• Varta Astrologers
  • Mragaank
  • Parul

सूर्य का कन्या राशि में गोचर (17 सितंबर 2022)

सूर्य का कन्या राशि में गोचर के विषय पर एस्ट्रोसेज द्वारा तैयार किए गए इस विशेष लेख में हम आपको इस गोचर के बारे में हर छोटी-बड़ी और महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे। वर्ष 2022 के सितंबर के महीने में चार प्रमुख गोचर होंगे और सूर्य गोचर इस कड़ी में तीसरा गोचर होने वाला है। यह 12 राशियों के जातकों के जीवन में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के कई महत्वपूर्ण बदलाव लाएगा। तो अगर आप भी जानना चाहते हैं कि चमकदार ग्रह सूर्य का यह गोचर कितना खास रहने वाला है और आपके जीवन पर इसका क्या कुछ प्रभाव पड़ेगा तो इसका जवाब जानने के लिए यह लेख अंत तक अवश्य पढ़ें।

सूर्य का कन्या राशि में गोचर

सूर्य का कन्या राशि में गोचर हर राशि के जातकों के जीवन में कई बड़े परिवर्तन लेकर आ रहा है। क्योंकि वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य को सभी ग्रहों का राजा माना गया है। सूर्य ग्रह करीब 30 दिन में अपना राशि परिवर्तन करते हुए एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करते हैं। ऐसे में सूर्य के इस राशि परिवतर्न को ही संक्रांति कहा जाता है। सूर्य देव जातकों में आत्मा, पिता, मान-सम्मान व उच्च सरकारी सेवा के कारक होते है और इस कारण इनके हर गोचर का प्रभाव सभी राशियों के लिए महत्वपूर्ण हो जाता है।

किसी भी निर्णय को लेने में आ रही है समस्या तो अभी करें हमारे विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात!

सूर्य का कन्या राशि में गोचर अवधि

किसी भी राशि में सूर्य देव की शुभ स्थिति उस जातक को सरकारी व अन्य उच्च सेवाओं में बड़े पदों की प्राप्ति करने में मददगार रहती है। जबकि इसके विपरीत यदि किसी कुंडली में सूर्य देव दुर्बल अवस्था में होते हैं तो जातक को मान-सम्मान में कमी, उसके पिता को कष्ट और जातक को नेत्र पीड़ा से दो-चार होना पड़ सकता है।

इसके अलावा सूर्य को सिंह राशि का स्वामित्व प्राप्त होता है। साथ ही मेष राशि इनकी उच्च, वहीं तुला इसकी नीच राशि मानी गई है। अब यही सूर्य देव एक बार फिर 17 सितम्बर 2022, शनिवार को अपनी स्वराशि सिंह से निकलकर बुध देव की राशि कन्या में सुबह 07:11 बजे विराजमान हो जाएंगे। इस कारण इस गोचर का प्रभाव समस्त जातकों के जीवन में किसी न किसी रूप से ज़रूर देखा जाएगा।

Read in English: Sun Transit in Virgo (17 September 2022)

सूर्य के कन्या राशि में गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर होगा। आइये इस राशिफल के माध्यम से डालते हैं उन प्रभावों पर एक नज़र:-

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैल्कुलेटर

मेष

मेष राशि के जातकों के लिए सूर्य देव पंचम भाव के स्वामी होते हैं और अब वे आपकी राशि से षष्टम भाव में गोचर करेंगे। कुंडली का छठा भाव विरोधी, अपने शत्रु, अपनी संघर्ष क्षमता, नौकरी, बीमारियां, प्रतियोगी परीक्षा, बैंक लोन, मामा पक्ष आदि के बारे में जानकारी देता है। ऐसे में आपके इस भाव में सूर्य का गोचर बहुत ही शुभ रहेगा।

सूर्य का कन्या राशि में गोचर काल के दौरान आपके सभी कार्य पूर्ण होंगे। खासतौर से जिन कार्यों को पूरा करने में आपको बाधा आ रही थी, उसमे भी आपको सफलता मिलेगी। कार्यस्थल पर यदि आपके शत्रु सक्रिय थे तो उन्हें भी आप परास्त कर सकेंगे। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी आपको अपनी सेहत में सुधार दिखाई देगा और आप अच्छे व स्वस्थ जीवन का आनंद लेंगे। कई जातक पूर्व से चली आ रही कई स्वास्थ्य संबंधित परेशानियों से निजात पाएंगे।

अब बात करें शिक्षा की तो प्रतियोगी परीक्षा या किसी सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए भी समय अत्यधिक शुभ रहने वाला है। क्योंकि इस दौरान अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए किए गए आपके हर प्रयास सफल होंगे। साथ ही आप अपना बेहतर प्रदर्शन भी दे सकेंगे। कई जातकों को सरकार की तरफ से कोई अच्छा लाभ प्राप्त होता भी दिखाई दे रहा है।

यदि आप व्यवसाय से जुड़े है तो इस समय आप अपने व्यापार में विस्तार के लिए भविष्य की कोई योजना बनाने में सफल रहेंगे। इसके अलावा पारिवारिक जीवन में भी मेष जातकों को इस गोचर के फलस्वरूप घर-परिवार में खुशी का अनुभव होगा।

उपायः तांबे के लोटे में जल भरकर हर रविवार के दिन सूर्यदेव को जल अर्पित करें।

मेष साप्ताहिक राशिफल

जानें सफल करियर चुनने का सही रास्ता - कोग्निऐस्ट्रो रिपोर्ट

वृषभ

वृषभ राशि के अनुसार सूर्य ग्रह आपके चतुर्थ भाव के स्वामी हैं और इस गोचर के दौरान वे आपके पंचम भाव में विराजमान होंगे। कुंडली का पंचम भाव जीवन का महत्वपूर्ण भाव होता है। क्योंकि इसी भाव के द्वारा हमारी शिक्षा, संतान, प्रेम संबंध, बुद्धि एवं विवेक तथा हमारे रुझान के बारे में जानकारी मिलती है।

ऐसे में अब सूर्य का गोचर इस भाव में होने के कारण वृषभ राशि के लिए समय थोड़ा कष्टदायक रहने के योग दर्शा रहा है। इस समय आपको किसी बड़े निर्णय को लेने में कई समस्याओं से दो-चार होना पड़ेगा और इस कारण आपके मानसिक तनाव में भी वृद्धि हो सकती है।

इसके अलावा पारिवारिक जीवन में भी परिवार के साथ किसी कारणवश आपका कोई वाद-विवाद होने की आशंका है और इस विवाद के चलते आपके व घर के सदस्यों के रिश्ते में समस्या आएगी। कार्यक्षेत्र में भी आपके आपके अधीन कर्मियों व वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संबंध कुछ बिगड़ सकते हैं। इसलिए शुरुआत से ही कोशिश करें और खासतौर से इस गोचर के दौरान जितना संभव हो खुद को शांत रखें।

इस अवधि में आपको किसी बड़े निर्णय को लेने से भी अभी बचने की सलाह दी जाती है, अन्यथा आपको हानि संभव है। साथ ही घर पर शांति बनाए रखने के लिए परिवार में चल रहे हर वाद-विवाद से दूर रहना ही आपके लिए बेहतर रहेगा। हालांकि ये गोचर आपको अपने करियर में कुछ सफलता मिलने के योग भी बना रहा है। खासतौर से वो नौकरीपेशा जातक जो अपनी नौकरी बदलने का सोच रहे हैं, उनके लिए समय सामान्य से बेहतर ही रहेगा। इसलिए शुरुआत से ही अच्छे अवसरों की प्राप्त हेतु अपने प्रयास करते रहें।

उपायः नियमित रूप से ‘सूर्य ग्रह के मंत्रों का जाप करें' और आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ भी करें।

वृषभ साप्ताहिक राशिफल

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए सूर्य देव तीसरे भाव के स्वामी हैं और अब अपने इस गोचर के दौरान वे आपकी राशि से चतुर्थ भाव में प्रवेश करेंगे। कुंडली के चतुर्थ भाव के द्वारा जीवन में सभी प्रकार के सुख और सुविधाओं का आकलन किया जाता है। इसके अतिरिक्त ये भाव हमारा व्यय भाव भी होता है जो हमारी मां, चल और अचल संपत्ति तथा वाहन के बारे में जानकारी देता है। ऐसे में सूर्य के इस गोचर के परिणामस्वरूप मिथुन राशि के लोगों में इस दौरान कुछ स्वास्थ्य और मानसिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। क्योंकि ये गोचर आपके मानसिक तनाव में वृद्धि करते हुए आपको परेशान करने वाला है। इसलिए आप इस समय स्वयं को तनाव मुक्त रखने के लिए मनोरंजन का सहारा ले सकते हैं।

इसके अलावा सूर्य का कन्या राशि में गोचर का यह समय आपको यात्रा से जुड़ी कुछ परेशानी दे सकता है। ऐसे में अगर कोई यात्रा जरूरी न हो तो उसे कुछ समय के लिए टालना ही आपके लिए बेहतर विकल्प रहेगा। पारिवारिक जीवन में कुछ अशांति का वातावरण भी देखा जा सकता है। इसलिए परिवार में सभी के साथ मिलजुल कर रहे और परिवार में मनमुटाव की हर प्रकार की स्थिति में पड़ने से बचें।

अब बात करें आपके प्रेम संबंधों की तो शादीशुदा जातकों को भी सूर्य देव कुछ कष्ट देने वाले है। क्योंकि आशंका अधिक है कि इस दौरान उन्हें अपने वैवाहिक जीवन में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही स्वास्थ्य जीवन का भी ध्यान रखना आपके लिए आवश्यक रहेगा, अन्यथा आपकी त्वचा संबंधी समस्या आपके लिए परेशानी का बड़ा कारण बन जाएगी। हालांकि बावजूद इसके सूर्य देव आपके जीवनसाथी को अच्छा लाभ होने के योग भी बनाएंगे। जिसके परिणामस्वरूप वे अपने कार्यक्षेत्र में अच्छे व लाभदायक अवसर प्राप्त करने में सफल रहेंगे।

उपाय: रोज़ाना शिवलिंग का जलाभिषेक करें और भगवान शिव के मंत्रों का जाप करें।

मिथुन साप्ताहिक राशिफल

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए सूर्य देव आपके द्वितीय भाव के स्वामी हैं और अब अपने इस गोचर के दौरान वे आपकी राशि से तृतीय भाव में संचरण करेंगे। कुंडली का तीसरा भाव जातक के भाई-बहनों को और उनके साथ संबंधों को प्रदर्शित करता है। इसके अतिरिक्त इस भाव से ही हम परिश्रम, रुचि, छोटे भाई-बहन तथा छोटी दूरी की यात्राओं के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। ऐसे में अब तीसरे भाव में सूर्य का ये गोचर कर्क राशि के जातकों के लिए अनुकूल रहेगा। क्योंकि इस दौरान उनकी स्वास्थ्य से संबंधित सभी परेशानियां दूर होती दिखाई देंगी। खासतौर से वो जातक जो लंबे समय से अपनी पूर्व की किसी बीमारी से परेशान थे वे इस समय उससे निजात पाते हुए काफी हद तक खुद को तनाव मुक्त महसूस करेंगे।

कार्यक्षेत्र की बात करें तो सूर्य का कन्या राशि में ये गोचर आपको करियर में बहुत ही सकारात्मक परिणाम देगा। कार्यस्थल पर आपकी मेहनत और कार्यक्षमता को लेकर आपके काम की तारीफ होगी। साथ ही यदि आप शुरुआत से ही अपने लक्ष्य के प्रति कार्य करते हैं तो उसके अनुकूल फल भी आपको मिलने के पूरे योग बनेंगे। कई जातकों को इस अवधि में यात्राएं भी करने का अवसर मिलेगा और ये यात्राएं आपके लिए विशेष लाभकारी रहने वाली हैं। इसके अलावा आपके अपने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संबंध भी बेहतर होंगे और इससे कई जातक अच्छी पदोन्नति व प्रमोशन भी हासिल कर सकेंगे।

सूर्य देव की कृपा समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ाएगी। पारिवारिक जीवन में भी भाई-बहनों से सहयोग मिलेगा। सूर्य देव की कृपा आपके व्यवहार में मधुरता लाएगी और इसका सबसे अधिक उत्तम फल आपको अपने पारिवारिक जीवन और कार्यक्षेत्र में मधुरता लेकर आने में मददगार रहने वाला है। वहीं आर्थिक पक्ष के लिहाज़ से ये समय आपको अच्छा धन लाभ कराएगा। इसके फलस्वरूप आप अपनी हर प्रकार की आर्थिक तंगी से निजात पा सकेंगे। विरोधी भी आप से परास्त होंगे तथा उनमें आपका भय बना रहेगा।

उपायः नियमित रूप से "ऊँ घृणि सूर्याय नम:" मंत्र का जाप करें।

कर्क साप्ताहिक राशिफल

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए सूर्य का हर गोचर बेहद महत्वपूर्ण रहता है। क्योंकि वे आपकी ही राशि के स्वामी हैं और अब अपने इस गोचर के दौरान उनका आपके द्वितीय भाव में प्रवेश होगा। कुंडली का दूसरा भाव हमारी वाणी का भाव होता है और इसकी मदद से ही हम अपने कुटुंब, संचित धन, मुख, भोजन तथा प्रारंभिक शिक्षा के बारे में पता लगाते हैं। ऐसे में दूसरे भाव में सूर्य का गोचर आपके लिए अधिक अनुकूल नहीं रहने वाला है। क्योंकि इस दौरान आपको हर निणर्य लेने व बातचीत के समय थोड़ा सोच-विचार करने की सलाह दी जाती है। अन्यथा योग बन रहे हैं कि आपके द्वारा कहे गए कुछ शब्द या आपकी वाणी आपको किसी बड़ी समस्या में डाल दे। इसलिए जहां तक संभव हो हर परिस्थिति में खुद को शांत रखें और बातचीत के समय कठोर शब्दों का प्रयोग न करें।

इस समय आपका प्रेमपूर्वक बातचीत करना ही आपको सबसे अधिक समस्याओं का हल करने में मददगार रहेगा। इसके अलावा सूर्य देव का ये गोचर आपको शारीरिक तथा मानसिक तनाव भी होने के संकेत दे रहा है। चूंकि सूर्य अपना गोचर करते हुए आपकी राशि से द्वितीय भाव में होंगे, इसलिए आपको बुखार और खानपान से संबंधित परेशानियां संभव है। ऐसे में अपनी सेहत का खास ख्याल रखना ही आपके लिए एकमात्र विकल्प रहेगा। आर्थिक पक्ष के लिहाज़ से इस समय आपको हर प्रकार के धन से जुड़े लेन-देन में सावधानी बरतने की ज़रूरत होगी।

पारिवारिक जीवन में घर पर किसी बात को लेकर आपका सदस्यों के साथ झगड़ा भी हो सकता है, जो आगे चलकर किसी बड़े विवाद का रूप ले लेगा। इसलिए सदस्यों से बात करते समय अपनी ओर से अधिक सतर्क रहें और मर्यादित भाषा का चयन करें। कई जातकों का इस समय अपने दोस्तों व रिश्तेदारों से भी मनमुटाव हो सकता है। इसलिए किसी भी तरह के विवाद में न पड़े और अपने गुस्से को स्वयं पर हावी न होने दें।

उपायः सूर्य देव से उत्तम फलों की प्रति हेतु रोज़ाना सूर्य ग्रह के मंत्रों का जाप करें।

सिंह साप्ताहिक राशिफल

बृहत् कुंडली में छिपा है आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए सूर्य देव उनके द्वादश भाव के स्वामी हैं और अब वे आपकी राशि में ही गोचर करेंगे, अर्थात यह आपके प्रथम व लग्न भाव में गोचर करेंगे। कुंडली का प्रथम भाव हर जातक के लिए काफी महत्वपूर्ण भाव है। क्योंकि इसी के द्वारा जातक का व्यक्तित्व, शरीर, शारीरिक रंग-रूप एवं बनावट, समाज में उसकी छवि, दिमाग, मान-सम्मान और स्वास्थ्य के बारे में जानकारी मिलती है। ऐसे में कन्या राशि में होने वाला सूर्य का ये गोचर सबसे अधिक कन्या जातकों के स्वभाव में कुछ बदलाव करते हुए उन्हें समस्या देने वाला है।

इस समय आपके अंदर कुछ अहंकार की वृद्धि होगी और इसके परिणामस्वरूप आपके अपनों के साथ संबंध कुछ प्रभावित हो सकते हैं। आर्थिक जीवन के लिहाज़ से धन संबंधित कोई भी लेन-देन करते समय विशेष सावधानी बरतें, अन्यथा बड़ी हानि का योग बना हुआ है। इसके अलावा ये गोचर की अवधि आपको शारीरिक समस्या जैसे बुखार, सिर दर्द, गैस, अपच आदि भी दे सकती है। साथ ही इस समय कई जातक किसी प्रकार के नेत्र संक्रमण से भी परेशान रहेंगे। इसलिए अपनी सेहत का खास ख्याल रखें। खासकर कार्य के अतिरिक्त बोझ के चलते अपनी आंखों के प्रति लापरवाही न करें।

सूर्य देव आपको तनाव भी देंगे और इस कारण आपका जीवन काफी हद तक प्रभावित होगा। हालांकि वो जातक जो विदेश जाने के इच्छुक हैं उनके लिए अवधि उत्तम रहेगी। क्योंकि ये गोचर विदेश से संबंधित आपके कार्य पूरे करेगा। परंतु बावजूद इसके आपको सभी बड़े निर्णयों को लेने से पहले अधिक सोच-विचार करने और फिर उसके बाद ही किसी भी निर्णय पर पहुंचने की सलाह दी जाती है।

उपायः अपनी कुंडली में सूर्य को बलवान बनाने के लिए हर रविवार के दिन गुड़ का दान करें।

कन्या साप्ताहिक राशिफल

तुला

तुला राशि के लिए सूर्य उनके एकादश भाव के स्वामी होते हैं और अब अपने इस गोचर के दौरान वे आपकी राशि से द्वादश भाव में प्रवेश करेंगे। कुंडली में द्वादश भाव को हानि व व्यय भाव भी कहा जाता है। ऐसे में तुला राशि के इस भाव में सूर्य देव का गोचर जातकों को इस दौरान किसी प्रकार की विदेशी यात्रा पर जाने के योग बनाएगा। खासतौर से वो जातक जो विदेश जाने के इच्छुक थे और लंबे समय से प्रयास कर रहे थे, सूर्य देव उन्हें जल्दी ही कोई खुशखबरी मिलने के योग बनाएंगे।

कार्यक्षेत्र के लिहाज़ से इस अवधि में कुछ जातकों को अपने काम के चलते कुछ समय के लिए घर से दूर भी रहना पड़ सकता है। वहीं यदि आप किसी हिल स्टेशन पर घूमने जाने की योजना बना रहे थे उसमें भी आपको सफलता मिलेगी। हालांकि आपको इस समय अपनी सेहत के प्रति ज़रा भी लापरवाही न बरतते हुए उसपर पूरा ध्यान देने की हिदायत दी जाती है।

वहीं आर्थिक जीवन में भी सूर्य देव इस समय आपके खर्चों में बढ़ोतरी करेंगे। इसलिए शुरुआत से ही खर्चों पर नियंत्रण रखते हुए एक सही बजट प्लान के अनुसार ही ख़रीदारी करें। यूँ तो समाज में इस अवधि में आपको कई बड़े लोगों से मुलाक़ात करने के अवसर भी मिलेंगे। परंतु आपको कुछ भी ऐसा करने से बचना होगा जिससे आपकी छवि प्रभावित हो या आपको मानहानि पहुंचें।

इस समय आपके विरोधी व शत्रु भी सक्रिय होंगे, ऐसे में आपको उनके प्रति सावधान रहना होगा। क्योंकि वो आपको हानि पहुंचाने के लिए लगातार षड्यंत्र करते दिखाई देंगे। निजी जीवन में भी आपका अपने दोस्तों से किसी बात को लेकर कुछ मनमुटाव होने की आशंका रहेगी। इसलिए उनसे बातचीत के समय अपनी वाणी व शब्दों के चयन को लेकर सावधान रहें और बात को ज़्यादा न बढ़ाएँ।

उपायः माथे पर हल्दी या केसर का तिलक लगाकर ही घर से बाहर निकलें।

तुला साप्ताहिक राशिफल

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के लिए सूर्य देव दशम भाव के स्वामी हैं और अब वे वर्तमान में अपना गोचर करते हुए आपकी राशि से एकादश भाव में संचरण करेंगे। कुंडली में एकादश भाव वृद्धि का स्थान माना जाता है, इसलिए इस भाव में सूर्य का गोचर आपके जीवन में आने वाले कई बदलावों के संकेत दे रहा है। इसके अतिरिक्त इस भाव से हम जातक के बड़े भाई-बहन, वरिष्ठ अधिकारी, महत्वाकांक्षाएं तथा आय के स्रोत का भी पता लगते हैं। ऐसे में सूर्य का यह गोचर आपके लिए सामान्य से शुभ ही रहेगा। आप इस दौरान काफी सकारात्मक दिखाई देंगे।

आर्थिक जीवन में भी आपके आय के स्रोतों में वृद्धि होगी और आप एक से अधिक माध्यमों से आमदनी करने में सफल रहेंगे। आप प्राप्त इस धन के चलते कई उपलब्धियां हासिल करेंगे। पारिवारिक जीवन में भी घर पर शांति का वातावरण आपको मानसिक सुख देगा। आपके पिता आपको पूरा सहयोग करेंगे। परंतु फिर भी कोई भी बड़ा निर्णय लेने से पहले अपने पिता की राय लेना आपके लिए आवश्यक रहेगा।

साथ ही सूर्य के कन्या राशि में गोचरकाल के दौरान आपको अपने करियर में सफलता हासिल करने के लिए खुद को सकारात्मक रखते हुए, अपने आत्मविश्वास को बनाए रखने की अधिक ज़रूरत होगी। क्योंकि ऐसा करके ही आप हर कार्य को समय पर पूरा करने में सक्षम होंगे। कार्यस्थल पर आपके वरिष्ठ अधिकारी आपका खुलकर समर्थन करेंगे और उनका मार्गदर्शन भी आपको प्राप्त हो सकेगा।

सूर्य देव इस दौरान आपकी रुचि दान-धर्म के कार्यों में बढ़ाएंगे। इसके अलावा इस समय आपको कोई बड़ी उपलब्धि भी हासिल होने के योग दिखाई दे रहे हैं। इसलिए इस समय का उचित लाभ उठाएं।

उपायः नियमित रूप से भगवान गणेश की पूजा करें और उन्हें पीले फूल अर्पित करें।

वृश्चिक साप्ताहिक राशिफल

धनु

धनु राशि के लिए सूर्य उनके नवम भाव के स्वामी होते हैं और अब वे अपना गोचर करते हुए आपकी राशि से दशम भाव में विराजमान हो जाएंगे। कुंडली में दशम भाव को कर्म भाव कहा गया है। क्योंकि इसके द्वारा ही हम जातक के प्रोफेशनल, करियर, आदि का पता लगाते हैं। ऐसे में आपके दशम भाव में सूर्य का गोचर होने से आपको अधिक बल प्राप्त होगा। खासतौर से कार्यक्षेत्र पर आप इस दौरान शुभ परिणाम प्राप्त करेंगे। वो जातक जो नौकरीपेशा हैं उन्हें अपनी नौकरी में प्रमोशन मिलने के योग बनते दिखाई दे रहे हैं। साथ ही इस समय आपके द्वारा किए गए सभी कार्य आपको अपार सफलता मिलने के योग भी बनाएंगे।

वहीं यदि आप व्यापार से जुड़े हैं तो भी आपको जीवन में सूर्य देव अच्छे व नए अवसर देंगे। इससे अपने बिज़नेस में विस्तार करने में आपको सफलता मिल सकेगी। अब बात करें स्वास्थ्य दृष्टिकोण की तो सेहत से संबंधित समस्याओं से यदि आप पिछले काफी समय से परेशान चल रहे थे तो सूर्य देव का प्रभाव आपको अपनी उन सभी परेशानियों से निजात दिलाने वाला है। जिसके परिणामस्वरूप आप अपने स्वस्थ और सेहतमंद जीवन का खुलकर आनंद ले सकेंगे।

सामाजिक जीवन में भी इस सूर्य के कन्या राशि में गोचरकाल के दौरान आपको उत्तम फल मिलेंगे। आपको समाज के कई प्रभावी लोगों से मुलाकात करने का अवसर मिलने से समाज में आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा।

उपायः अपने घर के पास ही के किसी भी मंदिर में जाकर शिवलिंग पर पीली सरसों चढ़ाएं।

धनु साप्ताहिक राशिफल

विद्वान ज्योतिषियों से प्रश्न पूछें और पाएं हर समस्या का समाधान

मकर

मकर राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके अष्टम भाव के स्वामी होकर, अब आपकी राशि से नवम भाव में गोचर करने जा रहे हैं। कुंडली में नवम भाव को हमारे भाग्य स्थान के रूप में देखा जाता है। साथ ही इसी भाव से हमे व्यक्ति की धार्मिक मान्यताओं, सुदूर यात्राएं, तीर्थाटन, गुरु एवं गुरु तुल्य लोग, समाज में मान-सम्मान आदि के बारे में जानकारी मिलती है। ऐसे में सूर्य के नवम भाव में गोचर करने का प्रभाव आपके जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव लेकर आने वाला है।

खासतौर से व्यक्तिगत जीवन में आपको शुरुआत से ही अपने कार्यों के प्रति सावधानी बरतते हुए खुद को शांत रखने की ज़रूरत होगी, अन्यथा समाज में आपका मान-सम्मान प्रभावित होने से आपकी छवि पर इसका नकारात्मक प्रभाव दिखाई देगा। इसके अलावा आपको किसी भी मुद्दे पर दूसरों के ऊपर खुद को हावी होने से भी रोकना होगा।

स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से आपको अपनी सेहत का ध्यान रखते हुए खुद को मानसिक तनाव देने से बचाना होगा। ऐसे में जितना संभव हो घर का बना खाना ही खाएं और बाहर के खाने से परहेज करें। निजी जीवन में भी पिता के साथ इस गोचर के दौरान आपका कुछ मनमुटाव हो सकता है। इसलिए कोशिश करें और खुद को शांत रखते हुए उनके साथ बहस में न पड़े। साथ ही आपको अपने घर-परिवार में बिना पूरी परिस्थिति समझे किसी भी बात पर अपनी राय न देने की भी सलाह दी जाती है।

उपाय: नियमित रूप से हनुमान जी की पूजा करें। साथ ही तांबे के लोटे में सिंदूर डालकर रोजाना सुबह सूर्यदेव को जल अर्पित करें।

मकर साप्ताहिक राशिफल

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए सूर्य आपकी राशि के सप्तम भाव के स्वामी होते हैं और अब वे अपने इस गोचर के दौरान आपकी राशि से अष्टम भाव में विराजमान हो रहे हैं। अष्टम भाव को वैदिक ज्योतिष में काफी रहस्यमय भाव माना गया है। क्योंकि इसके द्वारा ही हम व्यक्ति के जीवन में आने वाले बड़े बदलाव, आध्यात्मिकता, जीवन के संघर्ष व रुकावट, अप्रत्याशित लाभ एवं हानि, ससुराल पक्ष आदि के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। ऐसे में अष्टम भाव में सूर्य के जाने से इस अवधि में आपको अपने जीवन में कई वाद-विवाद का सामना करना पड़ सकता है।

साथ ही आशंका ये भी है कि इस समय आपका बल और बुद्धि दोनों ही आपके लिए परेशानी का कारण बनें। क्योंकि इन दोनों से आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। ऐसे में जहां तक संभव हो किसी भी प्रकार के वाद-विवाद में न पड़े और हर परिस्थिति में खुद को शांत रखें। इसके अलावा कुंभ राशि के जातकों को इस समय हर प्रकार के गैरकानूनी कार्यों से भी दूर रहने की सलाह दी जाती है।

अब बात करें आपके निजी जीवन की तो शादीशुदा जातकों को इस अवधि में अपने जीवनसाथी के कमज़ोर स्वास्थ्य के कारण तनाव मिलेगा। इसलिए आपको साथी की सेहत का शुरुआत से ही ध्यान रखना होगा। ये गोचर आपको भी सिर से संबंधित कोई शारीरिक समस्या देने वाला है। वहीं आर्थिक जीवन के लिहाज़ से इस समय आपके बढ़ते खर्चें आपके लिए तनाव व चिंता का कारण रहेंगे। इसलिए अपने खर्चों पर नियंत्रण रखें और आवश्यकता के अनुसार ही खरीदारी करें व अपना धन संचय करें।

उपाय: रोजाना पानी में एक चुटकी सिंदूर डालकर ही स्नान करें।

कुंभ साप्ताहिक राशिफल

मीन

मीन राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके षष्ठम भाव के स्वामी हैं और अपने इस गोचर के दौरान वे आपकी राशि से सप्तम भाव में विराजमान होंगे। कुंडली का सप्तम भाव जीवन में लंबे समय तक चलने वाले रिश्तों को दर्शाता है और साथ ही आपके विवाह, जीवनसाथी, व्यावसायिक साझेदार, इंपोर्ट-एक्सपोर्ट का व्यापार, समाज में छवि, आदि के बारे में भी जानकारी देता है। ऐसे में इस गोचर की अवधि में सबसे अधिक सूर्य देव आपके वैवाहिक जीवन को प्रभावित करने वाले हैं। जिसके परिणामस्वरूप शादीशुदा जातकों की अपने जीवनसाथी के साथ मनमुटाव की स्थिति देखी जाएगी। ये परिस्थितियां ही आपके विवाहित जीवन में परेशानियों का मुख्य कारण बन सकती हैं।

सूर्य के कन्या राशि में गोचर के दौरान आपको अपने अहंकार को अपने रिश्तों पर हावी न होने देते हुए, जीवनसाथी और अपनी संतान की सेहत का भी खास ख्याल रखना होगा। वहीं वो जातक जो विवाह के बंधन में बंधना चाहते थे उनके लिए अवधि प्रतिकूल रहेगी। कार्यक्षेत्र पर भी आप इच्छानुसार फल प्राप्त नहीं कर सकेंगे। खासतौर से व्यापार से जुड़े जातकों को ये गोचर कुछ प्रतिकूल फल मिलने की आशंका बनाएगा। विशेषरूप से जो लोग पार्टनरशिप का बिजनेस करते हैं, उनका अपने पार्टनर के साथ बड़ा विवाद हो सकता है।

हालांकि नौकरीपेशा जातकों को यूँ तो सूर्य देव अतिरिक्त मेहनत के लिए लगातार प्रेरित करने का कार्य करेंगे। परंतु बावजूद इसके उनका कार्यस्थल पर किसी कर्मी या अधिकारी के साथ विवाद हो सकता है। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से समझें तो इस अवधि में आपको पेट दर्द, सिर दर्द, अपच, गैस, मानसिक परेशानी, आदि के कारण सबसे अधिक समस्या रहने वाली है।

उपाय: किसी भी शिव मंदिर में जाकर सफेद चावलों का दान दें।

मीन साप्ताहिक राशिफल

रत्न, रुद्राक्ष समेत सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।