• AstroSage Big Horoscope
  • Raj Yoga Reort
  • Kp System Astrologer

शनि का गोचर

सामान्य रूप से शनि ग्रह की हलचल को शुभ नहीं माना जाता है। शनि की चाल बेहद धीमी है इसलिए इसके परिणाम भी ठोस एवं स्थिर होते हैं। यह मकर और कुंभ राशि का स्वामी है और वृषभ और तुला राशि के लिए योगकारक ग्रह है। लगभग ढाई साल के अंतराल में शनि एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करता है। शनि को सेवा, नौकर एवं लोकतांत्रिक संस्थाओं का कारक माना जाता है। इसके प्रभाव से जातक अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए परिश्रमी बनता है। यह जातक की संकल्प शक्ति को भी बढ़ाता है इसलिए इसे कर्मों का ग्रह भी कहा जाता है। शनि गोचर के दौरान साढ़े साती को मुख्य रूप से ध्यान में रखा जाता है। साढ़े साती शनि ग्रह के गोचर के दौरान पड़ने वाली स्थिति है। सामान्यत: इसे जातक के लिए अशुभ माना जाता है। इस समयावधि में जातक को उसके कर्मों के आधार पर फलों की प्राप्ति होती है। आइये जानते हैं शनि का गोचर आपके जीवन को किस तरह प्रभावित करेगा ।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।