• AstroSage Big Horoscope
  • Raj Yoga Reort
  • Kp System Astrologer

शुक्र का गोचर

वैदिक ज्योतिष में शुक्र को शुभ ग्रह माना जाता है। यह भौतिक सुख-सुविधा, प्रेम, विवाह, वासना एवं कला आदि का कारक है। यदि जातक के जीवन में प्रेम और विवाह का पक्ष कमज़ोर हो तो उसे अपनी कुंडली में शुक्र की स्थिति को अवश्य देखना चाहिए। शुक्र का गोचर भौतिक सुख-समृद्धि जैसे अवसरों को अपने साथ लेकर आता है। यदि शुक्र आपकी कुंडली में त्रिकोणीय भाव (प्रथम, पंचम एवं नवम भाव) में स्थित है तो इसको अति शुभ माना जाता है। जातक को इसके अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं। शुक्र प्रत्येक तीन सप्ताह में एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करता है। मकर एवं कुंभ राशि के लिए शुक्र लाभकारी ग्रह है। यह वृषभ एवं तुला राशि का स्वामी होता है। वहीं बुध एवं शनि इसके मित्र ग्रह हैं। आइये जानते हैं शुक्र का यह गोचर सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव डालता है।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।