आज की चौघड़िया मुहूर्त दिल्ली के लिए (गुरुवार, नवम्बर 23, 2017)

चौघड़िया मुहूर्त दिल्ली के लिए (गुरुवार, नवम्बर 23, 2017)

चौघड़िया आरंभ का समय सम्पत्ति का समय शुभ / अशुभ
शुभ 06:50:10 AM 08:09:30 AM शुभ चौघड़िया
रोग 08:09:30 AM 09:28:51 AM अशुभ चौघड़िया
उद्वेग 09:28:51 AM 10:48:11 AM अशुभ चौघड़िया
चल 10:48:11 AM 12:07:31 PM इंटरमीडिएट चौघड़िया
लाभ 12:07:31 PM 1:26:52 PM शुभ चौघड़िया
अमृत 1:26:52 PM 2:46:12 PM शुभ चौघड़िया
काल 2:46:12 PM 4:05:32 PM अशुभ चौघड़िया
शुभ 4:05:32 PM 5:24:52 PM शुभ चौघड़िया
अमृत 5:24:52 PM 7:05:32 PM शुभ चौघड़िया
चल 7:05:32 PM 8:46:12 PM इंटरमीडिएट चौघड़िया
रोग 8:46:12 PM 10:26:52 PM अशुभ चौघड़िया
काल 10:26:52 PM 00:07:31 AM अशुभ चौघड़िया
लाभ 00:07:31 AM 01:48:11 AM शुभ चौघड़िया
उद्वेग 01:48:11 AM 03:28:51 AM अशुभ चौघड़िया
शुभ 03:28:51 AM 05:09:30 AM शुभ चौघड़िया
अमृत 05:09:30 AM 06:50:10 AM शुभ चौघड़िया

चौघड़िया

चौघड़िया हिंदू पंचांग का एक विशेष अंग है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी महत्वपूर्ण कार्य के लिए कोई शुभ मुहूर्त न मिले तो उस अवस्था में चौघड़िया का विधान है इसलिए किसी भी मांगलिक कार्य को प्रारंभ करने के लिए चौघड़िया का उपयोग किया जाता है। पारंपरिक रूप से चौघड़िया को यात्रा मुहूर्त के लिए देखा जाता है परंतु इसकी सरलता के कारण इसे हर मुहूर्त के लिए उपयोग में लाया जाता है।

ज्योतिष शास्त्र में चार प्रकार की शुभ चौघड़िया होती हैं और तीन प्रकार की अशुभ चौघड़िया हैं। प्रत्येक चौघड़िया किसी न किसी कार्य के लिए निर्धारित है।

शुभ चौघड़िया एवं उनके स्वामी ग्रह

शुभ चौघड़िया स्वामी ग्रह किए जाने वाले कार्य
अमृत चंद्रमा संभी प्रकार के कार्य
शुभ गुरु शादी, मांगलिक कार्य
लाभ बुध व्यापार, शिक्षा का प्रारंभ
चर शुक्र यात्रा

अशुभ चौघड़िया एवं उनके स्वामी ग्रह

अशुभ चौघड़िया स्वामी ग्रह किए जाने वाले कार्य
उद्बेग सूर्य सरकार से संबंधित कार्य
काल शनि धन-संपदा बढ़ाने हेतु कार्य
रोग मंगल आक्रमण, युद्ध, बहस

चौघड़िया ज्ञात करने की विधि

दिन मान (सूर्योदय से सूर्यास्त का अंतर) एवं रात्रि मान (सूर्यास्त से सूर्योदय का अंतर) को आठ बराबर भागों में विभाजित किया गया है। इसमें से प्रत्येक भाग को चौघड़िया कहा जाता है। प्रत्येक विभाजित भाग क़रीब-क़रीब चार घटी का होता है और इसी कारण इसको चौघड़िया मुहूर्त अथवा चतुर्ष्ठिका मुहूर्त भी कहा जाता है। एक सूर्योदय से एक सूर्यास्त तक के समय को दिन की चौघड़िया और एक सूर्यास्त से एक सूर्योदय तक की बेला को रात्रि चौघड़िया कहा जाता है।

क्रमांक रवि सोम मंगल बुध गुरु शुक्र शनि
1 उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ चर काल
2 चर काल उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ
3 लाभ शुभ चर काल उद्वेग अमृत रोग
4 अमृत रोग लाभ शुभ चर काल उद्वेग
5 काल उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ चर
6 शुभ चर काल उद्वेग अमृत रोग लाभ
7 रोग लाभ शुभ चर काल उद्वेग अमृत
8 उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ चर काल
क्रमांक रवि सोम मंगल बुध गुरु शुक्र शनि
1 शुभ चर काल उद्वेग अमृत रोग लाभ
2 अमृत रोग लाभ शुभ चर काल उद्वेग
3 चर काल उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ
4 रोग लाभ शुभ चर काल उद्वेग अमृत
5 काल उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ चर
6 लाभ शुभ चर काल उद्वेग अमृत रोग
7 उद्वेग अमृत रोग लाभ शुभ चर काल
8 शुभ चर काल उद्वेग अमृत रोग लाभ

हम आशा करते हैं कि एस्ट्रोसेज पर दी गई चौघड़िया से संबंधित जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी !

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

नवग्रह यन्त्र खरीदें

ग्रहों को शांत और सुखी जीवन प्राप्त करने के लिए नवग्रह यन्त्र एस्ट्रोसेज लें।

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।