• Varta Astrologers
  • Mragaank
  • Parul

शुक्र का सिंह राशि में गोचर (31 अगस्त, 2022)

शुक्र का सिंह राशि में गोचर होने से जातकों के जीवन में क्या कुछ बदलाव और परिवर्तन आने की आवश्यकता है यह जानने के लिए पढ़ें एस्ट्रोसेज का वैदिक ज्योतिष पर आधारित लिए विशेष लेख। बात करें शुक्र ग्रह की तो ज्योतिष में इस ग्रह को जीवन में भौतिक सुखों के कारक के रूप में जाना जाता है। साथ ही इसका एक नाम भोर का तारा भी है। शुक्र ग्रह के प्रभाव से ही व्यक्ति को जीवन में भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग विलास, शोहरत, आदि की प्राप्ति होती है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार बात करें तो शुक्र के गोचर को भी बेहद महत्वपूर्ण माना गया है और इससे हर एक व्यक्ति के जीवन पर शुभ और अशुभ प्रभाव अवश्य पड़ता है। गोचर की बात करें तो शुक्र ग्रह के गोचर की अवधि तकरीबन 23 दिनों की होती है। तो आइए आगे बढ़ते हैं और अपने इस विशेष आर्टिकल के माध्यम से जानते हैं जल्द होने वाले शुक्र के गोचर का सभी 12 राशियों के जातकों के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा और इससे बचने के लिए क्या कुछ उपाय किए जा सकते हैं।

शुक्र गोचर 2022

विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात करें और जानें शुक्र गोचर का अपने जीवन पर प्रभाव

वैदिक ज्योतिष के अनुसार शुक्र एक शुभ ग्रह है। यह वृषभ और तुला दो राशियों का स्वामी होता है। मीन इसकी उच्च राशि है तथा कन्या इसकी नीच है। शुक्र की गोचर अवधि 23 दिनों की होती है यानी कि शुक्र एक राशि में लगभग 23 दिनों तक स्थित रहता है। सामान्य तौर पर शुक्र हमारे जीवन में धन, समृद्धि, सुख, आनंद, विलासिता, आकर्षण, सौंदर्य, प्रेम संबंध, वैवाहिक सुख आदि का प्रतिनिधित्व करता है। ज्योतिष में इसे रचनात्मकता, कला, संगीत, कविता, डिज़ाइनिंग, मनोरंजन, शोज़, ग्लैमर, फ़ैशन, आभूषण, कीमती रत्न, श्रृंगार, लग्ज़री यात्रा, लग्ज़री भोजन तथा लग्ज़री वाहन आदि का कारक माना जाता है।

शुक्र का सिंह राशि में गोचर: तिथि व समय

शुक्र का सिंह राशि में गोचर 31 अगस्त, 2022 दिन बुधवार की शाम 04:09 बजे होगा जब शुक्र ग्रह जल तत्व की राशि कर्क से अग्नि तत्व की राशि सिंह में गोचर कर जाएगा। वैदिक ज्योतिष के अनुसार शुक्र ग्रह के लिए सिंह राशि शत्रु के समान है इसलिए शुक्र की यह स्थिति अधिक अनुकूल नहीं मानी जाती है, लेकिन चूंकि शुक्र और सिंह राशि के बीच बहुत सी समानताएं पाई जाती हैं इसलिए इस मामले में यह स्थिति फलदायी सिद्ध हो सकती है। आइए जानते हैं कि शुक्र का यह गोचर आपकी राशि को किस प्रकार प्रभावित करेगा।

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। जानें अपनी चंद्र राशि

Read in English: Venus Transit in Leo (31 August, 2022)

मेष

मेष राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके पांचवें भाव यानी कि प्रेम, शिक्षा और संतान के भाव में गोचर करेगा। मेष राषि के जो छात्र डिज़ाइनिंग, कला, रचनात्मकता एवं कविता आदि के क्षेत्र में हैं, उन्हें इस अवधि में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

जो लोग प्रेम संबंध में हैं, उनके अंदर अहंकार की भावना उत्पन्न हो सकती है, जिसके कारण उन्हें कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है लेकिन गोचर काल के अंत तक चीज़ें बेहतर होती जाएंगी, आपसी मतभेद या ग़लतफ़हमियां दूर जाएंगी और आपके बीच प्रेम भाव कायम हो जाएगा। वहीं एकल जीवन व्यतीत कर रहे लोग या यूं कहें कि अविवाहित लोग अपने जीवनसाथी की तलाश कर सकते हैं।

जो लोग संतान सुख की प्राप्ति के लिए योजना बना रहे हैं, उनके लिए यह समय प्रबल है क्योंकि शुक्र आपके पांचवें भाव में गोचर कर रहा है। ऐसे में गर्भधारण की संभावना बहुत अधिक है। कुल मिलाकर देखा जाए तो मेष राशि के लोगों के लिए यह गोचर काल फलदायी रहने वाला है।

उपाय: शुक्रवार के दिन माँ लक्ष्मी की पूजा करें और उन्हें लाल रंग के पाँच पुष्प अर्पित करें।

मेष साप्ताहिक राशिफल

वृषभ

वृषभ राशि के जातकों के लिए शुक्र प्रथम/लग्न और छठे भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके चौथे भाव यानी कि माता, गृहस्थ जीवन, भवन, वाहन तथा संपत्ति के भाव में गोचर करेगा। चौथे भाव में शुक्र का गोचर आपके घर में विलासिता की चीज़ें बढ़ाएगा। आप इस दौरान अपने घर के लिए कोई लग्ज़री वाहन या कोई अन्य लग्ज़री वस्तु ख़रीद सकते हैं।

पारिवारिक जीवन में ख़ुशहाली बरकरार रहेगी तथा माता जी के साथ आपके संबंध बहुत अच्छे रहेंगे लेकिन आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान उनके स्वास्थ्य का विशेष रूप से ख़्याल रखें। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। वे अच्छी तरह से पढ़ाई कर सकेंगे, जिसका सकारात्मक परिणाम उनकी परीक्षाओं में देखने को मिलेगा।

यदि आप किसी ऋण या लोन स्वीकृत होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं तो इस बात की प्रबल संभावना है कि शुक्र के इस गोचर दौरान आपकी अर्ज़ी को स्वीकृति मिल जाएगी।

उपाय: प्रतिदिन शुक्र होरा के दौरान शुक्र मंत्र का जाप करें।

वृषभ साप्ताहिक राशिफल

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए शुक्र पांचवें और बारहवें भाव का स्वामी है। शुक्र के सिंह राशि में गोचर काल के दौरान शुक्र आपके तीसरे भाव यानी कि भाई-बहन, शौक एवं रुचि, लघु यात्रा तथा संचार कौशल के भाव में गोचर करेगा।

शुक्र का यह गोचर आपके लेखन तथा संचार कौशल में रचनात्मकता बढ़ाएगा इसलिए जो लोग लेखन, फ़ाइन आर्ट्स और साहित्य के क्षेत्र में हैं, वे इस दौरान अधिक रचनात्मक ढंग से अपने काम में प्रगति करेंगे।

इस गोचर काल में आपके संबंध अपने छोटे भाई-बहनों के साथ मधुर रहेंगे तथा आप उनके साथ किसी लग्ज़री यात्रा की योजना बना सकते हैं, उनके साथ ख़ुशनुमा पल बिता सकते हैं। वहीं नौवें भाव में शुक्र की दृष्टि पड़ने से आपके संबंध पिता जी के साथ भी बहुत अच्छे रहेंगे तथा वे आपके अच्छे कार्यों की सराहना करेंगे। इसके अलावा आपका झुकाव अपने धर्म की ओर अधिक होगा।

उपाय: अपने दाहिने हाथ की छोटी उंगली में सोने या चांदी से बना अच्छी गुणवत्ता वाला पन्ना धारण करें।

मिथुन साप्ताहिक राशिफल

करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए शुक्र चौथे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके दूसरे भाव यानी कि धन, परिवार, वाणी और बचत के भाव में गोचर करेगा।

आर्थिक रूप से शुक्र का यह गोचर लाभकारी सिद्ध होगा। इस दौरान धन का प्रवाह अच्छा रहेगा तथा धन की बचत भी संभव होगी। एक से अधिक स्रोतों से कमाई होने की संभावना है। यदि आप लंबी अवधि का कोई निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो यह समय अनुकूल है। आपको इसमें सकारात्मक फल प्राप्त होंगे।

रिसर्च कर रहे छात्रों के लिए यह अवधि अनुकूल रहेगी क्योंकि उन्हें इस दौरान शोध करने के लिए कुछ नए विचार प्राप्त होंगे। यदि आप विवाहित हैं तो आपके और आपके जीवनसाथी के बीच संयुक्त संपत्ति जैसे कि संयुक्त खाता या ऐसी संपत्ति जिन पर दोनों का समान अधिकार हो, बढ़ने के योग बन रहे हैं।

इस दौरान स्वास्थ्य आपका अच्छा रहेगा। आप शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे। परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी।

उपाय: घर से निकलने से पहले कुछ मीठा खाएं और बातचीत करते समय विनम्र रहने की कोशिश करें।

कर्क साप्ताहिक राशिफल

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए शुक्र तीसरे और दसवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके लग्न भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान आप अपने जीवन का पूरी तरह से आनंद लेते नज़र आएंगे। आपके सामाजिक जीवन में कुछ अच्छे और मूल्यवान लोगों का आगमन होने की संभावना है। आप प्रभावशाली लोगों की संगति पसंद करेंगे। आपका व्यक्तित्व लोगों को आकर्षित करेगा।

सातवें भाव पर शुक्र की दृष्टि आपके प्रेम तथा वैवाहिक जीवन को सुखद बनाएगी। यदि आपके रिश्ते में पहले से कुछ विवाद चल रहे हैं तो इस दौरान सभी समस्याएं दूर होंगी।

आर्थिक रूप से धन का प्रवाह अच्छा रहेगा। दसवें भाव के स्वामी का आपके लग्न भाव में गोचर करना पेशेवर रूप से अच्छे अवसर लेकर आएगा। विशेष रूप से मंच कलाकारों और संचार क्षेत्र से जुड़े लोगों को सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। कुल मिलाकर शुक्र का सिंह राशि में गोचर यह गोचर आपके लिए अनुकूल सिद्ध होगा।

उपाय: अपने जीवनसाथी को उपहार एवं सुगंधित चीज़ें जैसे कि इत्र आदि भेंट करें।

सिंह साप्ताहिक राशिफल

कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और नौवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके बारहवें भाव यानी कि व्यय, हानि और विदेश के भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान आपको पेशेवर काम के सिलसिले से कोई लंबी यात्रा करनी पड़ सकती है। संकेत मिल रहे हैं कि यह यात्रा आपके लिए सकारात्मक परिणाम लेकर आएगी। यदि आप आयात-निर्यात के व्यवसाय में हैं या किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत हैं तो आपको अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।

यदि आप गायन, नृत्य या अभिनय आदि के क्षेत्र में हैं तो आपको इस दौरान कुछ रचनात्मक विचार प्राप्त होंगे, जिससे आपके कौशल में निखार संभव होगा।

उपाय: इस गोचर काल के दौरान वराहमिहिर की पौराणिक कहानियां पढ़ें।

कन्या साप्ताहिक राशिफल

तुला

तुला राशि के जातकों के लिए शुक्र लग्न/प्रथम और आठवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके ग्यारहवें भाव यानी कि आय, लाभ, इच्छा, बड़े भाई-बहन और चाचा के भाव में गोचर करेगा।

आर्थिक लाभ के मामले में आपके लिए यह समय बहुत अच्छा रहने वाला है। आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी। संभावना है कि आपको ये लाभ अचानक प्राप्त हो सकते हैं चूंकि शुक्र आपके आठवें भाव का स्वामी है। इस दौरान दोस्तों के साथ आपके अच्छे संबंध रहेंगे और आप उनके साथ अच्छा समय बिताएंगे क्योंकि ग्यारहवां भाव मित्र और सामाजिक दायरे का भी भाव होता है।

ग्यारहवें भाव से शुक्र आपके पांचवें भाव यानी कि प्रेम, शिक्षा, संतान के भाव पर भी दृष्टि डाल रहा है। जिसके फलस्वरूप आपका प्रेम जीवन सुखद रहेगा। आपके बच्चे कुछ ऐसी उपलब्धि हासिल करेंगे, जिससे आपको बहुत ख़ुशी मिलेगी। छात्र जो विशेष रूप से किसी रचनात्मक या डिज़ाइनिंग क्षेत्र में हैं, उन्हें इस अवधि में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

उपाय: अपने दाहिने हाथ की छोटी उंगली में सोने से बनी अच्छी गुणवत्ता वाली ओपल या हीरा धारण करें।

तुला साप्ताहिक राशिफल

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शुक्र सातवें और बारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके दसवें भाव यानी कि पेशे के भाव में गोचर करेगा।

इस दौरान ख़ुद का व्यवसाय चला रहे वृश्चिक राशि के लोगों को सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। साथ ही आपको साझेदारी में व्यापार करने के अवसर मिलेंगे और यदि आप पहले से ही साझेदारी में कोई व्यवसाय चला रहे हैं तो यह आपको फलता-फूलता नज़र आएगा क्योंकि शुक्र आपके सातवें भाव यानी कि साझेदारी के भाव का स्वामी है।

यदि आप आयात-निर्यात से जुड़ा कोई व्यवसाय चला रहे हैं तो यह गोचर अवधि आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगी। आपको सुझाव दिया जाता है कि इस दौरान कोई भी नया निवेश करने से बचें चूंकि कुंडली का बारहवां भाव हानि का भाव होता है। ऐसे में आर्थिक नुकसान होने की संभावना हो सकती है। वहीं यदि आप किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत हैं तो आपको विदेश यात्रा करने का अवसर प्राप्त हो सकता है।

दसवें भाव से शुक्र की दृष्टि आपके चौथे भाव पर पड़ रही है, जिसके परिणामस्वरूप आप इस दौरान अपने घर के लिए नया वाहन या कोई लग्ज़री वस्तु ख़रीद सकते हैं। साथ ही आप अपने घर के नवीनीकरण पर भी धन ख़र्च कर सकते हैं।

उपाय: शुक्रवार के दिन वैभव लक्ष्मी की पूजा करें और प्रार्थना करें।

वृश्चिक साप्ताहिक राशिफल

बृहत् कुंडली: जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

धनु

धनु राशि के जातकों के लिए शुक्र छठे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके नौवें भाव यानी कि पिता, धर्म, लंबी दूरी की यात्रा, तीर्थ यात्रा तथा भाग्य के भाव में गोचर करेगा। जो छात्र उच्च शिक्षा की प्राप्ति के लिए किसी बड़े संस्थान में प्रवेश लेने की योजना बना रहे हैं, उन्हें इस दौरान सफलता मिलने की संभावना प्रबल है। व्यक्तिगत जीवन में आपको अपने पिता एवं गुरु का पूरा सहयोग मिलेगा।

आपका झुकाव धर्म व आध्यात्मिकता की ओर अधिक रहेगा और आप इस दौरान कुछ दान-पुण्य जैसे अच्छे काम भी कर सकते हैं। साथ ही आप किसी लंबी दूरी की यात्रा या तीर्थ यात्रा पर भी जा सकते हैं। इसके अलावा इस बात की भी संभावना प्रबल है कि आप किसी प्रकार का धार्मिक आयोजन भी कर सकते हैं।

उपाय: शुक्रवार के दिन मंदिर में सफेद रंग की मिठाई दान करें।

धनु साप्ताहिक राशिफल

मकर

मकर राशि के जातकों के लिए शुक्र योगकारक ग्रह है। साथ ही यह आपके पांचवें और दसवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके आठवें भाव यानी कि दीर्घायु, आकस्मिक घटनाओं और रहस्य के भाव में गोचर करेगा।

शुक्र के सिंह राशि में गोचर के दौरान स्वास्थ्य के लिहाज से इस दौरान आपको मूत्राशय से संबंधित कोई समस्या होने का ख़तरा हो सकता है, इसलिए अपने स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहें तथा स्वच्छता बनाए रखें। पेशेवर रूप से देखा जाए तो नौकरीपेशा जातकों को कार्यस्थल की गुप्त राजनीति से गुज़रना पड़ सकता है। उनके ख़िलाफ़ किसी प्रकार की साज़िश रची जा सकती है, इसलिए सलाह दी जाती है कि इस गोचर के दौरान सचेत रहें।

आठवें भाव से शुक्र आपके दूसरे भाव पर दृष्टि डाल रहा है, इसलिए आर्थिक रूप से यह गोचर अवधि लाभकारी सिद्ध होगी। पूर्वजों की संपत्ति मिलने की संभावना अधिक है। शोध या गहन अध्ययन कर रहे छात्रों के लिए समय अनुकूल है। वहीं अन्य छात्रों को अपनी पढ़ाई में भटकाव महसूस हो सकता है।

उपाय: प्रतिदिन महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र का पाठ करें

मकर साप्ताहिक राशिफल

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए भी शुक्र योगकारक ग्रह है और यह आपके चौथे और नौवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके सातवें भाव यानी कि विवाह, जीवनसाथी और साझेदारी के भाव में गोचर करेगा।

नौवें भाव के स्वामी का आपके सातवें भाव में गोचर करना विवाह के योग बनाएगा अर्थात यदि आप विवाह के योग्य हैं तो आपको अपना जीवनसाथी मिल सकता है। जो लोग लंबे समय से प्रेम संबंध में हैं, वे अपने रिश्ते से जुड़ा कोई अहम फ़ैसला ले सकते हैं।

जो लोग साझेदारी में कोई व्यवसाय चला रहे हैं, उनके लिए यह समय प्रबल रहेगा। आपको अपनी सभी डीलिंग्स में लाभकारी परिणाम देखने को मिलेंगे। इस समय शुक्र की दृष्टि आपके लग्न भाव पर भी रहेगी। परिणामस्वरूप आप अपने व्यक्तित्व और शरीर की ओर अधिक ध्यान देंगे तथा आकर्षक बनाने का प्रयास करेंगे।

उपाय: अपने शयनकक्ष (बेडरूम) में एक गुलाबी स्फटिक रखें।

कुंभ साप्ताहिक राशिफल

मीन

मीन राशि के जातकों के लिए शुक्र तीसरे और आठवें भाव का स्वामी है। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके छठे भाव यानी कि रोग, प्रतिस्पर्धा, शत्रु और मामा के भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपको पेट, हार्मोन असंतुलन और आंखों से जुड़ी कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आपको सलाह दी जाती है कि अपने स्वास्थ्य का विशेष रूप से ख़्याल रखें।

शुक्र के सिंह राशि में गोचर काल के दौरान आप पर कुछ ऐसे आरोप लग सकते हैं, जिससे आपकी छवि बिगड़ सकती है इसलिए किसी भी प्रकार का गुप्त संबंध या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर रखने से बचें अन्यथा आपको कई मुश्किलों से गुज़रना पड़ सकता है। इस अवधि को सफलतापूर्वक एवं सामान्य रूप से पार करने के लिए आपको काफ़ी सीमित और निम्न रहने की सलाह दी जाती है।

इस दौरान शुक्र की दृष्टि आपके बारहवें भाव पर भी पड़ रही है इसलिए यात्राओं पर अधिक धन ख़र्च होने की संभावना है।

उपाय: प्रतिदिन सुबह नींबू पानी का सेवन करें।

मीन साप्ताहिक राशिफल

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।