फिरोज़ा रत्न - Firoza Stone

Firoza Stone

मूल रूप से तुर्की में पाए जाने वाले फिरोज़ा को अंग्रेजी में टरक्वाइश (Turquoise) भी कहते हैं। यह गहरे नीले रंग का रत्न होता है। इस रत्न को पहनने के लिए ज़्यादा सोचने-समझने की ज़रूरत नहीं होती है। फिरोज़ा बृहस्पति ग्रह का रत्न होता है इसलिए इसे धारण करने से ज्ञान प्राप्त होता है और जीवन में सुख-समृद्धि आती है। इसी कारण इस रत्न को प्राचीन संस्कृति में धन के प्रतीक के रूप में जाना जाता था और इसे इसकी उपचारात्मक शक्तियों के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। यह रत्न केवल ज्योतिषीय दुनिया में ही नहीं बल्कि आभूषण के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसी कारण मूल और प्राचीन फिरोज़ा को प्राप्त करना मुश्किल होता है। यह एक ख़ूबसूरत व किफ़ायती रत्न है जो सभी चक्रों के बीच संतुलन बनाए रखता है और मन को विचलित होने से बचाता है। फिरोज़ा रत्न कई शेड्स जैसे एप्पल ग्रीन, ग्रीनिश ग्रे, ग्रीनिश ब्लू में उपलब्ध होता है लेकिन सबसे अच्छा रंग आसमानी नीला ही माना जाता है। पुरातन काल में फिरोज़ा को दयालुता व नम्रता पैदा करने के लिहाज़ से भी इस्तेमाल किया जाता था, इसी कारण इस रत्न को ताबीज़ के रूप में भी पहना जाता है। फिरोज़ा रत्न को सबसे कुशल मरहम के रूप में भी जाना जाता है। जब फिरोज़ा रत्न का रंग बदलता है या वह टूट जाता है तब यह भविष्य में आने वाली समस्याओं को इंगित करता है। यह दोस्ती, साहस और आशा का प्रतीक भी है।

फिरोज़ा के फायदे

फिरोज़ा व्यक्ति को अंजान रास्ते पर भटकने से रोकता है और हानिकारक चीज़ों से बचाता है। फिरोज़ा के कुछ और भी लाभ हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • यह आपकी सामाजिक स्थिति और मान-सम्मान में बढ़ोत्तरी करता है।
  • फिरोज़ा मानसिक स्थिति को मज़बूत बनाता है और संवाद के अभाव को दूर करता है।
  • इसके प्रभाव से अभूतपूर्व मन की शक्ति प्रदान होती है।
  • यह आपके आत्म-सम्मान और विश्वास को बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह आपकी मांसपेशियों की शक्ति को बढ़ाता है और आपको बुरी आत्माओं से बचाता है।
  • फिरोज़ा को सहानुभूति का उपचार रत्न भी कहा जाता है जिससे पहनने वाले की संवेदनशीलता और सोच शक्ति में सुधार होता है।
  • यह दुर्भाग्य को खत्म कर सौभाग्य प्रदान करता है और इस कारण जातक को बेहतर स्वास्थ्य, धन, ज्ञान, प्रसिद्धि और ताकत मिलती है।
  • फिरोज़ा रत्न पहनने से व्यक्तित्व में आकर्षण आता है और रचनात्मक शैली सुधरती है।

फिरोज़ा के नुकसान

सामान्यतः फिरोज़ा का कोई भी नकारात्मक प्रभाव नहीं होता है इसलिए इसे पहनने से कोई नुकसान नहीं होता।

फिरोज़ा रत्न का स्वास्थ्य पर प्रभाव

प्राकृतिक तौर पर हीलिंग यानि उपचार के गुण मौजूद होने के कारण फिरोज़ा रत्न को हीलिंग स्टोन के रूप में भी माना जाता है। इस रत्न को धारण करने से जातक को शारीरिक लाभ प्राप्त होता है और प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। इस पत्थर की मदद से शारीरिक और मानसिक शांति प्राप्त होती है। श्वास संबंधी या दांतों से संबंधित समस्या, उच्च रक्तचाप, संक्रमण, अवसाद और नशे की लत से बीमार लोगों के लिए यह रत्न काफी लाभदायक है। फिरोज़ा के शक्तिशाली प्रभाव के कारण प्रदूषण से होने वाली बीमारियों से निजात मिलती है। यदि किसी व्यक्ति पर कोई मुसीबत या परेशानी आने वाली होती है, तब यह रत्न अपना रंग बदल देता है। यह बदलाव भविष्य में आने वाली समस्याओं के प्रति सचेत करता है। फिरोज़ा के प्रभाव से थकान व सुस्ती भी दूर होती है। फिरोज़ा रत्न जातक की नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट कर देता है और उसे बेहतर संवाद शैली, रचनात्मक गुणों व कौशल से भर देता है।

जानें अपनी राशि के अनुसार अपना भाग्य रत्न: रत्न सुझाव

कौन कर सकता है फिरोज़ा धारण?

वैवाहिक जीवन में सुख प्राप्ति की मांग रखने वाले व विवाह में देरी से परेशान लोग इस रत्न को धारण कर सकते हैं। जो लोग प्यार में हैं और अपने प्यार को समाज में एक मुक़ाम देना चाहते हैं, वो भी इस रत्न को धारण कर सकते हैं। प्रेम संबंधों के लिए यह रत्न बहुत प्रभावी है। करियर में सफलता के लिए या जो लोग कलात्मक है, वो भी फिरोज़ा रत्न को धारण कर सकते हैं। धनु राशि के लोगों के लिए फिरोज़ा रत्न उपयुक्त है। इसके अलावा फिल्मी कलाकार, व्यवसायी व पेशे से आर्किटेक्चर, चिकित्सक और इंजीनियर भी इस रत्न को पहन सकते हैं क्योंकि यह कई मायनों में फ़ायदेमंद है। महत्वाकांक्षी व उभरता हुआ कोई भी कलाकार इस रत्न के प्रभाव से अपने अंदर आत्म-विश्वास महसूस कर सकता है। यदि निजी रिश्तों में कोई तनाव या समस्या है तो फिरोज़ा को धारण करने से इन सभी परेशानियों से मुक्ति मिल सकती हैं। इसके प्रभाव से लोकप्रियता व मित्रता में भी बढ़ोत्तरी होती है।

फिरोज़ा धारण करने की विधि

फिरोज़ा रत्न एक विशिष्ट दिन पर पहना जाना चाहिए ताकि पहनने वाले के लिए वह रत्न अनुकूल हो सके। स्नान करने के बाद ही अंगूठी को धारण करना चाहिए लेकिन इससे पहले अंगूठी को कच्चे दूध व गंगाजल के मिश्रण में डुबोए रखें ताकि वह शुद्ध हो जाए। इसके बाद पूजा-अर्चना करने पर ही अंगूठी धारण करनी चाहिए। इस रत्न को आप सोने या तांबे के धातु में बनवाकर धारण कर सकती हैं।

पहनने का दिन

फिरोज़ा पहनने के लिए सबसे अच्छा दिन शुक्रवार है लेकिन आप चाहें तो इस रत्न को बृहस्पति या शनिवार के दिन भी धारण कर सकते हैं। फिरोज़ा रत्न को धारण करने का सबसे शुभ समय प्रातः 6 बजे से 8 बजे तक होता है।

फिरोज़ा रत्न के गुण

फिरोज़ा एक अपारदर्शी रत्न है जो नीले से हरे रंग का होता है। इसका रासायनिक सूत्र CuAl6(PO4)4(OH)8.4H2O है जिसे तांबे और एल्यूमीनियम के हाइड्रोस फॉस्फेट के रूप में विस्तारित किया जा सकता है। यह एक दुर्लभ, बहुमूल्य रत्न है और इसकी विशिष्टता के कारण हजारों सालों से इस रत्न को आभूषण के तौर पर भी पहना जाता है। फिरोज़ा रत्न के सभी तत्वों में से एक आवश्यक तत्व तांबा है जिसके चलते यह नीला, हरा या नीला-हरा रंग का होता है। फिरोज़ा की सबसे अच्छी गुणवत्ता फ्रैक्चुरल है। इसकी अधिकतम कठोरता 6 से नीचे है और यह खिड़की के कांच से थोड़ा अधिक मज़बूत होता है। फिरोज़ा रत्न की गुरुत्वाकर्षण सीमा 2.60 से 2.90 तक होती है और अपवर्तक सूची में इसकी सीमा 1.61 से 1.62 तक रहती है। गर्म हाइड्रोक्लोरिक एसिड को छोड़कर फिरोज़ा पूरी तरह से अघुलनशील है।

स्रोत

लगभग 3000 से भी ज़्यादा वर्षों से चीन को फ़िरोज़ा के सहायक स्रोत के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा फिरोज़ा रत्न तिब्बत, अफग़ानिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, नार्थ इंडिया व तुर्कीस्तान के भी कई क्षेत्रों में पाया जाता है।

असली फिरोज़ा रत्न की पहचान

असली फिरोज़ा रत्न से बने हुए आभूषण हाथों पर चिपकते नहीं हैं। इसके साथ ही आग में जलाते समय असली फिरोज़ा न तो अपना रंग और ना ही काला धुंआ छोड़ता है। यह प्राकृतिक रत्न उज्ज्वल है और इसकी चमक गिलास की तरह दिखती है। इसके अलावा असली फिरोज़ा रत्न में चिकनी सतह नहीं होती है।

यदि आप लैब से प्रमाणित रत्न ख़रीदना चाहते हैं, तो आप यहां ऑर्डर बुक कर सकते हैं: लैब प्रमाणित रत्न

एस्ट्रोसेज द्वारा प्रमाणित रत्न

रत्न की क्वालिटी जानने का सबसे उत्तम तरीका उसका लैब से प्रमाणित होना है। ज़्यादातर विक्रेता रत्न की प्रामाणिकता और विश्वसनीयता के लिए सर्टिफ़िकेट भी प्रदान करते हैं। एस्ट्रोसेज अपने सभी रत्नों के लिए प्रमाण पत्र प्रदान करता है ताकि इसकी वैधता और खरा होने की पुष्टि हो सके। यह प्रमाण पत्र आईएसओ 9001-2008 द्वारा प्रमाणित है, जो इसके रंग, वजन, आकार से संबंधित सभी जानकारी प्रदान करता है। एस्ट्रोसेज से रत्न ख़रीदने में जोखिम बहुत कम रहता है।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।