ ही परिवारजनों को भी यह अच्छा नहीं लग सकता है। आपके दूसरे में आठवें भाव के स्वामी का गोचर आपकी आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव लेकर आ सकता है इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि इस दौरान अपने ख़र्चों और निवेशों को लेकर सचेत रहें।

मंगल के वृषभ राशि में गोचर की यह अवधि छात्रों के लिए अनुकूल सिद्ध होगी चूंकि पांचवें भाव में मंगल की दृष्टि पड़ रही है। ऐसे में मेष राशि के छात्र अपनी पढ़ाई में अधिक ऊर्जावान रहेंगे तथा अपने कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा कर सकेंगे।

विवाहित जातकों को इस अवधि में अपने ससुराल पक्ष से पूरा सहयोग व समर्थन प्राप्त होगा। साथ ही वे किसी तीर्थ यात्रा पर जाने की योजना भी बना सकते हैं।

उपाय: प्रतिदिन 7 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें।

मेष साप्ताहिक राशिफल

वृषभ

वृषभ राशि के जातकों के लिए मंगल बारहवें तथा सातवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके लग्न/प्रथम भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान विदेशी सरज़मीं से कुछ नए अवसर प्राप्त होने की संभावना अधिक रहेगी। चौथे भाव में मंगल की दृष्टि माता जी के साथ आपके बंधन में मज़बूती लाएगी और आपको उनकी तरफ़ से पूरा सहयोग प्राप्त होगा। इस गोचर काल में किसी संपत्ति की ख़रीद व बिक्री से भी लाभ होने की संभावना है लेकिन चूंकि मंगल आपके बारहवें भाव यानी कि व्यय एवं हानि के भाव का स्वामी है, ऐसे में आपको किसी भी प्रकार का सौदा या लेन-देन करते वक़्त अधिक सावधान रहने की आवश्यकता होगी।

इस गोचर काल में एकल जीवन व्यतीत कर रहे लोगों को अपना हमसफ़र मिल सकता है। वहीं विवाहित लोगों को अपने जीवनसाथी की ओर से पूरा सहयोग प्राप्त होगा क्योंकि मंगल अपने भाव पर दृष्टि डाल रहा है। इस दौरान यात्रा करते वक़्त अधिक सतर्कता बरतें चूंकि आठवें भाव में मंगल की दृष्टि के कारण आपको कुछ अनिश्चितताओं का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय: माँ दुर्गा को लाल रंग के पुष्प अर्पित करें।

वृषभ साप्ताहिक राशिफल

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए मंगल छठे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके बारहवें भाव यानी कि व्यय, हानि और विदेश यात्रा के भाव में गोचर करेगा।

आपके तीसरे भाव में मंगल की चतुर्थ दृष्टि होने के कारण आपको अपने भाई-बहनों से पूरा सहयोग प्राप्त होगा। इस दौरान आप अपने शौक जैसे कि खाना पकाना, मार्शल आर्ट्स जैसी चीज़ों पर धन ख़र्च कर सकते हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित हैं तो इस अवधि में ज़रा भी लापरवाही न करते हुए तुरंत चिकित्सक से इलाज कराएं।

आठवें भाव के साथ-साथ मंगल की दृष्टि आपके सातवें भाव यानी कि साझेदारी एवं विवाह के भाव पर भी है इसलिए आपको अपने जीवनसाथी के साथ संबंध में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं। ऐसे में आपके लिए बेहतर होगा कि अपने जीवनसाथी के साथ शांतिपूर्ण ढंग से पेश आएं तथा विनम्रता के साथ चीज़ों को सुलझाने का प्रयास करें।

उपाय- प्रतिदिन सुबह भगवान कार्तिकेय की पूजा करें।

मिथुन साप्ताहिक राशिफल

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए मंगल योगकारक ग्रह है। यह आपके केंद्र और त्रिकोण भावों का नियंत्रक है यानी कि पांचवें और दसवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके ग्यारहवें भाव यानी कि लाभ भाव में गोचर करेगा।

मंगल का यह गोचर आपकी इच्छाओं को पूर्ण करेगा तथा आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगा। कार्यस्थल पर आपको अपनी कड़ी मेहनत का सकारात्मक परिणाम प्राप्त होगा। यदि आप रियल एस्टेट, इंजीनियरिंग या डिफेंस आदि क्षेत्रों में कार्यरत हैं और आपका प्रमोशन काफ़ी समय से लंबित है तो इस गोचर अवधि में आपकी यह ख़्वाहिश पूरी होने की प्रबल संभावना है।

मंगल के वृषभ राशि में गोचर की यह अवधि कर्क राशि के छात्रों के लिए अनुकूल सिद्ध होगी। वे इस दौरान एकाग्रचित्त होकर अपने विषयों पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे। वहीं स्वास्थ्य की बात करें तो यदि आप किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो इस गोचर अवधि में आपको उससे निजात मिल सकता है।

उपाय: मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करें और मिठाई चढ़ाएं।

कर्क साप्ताहिक राशिफल

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए मंगल नौवें और चौथे भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके दसवें भाव यानी कि कर्म भाव में गोचर करेगा। जिसके कारण आपका पेशेवर जीवन लाभप्रद व आरामदायक रहेगा। साथ ही आधिकारिक पदों पर नए अवसर मिलने के योग बनेंगे।

इस दौरान स्वास्थ्य सेवा (सर्जन), रियल एस्टेट और सशस्त्र बल आदि से जुड़े जातकों को सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। आपके लग्न भाव पर मंगल की चतुर्थ दृष्टि आपके स्वास्थ्य तथा व्यक्तित्व में निखार लेकर आएगा। इस दौरान आप किसी प्रकार की शारीरिक गतिविधि में भी हिस्सा ले सकते हैं।

यह गोचर अवधि माता जी के साथ संबंधों में मधुरता लाएगी और आपको उनकी तरफ़ से पूरा सहयोग प्राप्त होगा। शिक्षा की बात करें तो इस दौरान सिंह राशि के छात्रों की पढ़ाई बाधित हो सकती है। ऐसे में उन्हें अपनी पढ़ाई की सही ढंग से योजना बनाते हुए ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता पड़ सकती है। कुल मिलाकर मंगल का यह गोचर सिंह राशि के जातकों के लिए अनुकूल रहने वाला है।

उपाय: अपने दाहिने हाथ में तांबे का कड़ा पहनें।

सिंह साप्ताहिक राशिफल

राजयोग रिपोर्ट से जानें कब खुलेगी आपकी किस्मत और कब आएंगी जीवन में खुशियां

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए मंगल तीसरे भाव और आठवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके नौवें भाव यानी कि पिता, गुरु, भाग्य और धर्म के भाव में गोचर करेगा। जिसके कारण आपको अपने पिता व गुरु की तरफ़ से अचानक कोई लाभ प्राप्त हो सकता है लेकिन उग्र स्वभाव के चलते आपकी उनसे नोक-झोंक भी हो सकती है।

बारहवें भाव पर मंगल की दृष्टि पड़ने से आपके ख़र्चों में अप्रत्याशित वृद्धि होने की संभावना है। वहीं तीसरे भाव पर मंगल की सातवीं दृष्टि छोटे भाई-बहनों के साथ आपके संबंध मजबूत करेगी तथा आपको उनकी ओर से पूरा सहयोग प्राप्त होगा। इसके अलावा चौथे भाव पर मंगल की आठवीं दृष्टि आपके घर की सुख-शांति भंग कर सकती है। यहां तक कि आपकी माता जी के स्वास्थ्य में गिरावट देखी जा सकती है। ऐसे में आपको उनका अधिक ख़्याल रखने तथा अच्छी देखभाल करने की सलाह दी जाती है।

उपाय: मंदिर में गुड़ और मूंगफली की मिठाई दान करें।

कन्या साप्ताहिक राशिफल

तुला

तुला राशि के जातकों के लिए मंगल दूसरे भाव और सातवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके आठवें भाव यानी कि दीर्घायु, अचानक घटनाओं और रहस्य के भाव में गोचर करेगा।

तुला राशि के जातकों के लिए यह गोचर काल थोड़ा चुनौतीपूर्ण साबित हो सकता है चूंकि इस दौरान अचानक घटित होने वाली कुछ घटनाएं मानसिक तनाव का कारण बन सकती हैं।

वहीं ग्यारहवें भाव में मंगल की चतुर्थ दृष्टि आपके लिए आर्थिक उतार-चढ़ाव का कारण बन सकती है। हालांकि दूसरे भाव पर मंगल की दृष्टि आपकी वाणी और भाषा शैली में सुधार करेगी लेकिन फिर भी आपको अपने से बड़ों व आधिकारिक लोगों से बातचीत करते समय सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। आपको यह भी सलाह दी जाती है कि आकस्मिक घटना से बचने के लिए यात्रा के दौरान अधिक सतर्क रहें।

उपाय: यदि स्वास्थ्य उत्तम हो तो रक्तदान करें। यदि आप स्वस्थ न हों तो मजदूरों को गुड़ और मूँगफली की मिठाई दान करें।

तुला साप्ताहिक राशिफल

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए मंगल लग्न भाव और छठे भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके सातवें भाव यानी कि वैवाहिक सुख और साझेदारी के भाव में गोचर करेगा।

आपके लिए यह गोचर अवधि पेशेवर रूप से अनुकूल सिद्ध होगी। वहीं व्यावसायिक साझेदारी भी सफल होगी यानी कि यदि आप साझेदारी में कोई व्यवसाय चला रहे हैं तो साझेदार का पूरा सहयोग प्राप्त होगा।

मंगल के वृषभ राशि में गोचर के प्रभावस्वरूप व्यक्तिगत जीवन में अहंकार और बहस के कारण जीवनसाथी के साथ संबंध में कुछ परेशानियां आ सकती हैं। ऐसे में आपको अपने वैवाहिक जीवन पर भी ध्यान देने की ज़रूरत होगी अन्यथा हालात बेकाबू हो सकते हैं।

स्वास्थ्य के लिहाज से आप ऊर्जावान और स्वस्थ रहेंगे लेकिन फिर भी अपने खानपान के प्रति सावधान रहना छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याओं से बचा कर रखेगा।

उपाय: माँ लक्ष्मी की पूजा करें और उन्हें लाल रंग के पुष्प अर्पित करें।

वृश्चिक साप्ताहिक राशिफल

बृहत् कुंडली: जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

धनु

धनु राशि के जातकों के लिए मंगल पांचवें भाव और बारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके छठे भाव यानी कि रोग, प्रतिस्पर्धा और शत्रु के भाव में गोचर करेगा।

स्वास्थ्य के लिहाज से यह अवधि आपको अनुकूल महसूस होगी चूंकि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता तथा शारीरिक शक्ति में सुधार होगा। इस दौरान आप अपने शत्रुओं व प्रतिद्वंदियों पर विजय प्राप्त करेंगे और वे किसी भी प्रकार से आपको नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे।

जो छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें इस अवधि में सफलता मिलने की प्रबल संभावना है। वे अच्छे अंकों के साथ अपनी परीक्षा में उत्तीर्ण हो सकते हैं।

आपके नौवें, बारहवें और ग्यारहवें भाव में मंगल की दृष्टि पड़ने से इस दौरान आपका झुकाव धर्म से जुड़ी चीज़ों की ओर अधिक रहेगा। इसके अलावा विदेश यात्रा संभव हो सकती है। साथ ही ख़र्चों में वृध्दि हो सकती है।

उपाय: नियमित रूप से गुड़ का सेवन करें।

धनु साप्ताहिक राशिफल

मकर

मकर राशि के जातकों के लिए मंगल चौथे भाव और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके पांचवें भाव यानी कि प्रेम, शिक्षा व संतान के भाव में गोचर करेगा।

मकर राशि के छात्रों के लिए यह गोचर अवधि अनुकूल सिद्ध होगी चूंकि वे इस दौरान अधिक ऊर्जावान रहेंगे। ऐसे में अपनी इस ऊर्जा को सही दिशा में सदुपयोग करना फलदायी साबित होगा। शोध कर रहे या रहस्य विज्ञान का अध्ययन कर रहे लोगों के लिए भी यह समय अनुकूल रहेगा चूंकि मंगल आठवें भाव पर भी दृष्टि डाल रहा है।

इस दौरान दसवें और ग्यारहवें भाव पर मंगल की दृष्टि पेशेवर रूप से अनुकूल सिद्ध होगी। आपके ऊपर कार्यभार एवं ज़िम्मेदारियां तो होंगी लेकिन अच्छे काम के लिए आपको प्रोत्साहन भी दिया जाएगा। आप अपने सभी लक्ष्यों को पूरा करने में सफल होंगे। ऐसे में यदि आपकी पदोन्नति होने वाली है तो प्रबल संभावना है कि इस वक़्त आपकी यह मनोकामना भी पूरी होगी।

मंगल के वृषभ राशि में गोचर के दौरान आपको अपने बच्चों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होगी चूंकि उनका व्यवहार आपके प्रति रूखा हो सकता है। ऐसे में उनके साथ खेलें, उनसे बात करें और उनकी हर चीज़ में मदद करें।

उपाय: किसी ज़रूरतमंद बच्चे को लाल रंग के वस्त्र दान करें।

मकर साप्ताहिक राशिफल

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए मंगल तीसरे भाव और दसवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके चौथे भाव यानी कि माता, गृहस्थ जीवन, भूमि, संपत्ति और वाहन के भाव में गोचर करेगा।

तीसरे भाव के स्वामी का चौथे भाव में गोचर हो रहा है इसलिए छोटे भाई-बहनों के साथ आपके संबंध अच्छे रहेंगे तथा आप उनके साथ अच्छा वक़्त बिताएंगे। यदि वे आपसे कहीं दूर रहते हैं तो वे आपसे मिलने आपके घर आ सकते हैं।

चौथा भाव आपकी माता जी का भी प्रतिनिधित्व करता है। ऐसे में आपकी माता जी थोड़ी उग्र हो सकती हैं। सातवें भाव पर मंगल की चतुर्थ दृष्टि जीवनसाथी के साथ आपके बंधन मज़बूत करेगी तथा आपको उनकी तरफ़ से पूरा सहयोग प्राप्त होगा। इसके अलावा दसवें भाव पर मंगल की दृष्टि कार्यस्थल पर आपकी ज़िम्मेदारियां बढ़ा सकती है। हो सकता है कि कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करने में आपकी सलाह या सुझाव लिए जाएं। कार्यक्षेत्र में बदलाव होने की भी संभावना है।

उपाय: अपनी माता जी को गुड़ की मिठाई उपहार में दें।

कुंभ साप्ताहिक राशिफल

करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

मीन

मीन राशि के जातकों के लिए मंगल दूसरे भाव और नौवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान मंगल आपके तीसरे भाव यानी कि भाई-बहन, शौक, लघु यात्रा और संचार कौशल के भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान आप अपने शौक व रुचि के कार्यों की तरफ़ अधिक झुकाव महसूस करेंगे। आप स्वभाव से मुखर हो सकते हैं। छठे भाव पर मंगल की दृष्टि स्वास्थ्य के लिहाज से अनुकूल सिद्ध होगी। इस दौरान आप आपकी सहनशक्ति व ऊर्जा बढ़ेगी, जिसकी मदद से आप पुरानी बीमारी से निजात पा सकेंगे।

मंगल की दृष्टि आपके नौवें भाव पर भी पड़ रही है। ऐसे में आपका झुकाव आध्यात्मिकता व रहस्य विज्ञान की ओर अधिक रहेगा। यदि आप ज्योतिष विद्या का अभ्यास करने का विचार बना रहे हैं तो यह समय अच्छा है। आपको अवश्य ही सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।

उपाय: नियमित रूप से बजरंग बाण का पाठ करें।

मीन साप्ताहिक राशिफल

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।