कोरोनावायरस : घर पर ही रहें घर से बाहर तभी निकलें जब बेहद ज़रूरी हो इससे आप नोवल कोरोना वायरस और कोविड-19 को फैलने से रोकने में मदद कर सकते हैं

  • AstroSage Child Report Banner
  • AstroSage Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Career Guidance

सूर्य का कर्क राशि में गोचर - 16 जुलाई, 2020

सूर्य ग्रह का गोचर 16 जुलाई 2020 सुबह 10:32 बजे कर्क राशि में होगा और 16 अगस्त 2020 शाम 18:56 बजे तक यह इसी राशि में रहेगा। सूर्य आत्मा का कारक ग्रह है और यह आपकी नेतृत्व क्षमता, प्रशासनिक क्षमता, पिता आदि का कारक है। यदि कुंडली में सूर्य मजबूत अवस्था में है तो ऐसा व्यक्ति राजा की तरह जिंदगी जीता है, वहीं जिस जातक की कुंडली में यह अच्छी अवस्था मेें नहीं होता उसे जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सूर्य ग्रह को मजबूत करने के लिए सूर्य से जुड़े उपाय आपको करने चाहिए।

जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने के लिए ज्योतिषी से प्रश्न पूछें

सूर्य का गोचर कर्क राशि में हर शख्स के जीवन में कुछ न कुछ परिवर्तन लेकर आएगा। आईए जानते हैं कि सूर्य के इस गोचर से आपकी राशि कैसे प्रभावित होगी।

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

Read in English: Sun transit in Cancer

सूर्य का कर्क राशि में गोचर

मेष

सूर्य ग्रह का गोचर आपके चतुर्थ भाव में हो रहा है जोकि आपके मन, घर, सुख-सुविधाओं और माता का कारक है। मेष राशि के जातक होने के कारण आप हर काम को बहुत जल्दी करना चाहते हैं लेकिन इस गोचर काल के दौरान आपके कुछ कामों में देरी हो सकती है। इसकी वजह से आपके अंदर आक्रामकता और हताशा की भावना आ सकती है और अपना गुस्सा आप घर के लोगों पर उतार सकते हैं। जिसकी वजह से आप मानसिक रुप से परेशान हो सकते हैं और घर का माहौल भी बिगड़ सकता है।

इस गोचर काल के दौरान आपके अंदर आर्थिक मुद्दों को लेकर अनिश्चितता और असुरक्षा की भावना पैदा हो सकती है जिसके चलते आप अपनी योग्यता पर भी शक कर सकते हैं। इसकी वजह से आप खुद को अलग-थलग पाएंगे और कई कामों को अधूरा भी छोड़ सकते हैं। इस दौरान आपको कोई ऐसा काम मिल सकता है जिसमें आपकी जरा भी दिलचस्पी नहीं है जिसके कारण कार्यक्षेत्र में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ असहमति हो सकती है। आपको कार्यक्षेत्र में किसी भी तरह का लड़ाई-झगड़ा करने से बचना चाहिए। हमारी आपको यही सलाह रहेगी कि हर काम को संजीदगी के साथ करें क्योंकि हर काम से आपको कुछ न कुछ सीखने को अवश्य मिलता है।

इस अवधि में प्रॉपर्टी से संबंधी मामले भी टल सकते हैं और परिणामों में दिक्कत आ सकती है इसलिए इस गोचर काल के दौरान इन मुद्दों पर ज्यादा विचार न करें, नहीं तो आपका कीमती समय बर्बाद हो सकता है। हालांकि यह गोचर आपके जीवनसाथी के लिए शुभता लेकर आएगा उन्हें कार्यक्षेत्र और समाज में अच्छे फल प्राप्त होंगे। इस गोचर का मुख्य संदेश यह है कि आप जबरदस्ती किसी काम को करने की बजाय धैर्य के साथ काम करें तब आपको शुभ फल अवश्य प्राप्त होंगे।

उपाय- अपने सोने के कमरे में तांबे की धातु से बने बर्तन गुलाब के फुल रखने से आपको शुभ परिणाम प्राप्त होंगे।

वृषभ

वृषभ राशि के जातकों के साहस और पराक्रम में वृद्धि देखने को मिलेगी क्योंकि सूर्य आपके प्रयासों, साहस और भाई-बहनों के तृतीय भाव में गोचर कर रहा है। आप बहुत मेहनती हैं और अपने कामों से उत्पादकता बढ़ाने वाले हैं। इस गोचर काल के दौरान आप अपने लक्ष्यों को पाने के लिए पूरी मेहनत करेंगे। आपको हर काम में नंबर वन बनने की प्रेरणा मिलेगी जिससे आप औरों से बेहतर साबित होंगे।

इस राशि के पेशेवर लोगों की बात की जाए तो, जो लोग आमदनी में बढ़ोतरी की उम्मीद लगा रहे थे उन्हें कोई अच्छी खबर इस दौरान मिल सकती है। इस गोचर से आपके जीवन में खुशियां आएंगी और आपका आर्थिक पक्ष भी मजबूत रहेगा स्वास्थ्य को लेकर भी कोई परेशानी नहीं रहेगी। सूर्य आपके चतुर्थ भाव का स्वामी है जो आपके घर की तरफ इशारा करता है। यही सूर्य ग्रह अपने से द्वादश भाव में गोचर कर रहा है, जो दर्शाता है कि इस दौरान की गई यात्राएं आपके लिए फलदायक साबित होंगी। इस दौरान आपके अंदर ऊर्जा की अधिकता रहेगी जिसके चलते आप अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकल सकते हैं। इस समय आप नई चीजों में हाथ आजमा सकते हैं जिससे आपको सफलता और सम्मान प्राप्त हो सकता है।

यह समय अपने भाई-बहनों के साथ व्यतीत करने के लिए भी अच्छा है, यदि आप लोगों के बीच संवादहीनता है तो वो दूर की जा सकती है। एक बात विशेष ध्यान रखने की है कि तृतीय भाव आपकी सुनने की क्षमता को भी प्रदर्शित करता है और सूर्य को कई बार एक क्रूर ग्रह कहा जाता है इसलिए इस गोचर के दौरान आपकी सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है।

उपाय: रविवार के दिन गाय को गुड़ खिलाना आपके लिए शुभ रहेगा।

मिथुन

स्वभाव से मिथुन राशि के जातक आकर्षक और मीठी बातें करने वाले होते हैं, लेकिन आपकी वाणी के दूसरे घर में सूर्य का यह गोचर आपको कभी-कभी बातचीत में कठोर बना सकता है। इस गोचर के दौरान आपके परिवार में कुछ परेशानियां आ सकती हैं। चूंकि सूर्य को एक शुष्क ग्रह कहा जाता है और यह आपके बचत के घर में विराजमान है इसलिए इस गोचर काल के दौरान आर्थिक पक्ष कुछ कमजोर रह सकता है।

अपने लक्ष्यों और महत्वाकांक्षाओं को साकार करने के लिए आपको बहुत अधिक प्रयास करने की आवश्यकता होगी। इस गोचर काल के दौरान आपको कोई भी काम अटकलों के आधार पर शुरु नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से आपको आर्थिक परेशानी हो सकती है।

इस भाव से आपके खानपान का भी पता चलता है, इस भाव में सूर्य की स्थिति यह इंगित करती है कि आपको अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना होगा नहीं तो स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं आपको हो सकती हैं। आंखों से जुड़ी समस्या होने की भी संभावना है इसलिए अपनी आंखों पर बहुत ज्यादा तनाव न डालें। यदि आपके भाई-बहन विदेशों में बसने की सोच रहे हैं या किसी बहुदेशीय कंपनी में काम कर रहे हैं तो यह समय उनके लिए शुभ साबित हो सकता है।

उपाय: सूर्योदय के समय गायत्री मंत्र का जाप करना आपके लिए शुभ है।

एस्ट्रोसेज बृहत् कुंडली से जानें आपकी कुंडली में मौजूद दोष और योग के बारे में

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए सूर्य का गोचर उनके लग्न भाव में होगा जिससे आपके नेतृत्व और प्रशासनिक गुणों में वृद्धि होगी। इस गोचर से आप में व्यवस्थित होने की सोच आएगी। इस समय आप लंबित कार्यों और प्रयासों को पूरा कर सकते हैं। इस गोचर के चलते आपके स्वभाव में गर्मजोशी रहेगी और अपने प्रिय लोगों के प्रति आप रक्षात्मक रहेंगे। हालांकि पिता का साथ आपके कुछ वैचारिक मतभेद हो सकते हैं जिससे घर का माहौल खराब हो सकता है।

चूंकि सूर्य की दृष्टि आपके सप्तम भाव पर भी है इसलिए जीवनसाथी के साथ भी नोक झोंक हो सकती है, जिससे दांपत्य जीवन में उतार-चढ़ाव आएगा। ऐसा इसलिए है कि आपकी प्रतिक्रिया तीखी हो सकती हैं और आपका अहम बीच में आ सकता है जिससे आपके निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित हो सकती है और इससे रिश्ते पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए आपको धैर्य रखने की जरुरत है और अपने अभिमान को अपने फैसलों पर हावी होने से रोकने की जरुरत है।

अगर आपको ब्लड प्रेशर, हार्ट आदि से जुड़ी कोई पुरानी स्वास्थ्य समस्या है तो इस दौरान किसी भी तरह की कोताही न बरतें क्योंकि आपका स्वास्थ्य खराब होने के चांस हैं। योग, ध्यान, शारीरिक व्यायाम आदि आपकी कई समस्याओं को दूर कर सकता है और आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। इससे आपको अपनी ऊर्जा को सही दिशा में केंद्रित करने की भी शक्ति मिलेगी।

उपाय- सूर्योदय के समय सूर्य देव को अर्घ्य देना आपके लिए शुभ रहेगा।


क्या आपकी कुंडली में भी हैं अमीर बनने के योग? अभी ऑर्डर करें राज योग रिपोर्ट

सिंह

सिंह राशि के जातकों को स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है, क्योंकि सूर्य आपके व्यय और विदेश यात्राओं के द्वादश भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर से आपके आत्मविश्वास में कमी आ सकती है और आप अपनी क्षमताओं पर संदेह कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपका आत्म बल कम होने की भी संभावना है। इस वजह से, आप कार्यस्थल में संतोष और खुशी के साथ काम करने की बजाय दूसरों से मान्यता और प्रशंसा पाने की कोशिश करते नजर आ सकते हैं। इस वजह से आपको जल्दबाजी में फैसले लेने पड़ सकते हैं, जिससे आपकी ऊर्जा सही दिशा में उपयोग होने के बजाय गलत दिशा में चली जाएगी।

इस गोचर काल के दौरान कोई भी ऐसा काम न करें जिससे कानून का उलंघन होता हो या कोई नियम टूटता हो, यदि आप ऐसा करते हैं तो अनावश्यक परेशानी में पड़ सकते हैं। आपके पेशेवर जीवन की बात की जाए तो, यह निर्णय लेने के लिए सही समय नहीं है। इस दौरान आप जमीन से जुड़े रहें और अपनी पुरानी गलतियों से सीख लें तो आपके लिए अच्छा रहेगा।

आर्थिक तौर पर किसी भी तरह के निवेश के लिए यह समय अच्छा नहीं है। इससे आपकी जमा पूंजी भी समाप्त हो सकती है और आप मानसिक रुप से अशांत भी हो सकते हैं। इस समय आपको कोई भी निर्णय सोच-समझकर लेना चाहिए, भावनाओं में बहकर कोई भी फैसला न लें। आपके निजी जीवन की बात की जाए तो इस गोचर के दौरान आप आक्रामक और आत्म केंद्रित हो सकते हैं जिसकी वजह से जीवनसाथी के साथ आपके मतभेद हो सकते हैं। ऐसे समय में आपको शांति से अपने जीवनसाथी से बातचीत करनी चाहिए। इससे आपके निजी जीवन में अच्छे बदलाव आएंगे।

उपाय: अपने दाहिने हाथ की छोटी अंगुली रविवार के दिन तांबे या सोने की अंगूठी में रूबी स्टार (8-9 कैरेट) पहनना आपके लिए शुभफलदायक रहेगा।

कन्या

सूर्य ग्रह आपके एकादश भाव में गोचर करेगा इसलिए यह गोचर कन्या राशि के जातकों के लिए अत्यंत शुभ रहेगा। यदि आप आयात-निर्यात का कोई काम करते हैं या किसी विदेशी संगठन में काम करते हैं तो यह गोचर आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध होगा। इस समय काल में आपको पेशेवर जीवन में अचानक धन लाभ होने की संभावना है जिससे आपका आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।

आपको अपने पिता, पितातुल्य या किसी सरकारी संस्था से भी इस दौरान लाभ हो सकता है। यदि आपने साझेदारी में कोई बिजनेस किया है तो इससे आपको लाभ होने की भी इस समय पूरी संभावना है। इस राशि के जो जातक नौकरी पेशा हैं उन्हें अपने प्रयासों का अच्छा फल मिल सकता है, आपके काम को वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सराहा जा सकता है। काम के संबंध में इस राशि के जो जातक इस अवधि में यात्रा करेंगे उन्हें भी मनमाफिक परिणाम मिल सकते हैं।

आपके स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो, किसी पुरानी बीमारी से इस दौरान आपको राहत मिल सकती है। अपने रिश्तों में इस दौरान आप गर्मजोशी से नयी ऊर्जा भर सकते हैं। कुल मिलाकर देखा जाए तो सूर्य का यह गोचर आपके पेशेवर और निजी जीवन दोनों के लिए ही अच्छा रहेगा। हालांकि सूर्य की यह स्थिति आपके दृष्टिकोण को कभी-कभी कठोर बना सकती है, जोकि आपका स्वाभाविक गुण नहीं है। इसके चलते आप उन मुश्किल समस्याओं का रचनात्मक हल निकाल पाने में असमर्थ हो सकते हैं जो आपके जीवन में आ रही हैं।

उपाय: सूर्योदय के समय सूर्याष्टक का पाठ करना आपके लिए शुभ रहेगा।


शिक्षा और करियर क्षेत्र में आ रही हैं परेशानियां तो इस्तेमाल करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

तुला

तुला राशि के जातकों के दशम भाव में सूर्य ग्रह का गोचर होगा। इस भाव में सूर्य अपनी दिगबली अवस्था में होता है। इस भाव से आपके करियर और पेशेवर जीवन के बारे में विचार किया जाता है। सूर्य की यह स्थिति तुला राशि के जातकों में सक्रियता भरेगी और आपमें प्रबंधन और नेतृत्व करने के गुण आएंगे। इससे आपको अपने पुराने लक्ष्यों को प्राप्त करने की शक्ति मिलेगी और नये काम को भी आप बहुत अच्छी तरह से कर पाएंगे। इसके चलते उच्च अधिकारियों के बीच आपकी छवि सुधरेगी। आपको नई जिम्मेदारियां भी इस दौरान मिल सकती हैं, वहीं कुछ जातकों को किसी संस्था में अच्छा पद प्राप्त हो सकता है।

पिता या किसी सरकारी संस्था से भी आपको लाभ प्राप्त हो सकता है। इस राशि के जो जातक सरकारी जॉब की तैयारी कर रहे हैं उन्हें भी मनमाफिक फल इस समय मिल सकते हैं। प्रॉपर्टी से जुड़े मामलों में भी आपको इस दौरान फायदा होगा। सूर्य के गोचर के चलते सामाजिक जीवन में भी आपका मान-सम्मान बढ़ेगा।

सूर्य देव के इस गोचर काल में स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं भी दूर हो जाएंगी। हालांकि सूर्य के इस गोचर के दौरान आप खुद को हर बार सही साबित करने की कोशिश कर सकते हैं, जिसके चलते निजी और पेशेवर जीवन में इस राशि के जातकों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय: किसी विशेष काम के लिए जाने से पहले अपने पिता, पितातुल्य या भगवान की मूर्तियों के चरण छूकर उनका आशीर्वाद लेना आपके लिए शुभ रहेगा।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के लोगों के दशम भाव का स्वामी होकर सूर्य नवम भाव में गोचर कर रहा है। सूर्य की यह स्थिति आपके कामों में देरी ला सकती है और पेशेवर जीवन में आपको कुछ परेशानियां हो सकती हैं, ऐसा इसलिए भी है कि सूर्य जिस स्थिति में सबसे मजबूत होता है उससे द्वादश भाव में विराजमान है। इस दौरान अपने पिता, पितातुल्य लोगों से भी आपको शिकायतें हो सकती हैं। इस गोचर काल के दौरान आपको ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए जो कानून के खिलाफ हो, नहीं तो किसी बड़ी परेशानी में पड़ सकते हैं।

पेशेवर जीवन में इस राशि के जातक किसी झूठे आरोप में फंस सकते हैं, जिसके चलते आप परेशान हो सकते हैं। चूंकि सूर्य आपके तृतीय भाव पर भी दृष्टि डाल रहा है, जोकि आपकी वाणी का कारक भाव है इसलिए आप बातों में कठोरता हो सकती है जिसके कारण परिवार के लोगों और जीवनसाथी के साथ तालमेल बिठाने में मुश्किल आ सकती है।

इस गोचर की अवधि में आर्थिक पक्ष भी कुछ कमजोर रह सकता है, इसलिए आपको अपने संसाधनों का सही से इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। इस समय किसी भी तरह की यात्रा खासकर धार्मिक यात्राएं न करें क्योंकि इनसे आपको लाभ की बहुत कम संभावना है। स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो आपको घुटनों और टांगों से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, इसलिए अपना ख्याल रखें।

उपाय: इस गोचर काल के दौरान हरिवंश पुराण का पाठ करना आपके लिए शुभ रहेगा।

धनु

सूर्य ग्रह का गोचर आपक अष्टम भाव में होगा जिसे अनिश्चितताओं और परिवर्तन का भाव भी कहा जाता है। सूर्य का यह गोचर धनु राशि के जातकों के लिए चुनौतीपूर्ण रह सकता है। इस दौरान आपको किसी तरह का घाटा हो सकता है जिसके चलते आप आर्थिक तौर पर असुरक्षित महसूस करेंगे।

पेशेवर जीवन में, वरिष्ठ अधिकारियों या सरकार से समस्याएं हो सकती हैं। इस समय आपके विरोधी सक्रिय हो सकते हैं जिसके कारण आपके जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं और आपके विकास की गति धीमी पड़ सकती है। इस गोचर काल के दौरान किसी से ऋण लेने और किसी को ऋण देने से बचें।

इस गोचर काल के दौरान आप किसी कानूनी पचड़े में भी पड़ सकते हैं जिसके कारण आपकी मानसिक शांति भंग हो सकती है। आप बातचीत के दौरान थोड़े कठोर हो सकते हैं जिसके कारण परिवार और ससुराल पक्ष के लोगों के साथ आपके मतभेद होंगे, इस वजह से आपके व्यक्तिगत जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं।

आपका स्वास्थ्य भी इस गोचर के दौरान बहुत अच्छा नहीं रहेगा और दुर्घटना होने की भी संभावना है। इस अवधि में वाहन आपको बहुत सावधानी से चलाने चाहिए। सूर्य आपके खानपान के द्वितीय भाव पर नजर डाल रहा है इसलिए खानपान पर भी आपको विशेष ध्यान देने की जरुरत है, नहीं तो पेट या दांतों से जुड़ी कोई समस्या आपको हो सकती है। हालांकि यह समय योग ध्यान आदि करने के लिए बहुत अच्छा है यह आपको आपसे जोड़ेगा और आप अपनी अंदरुनी क्षमताओं को पहचान पाएंगे।

उपाय: बेल की जड़ को एक सफेद धागे में बांधकर गले में धारण करना आपके लिए शुभ रहेगा।

मकर

मकर राशि के जातकों के सप्तम भाव में सूर्य ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को साझेदारी और जीवनसाथी के बारे में विचार किया जाता है, इस भाव में सूर्य का गोचर मकर राशि के जातकों के लिए बहुत शुभ नहीं कहा जा सकता। सूर्य की इस स्थिति के चलते कार्यक्षेत्र में आप अपने सहकर्मियों या बॉस के साथ उलझ सकते हैं, जिसके कारण आपको मानसिक तनाव हो सकता है, और परेशानियां बढ़ सकती हैं।

यदि आप बिजनेस करते हैं तो साझेदार के साथ भी आपके मतभेद हो सकते हैं। आपके प्रतिद्वंदी इस दौरान आपसे दो कदम आगे रहेंगे। इस समय आपके कुछ काम अटक सकते हैं जिसकी वजह से आप खुद को बेसहारा महसूस करेंगे। इस अवधि में तभी यात्रा करें जब यात्रा करना बहुत जरुरी हो, क्योंकि इस गोचर काल के दौरान यात्राओं से आर्थिक लाभ या कोई सफलता मिलने की संभावना बहुत कम है। चूंकि इस भाव से आपके सामाजिक जीवन का भी पता चलता है इसलिए सामाजिक स्तर पर भी आपको बहुत संभलकर रहने की सलाह दी जाती है, अगर आप ऐसा नहीं करते तो आपकी छवि खराब हो सकती है।

इस राशि के प्रेमी-प्रेमिकाओं की बात की जाए तो इस समय आपका जीवनसाथी आप पर वर्चस्व जमाने की कोशिश करेगा, जिसके कारण आप दोनों के बीच कहासुनी की स्थिति बन सकती है। इस राशि के जो जातक शादीशुदा हैं वो अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हो सकते हैं।

उपाय: पानी पीने के लिए तांबे के पात्र का इस्तेमाल करना आपके लिए शुभ रहेगा।

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के षष्ठम भाव में सूर्य ग्रह का गोचर हो रहा है। इस भाव से आपके शत्रु, प्रतियोगिताओं आदि के बारे में विचार किया जाता है। षष्ठम भाव में सूर्य का गोचर कुंभ राशि के जातकों के लिए शुभ रहेगा। इस गोचर काल के दौरान आपकी प्रतिस्पर्धी क्षमता में वृद्धि होगी जिसके चलते आप बाकी लोगों से अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। इस अवधि में आप अपने लक्ष्यों और कार्यों को सफलता पूर्वक पूरा कर पाएंगे।

इस राशि के जो जातक नई जॉब की तलाश में हैं उन्हें कई अवसर इस दौरान प्राप्त हो सकते हैं। इसके साथ ही वर्तमान जॉब में भी इस राशि के लोगों को अच्छे फल मिल सकते हैं, आपकी पदोन्नति हो सकती है या आपकी आमदनी बढ़ सकती है। इस समय सूर्य आपकी मुख्य खूबियों निखारने में मदद करेगा।

यात्राएं इस समय आपके लिए शुभ रहेंगी खासकर वह यात्राएं जो आपके कामकाज से जुड़ी हों। कानूनी कामों में भी सूर्य की यह स्थिति आपके लिए अच्छी रहेगी आप अपने विरोधियों से चार कदम आगे रहेंगे। आपके स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो इस दौरान आप स्वस्थ रहेंगे और आपकी प्रतिरोधक क्षमता भी कमाल की रहेगी जिसके चलते आप जीवन का पूरा आनंद ले पाएंगे। हालांकि अपने जीवनसाथी को लेकर इस दौरान आपको कुछ चिंताएं हो सकती हैं।

उपाय: बादाम का सेवन करना और जरुरतमंदों को इसका दान करना आपके लिए शुभ रहेगा।

मीन

मीन राशि के जातकों के प्रयास सही दिशा में जाने की बजाय भटक सकते हैं क्योंकि सूर्य का गोचर मीन राशि के जातकों के पंचम भाव में हो रहा है। इस भाव से आपकी प्लानिंग और बुद्धि का पता चलता है। पेशेवर जीवन में आपके पास कोई ऐसा कार्य आ सकता है जिसके बारे में आपने सोचा न हो। इसके साथ ही उच्च अधिकारियों के साथ भी आपके मतभेद इस दौरान हो सकते हैं, जिसकी वजह से अनचाहे तनाव और चिंता जनक स्थिति बन सकती है।

आप कुछ ऐसी स्थितियों का सामना कर सकते हैं जिनमें आपके दुश्मन या प्रतिद्वंदी आपको निशाना बना सकते हैं और आपको लक्ष्यों को प्राप्त करने से पीछे खींच सकते हैं। इस दौरान सतर्क और आशावादी बने रहें जो कि आपका प्राकृतिक गुण है। आपके निजी संबंधों की बात की जाए तो सूर्य की स्थिति के कारण निजी जीवन में आपका व्यवहार थोड़ा कठोर हो सकता है। इसके चलते रिश्तों में अहम का टकराव होने की भी संभावना है।

विवाहित जातकों की बात की जाए तो आप छोटे-छोटे मुद्दों को लेकर भी बहुत जल्दी नाराज और परेशान हो सकते हैं। इस वजह से आपके घर का माहौल भी खराब हो सकता है। आपको अपने व्यवहार में कठोरता नहीं लानी चाहिए क्योंकि यह मीन राशि के जातकों का मूल स्वभाव नहीं है, बजाय इसके आपको व्यवहार में लचीलापन लाने की जरुरत है। अगर आपके स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो आपको गैस की समस्या हो सकती है। इसलिए आपको अत्यधिक तला-भुना और मसालेदार भोजन नहीं करना चाहिए।

उपाय: सुबह के समय आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना आपके लिए शुभ रहेगा।


ज्योतिषीय उपायों जैसे रत्न, यंत्र आदि की जानकारी के लिए एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर पर जाएं

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।