आपकी राशि

वैदिक ज्योतिष में कुल बारह राशि होती हैं। इनमें हर राशि का अपना एक स्वभाव, विशेषता और चिन्ह होता है। प्रत्येक राशि का अपना एक स्वामी होता है जो उस राशि को नियंत्रित करता है। हिंदू ज्योतिष पद्धति के अनुसार सूर्य और चंद्रमा को एक-एक राशि का स्वामित्व प्राप्त है जबकि मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और शनि ग्रह को दो-दो राशि का स्वामित्व मिला है। राशि और राशि के स्वामी के स्वभाव व विशेषता का हमारे व्यक्तित्व पर पूरा असर होता है, इसलिए किसी भी व्यक्ति के स्वभाव, व्यक्तित्व, स्वास्थ्य और गुण व दोष का अंदाजा उसकी राशि के बारे में जानकर लगाया जा सकता है। वैदिक ज्योतिष में राशिफल की गणना चंद्र राशि के आधार पर होती है। हमारे जन्म के समय जब चंद्रमा आकाश मंडल में जिस राशि में उदित होगा वही हमारी चंद्र राशि होगी। वहीं पाश्चत्य ज्योतिष विद्या में सूर्य आधारित राशि को महत्वपूर्ण माना जाता है। इसमें जन्म के समय जब सूर्य जिस राशि में स्थित हो, वही हमारी राशि कहलाती है। वैदिक ज्योतिष में 12 राशि, 12 भाव और 27 नक्षत्र की स्थिति और गणना से व्यक्ति का राशिफल या भविष्यफल तैयार होता है। आइये जानते हैं आपकी राशि के अनुसार आपके स्वभाव, व्यक्तित्व, स्वास्थ्य और गुण व दोष के बारे में।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

नवग्रह यन्त्र खरीदें

ग्रहों को शांत और सुखी जीवन प्राप्त करने के लिए नवग्रह यन्त्र एस्ट्रोसेज लें।

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।