• AstroSage Big Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Shani Report

बुध का धनु राशि में गोचर: 25 दिसंबर 2019

नव ग्रहों में बुध को विशेष दर्जा प्राप्त है और मिथुन तथा कन्या राशियों पर इस ग्रह का अधिपत्य है। इसके साथ ही बुध अश्लेषा, ज्येष्ठा, और रेवती नक्षत्रों के भी स्वामी हैं। जन्म कुंडली में बुध की स्थिति व्यक्ति के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है। यूँ तो बुध से प्रभावित जातक शारीरिक रूप से अधिक शक्तिशाली नहीं होते, लेकिन मानसिक रुप से बहुत उर्वरक और तेज दिमाग वाले होते हैं जो अपने बड़े से बड़े विरोधी का सामना करने की हिम्मत रखते हैं।

बुध का धनु राशि में गोचर

बुध ग्रह ज्योतिष तथा अन्य शास्त्र, व्यापार, अनुसंधान, तर्क, गणित, तथा शरीर के अंगों में त्वचा पर नियंत्रण करता है। अनुकूल बुध व्यक्ति को ज्ञानियों की श्रेणी में लाकर खड़ा कर देता है तो वहीं बुध के प्रतिकूल स्थिति में होने से व्यक्ति को मानसिक रोग तक हो सकता है। बुध की इसी अनुकूलता से जीवन में सफलता प्राप्त करना आसान हो जाता है। समस्त नौ ग्रहों में बुध को ही युवराज ग्रह भी कहते हैं और यह जिस ग्रह के साथ भी स्थित होता है उसी ग्रह के गुणों के अनुसार अनुकूल और प्रतिकूल फल देने में भी सक्षम होता है।

कुंडली में बुध की स्थिति के प्रभाव

यदि किसी जातक की कुंडली में बुध अनुकूल अवस्था में है तो जातक चतुर होगा और अपनी बात को लोगों के सामने सही तरीके से रख पाएगा। इसके साथ ही ऐसा जातक ज्ञानी होने के साथ-साथ प्रतिभावान भी होता है। गणितीय विषयों में ऐसे जातकों की पकड़ बहुत मजबूत होती है। बुध की अच्छी स्थिति जातक को बिज़नेस में भी अच्छे फल दिलाती है। वहीं अगर बुध आपकी कुंडली में अच्छी स्थिति में न हो तो आपको सोचने समझने में परेशानी हो सकती है। ऐसे जातक आलसी हो सकते हैं और उनको त्वचा संबंधी कोई समस्या हो सकती हैं। बुध ग्रह को कुंडली में मजबूत करने के लिए बुध ग्रह की शांति के उपाय करने चाहिए। बुध को मजबूत करने के लिए या बुध ग्रह की शांति के लिए पन्ना रत्न धारण करना शुभ फलदायी माना जाता है।

बुध गोचर का समय

बुध ग्रह 25 दिसंबर 2019, बुधवार रात्रि 15:32 बजे धनु राशि में प्रवेश करेगा और 13 जनवरी 2020, सोमवार प्रातः 11:22 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। आइये जानते हैं बुध के इस गोचर का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव होगा।

यह भविष्यफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैलकुलेटर

Click here to read in English...

मेष राशि

बुध ग्रह का गोचर आपकी राशि से नवम भाव में होगा। यह भाव धर्म का भाव कहलाता है और इससे आपके भाग्य के बारे में भी विचार किया जाता है। नवम भाव में बुध का गोचर आपके लिए चुनौती पूर्ण रह सकता है। इस दौरान आपके कई काम अटक सकते हैं जिसकी वजह से आप मानसिक तनाव में आ सकते हैं। हालांकि आपके परिवार के लोग आपकी मदद करने के लिए इस दौरान आगे आएँगे और आपको विपरीत परिस्थितियों से बाहर निकाल लेंगे। यह ऐसा समय है जब आपको अपनी मेहनत को दोगुना करने की जरुरत है। इस समय को सुनहरे भविष्य के सपने देखने में खराब न करें बल्कि भविष्य को सुनहरा बनाने के लिए कड़ी मेहनत करें। आपका भाग्य भले ही आपके हाथ में न हो लेकिन आपके कर्म आपके हाथ में हैं। इस समय इस राशि के कई जातक अपनी आर्थिक हालत को सुधारने के लिए बैंक से लोन ले सकते हैं। सामाजिक जीवन की बात की जाए तो आपके क़रीबी दोस्त इस समय आपके साथ खड़े नजर आएँगे। इस राशि के छात्रों के लिए यह समय अच्छा रहेगा और आपको शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे परिणाम मिलेंगे। अपनी एकाग्रता को मजबूत बनाए रखने के लिए ध्यान करने का अभ्यास करें।

उपाय: गौमाता को पालक अथवा कोई हरा चारा खिलाएं।

वृषभ राशि

बुध देव आपकी राशि से अष्टम भाव में संचरण करेंगे। यह भाव आयुर भाव भी कहलाता है। इस भाव में बुध के गोचर के दौरान इस राशि के शादीशुदा जातकों की जिंदगी में किसी नये मेहमान की दस्तक हो सकती है। इसके साथ ही पारिवारिक माहौल भी इस समय अच्छा रहेगा। घर के लोगों के बीच सामंजस्य को देखकर आपके चेहरे पर भी मुस्कान बनी रहेगी। इस अवधि में आप घर के छोटे सदस्यों की आर्थिक मदद कर सकते हैं। इस राशि के शादीशुदा और प्रेमी जातक इस दौरान अपने संगी के साथ नए वस्त्रों की ख़रीददारी कर सकते हैं। आप का मस्तिष्क इस समय आपके काबू में रहेगा और इसी के चलते आपको सामाजिक जीवन में अच्छे फल मिल सकते हैं। इस गोचरीय काल में आप दान-पुण्य भी करेंगे और लोगों को अच्छे सुझाव भी देंगे। आपके द्वारा किये गये अच्छे कार्य आपको आत्मशक्ति प्रदान करेंगे। इस राशि के कारोबारियों को अपने गलत फ़ैसलों की वजह से कारोबार में कुछ हानि हो सकती हैं लेकिन इन हानियों से आप निराश नहीं होंगे बल्कि इनसे सबक लेकर भविष्य के लिए सही योजना बनाएँगे। इस समयावधि में आपको अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान देने की जरुरत है इसके लिए आपको सही आहार और व्यायाम का सहारा लेना चाहिए।

उपाय: मां दुर्गा की पूजा कर उन्हें हरी चूड़ियां अपर्ण करें।

मिथुन राशि

बुध देव आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर करेंगे। यह भाव विवाह भाव भी कहलाता है और इससे हम जीवन में होने वाली साझेदारियों के बारे में भी विचार करते हैं। इस गोचर के दौरान आपको अपने व्यापारिक सहयोगियों के साथ बहसबाजी करने से बचना चाहिए। अगर आप अपनी बात को ज़बरदस्ती मनवाने की कोशिश करेंगे तो आपको कई परेशानियों का सामना इस दौरान करना पड़ सकता है। आपकी बात सही है तो उसे सही तरीके से अपने सहयोगियों या साझेदारों के सामने रखें। इस समय आपके आत्मविश्वास में कमी देखी जाएगी क्योंकि आप वर्तमान में न रहकर भविष्य की कल्पनाएं करते रहेंगे। अगर आपको अपने आत्मविश्वास को हासिल करना है तो आज में जीना सीखें। वैवाहिक जीवन में आप अपने जीवन साथी के प्रति समर्पित रहेंगे लेकिन इसके बावजूद भी छोटे-मोटे झगड़े आप लोगों के बीच हो सकते हैं। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों के लिए यह समय अच्छा रहेगा और आप अपने काम का सही फल भी इस दौरान कार्य क्षेत्र में पाएंगे। प्रमोशन मिलने के भी इस समय पूरे योग हैं। इस गोचर के दौरान आपको किसी भी काम में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है।

उपाय: भगवान कृष्ण की पूजा करें और उन्हें मक्खन, मिश्री अर्पण करें।


कर्क राशि

बुध के इस गोचर के दौरान आपका षष्ठम भाव सक्रिय अवस्था में रहेगा। यह गोचर आपके लिए शुभफलदायी साबित हो सकता है। इस दौरान आपको आपके काम करने के तरीके को लेकर सराहना मिल सकती है। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को अपनी रचनात्मकता के दम पर कार्य क्षेत्र में इस समय नयी पहचान मिलेगी। जिन चीजों के बारे में लोग बस कल्पनाएं करते हैं उनको इस समय आप करके दिखा देंगे। इस समय में आप हर चुनौती का डटकर सामना करेंगे और मुश्किल परिस्थिति में भी आपका आत्मविश्वास डगमगाएगा नहीं। इस राशि के कुछ लोग इस समय जॉब में परिवर्तन भी कर सकते हैं। सामाजिक जीवन में आप अपनी वाणी की मिठास से लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर पाने में कामयाब होंगे। इस अवधि में आपकी मुलाकात समाज के कुछ प्रतिष्ठित लोगों से भी हो सकती है। कोर्ट-कचहरी से जुड़े मामलों में आपको सफलता मिलने के योग हैं। आर्थिक पक्ष की बात की जाए तो आपके ख़र्चों में इस समय इज़ाफा हो सकता है लेकिन इन ख़र्चों से आपको ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा। जो लोग प्रेम संबंधों में पड़े हैं उन्हें इस समय अपने संगी को खुश करने के लिए कोई उपहार देना चाहिए। विवाहित लोग अपने संगी के साथ कहीं घूमने का इस दौरान प्लान बना सकते हैं।

उपाय: गौमाता को आटे की लोई खिलाएं।

सिंह राशि

बुध देव आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर करेंगे। इस भाव को संतान भाव भी कहा जाता है और इससे आपके ज्ञान के बारे में भी विचार किया जाता है। इस समय आपकी बुद्धि में प्रखरता देखने को मिल सकती है। आप नये विषयों को जानने में इस वक्त दिलचस्पी दिखा सकते हैं। यदि आप कला के किसी क्षेत्र से जुड़े हैं तो इस दौरान आपकी रचनात्मकता लोगों को आकर्षित करेगी। इस गोचर के दौरान आपको लोगों के साथ आध्यात्मिक विषय को लेकर विचार विमर्श करने में मजा आएगा। वैवाहिक जीवन की बात की जाए तो जीवनसाथी से किसी बात को लेकर आपकी कहासुनी हो सकती है हालांकि जब आपका गुस्सा शांति हो जाएगा तो आप अपने संगी को पलभर में मना लेंगे। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल है आप अपना सारा ध्यान इस वक्त पढ़ाई पर लगा पाएंगे। आपके गुरुजनों का भी आपको भरपूर साथ इस दौरान मिलेगा। जो छात्र गणित से जुड़े विषयों का अध्ययन कर रहे हैं उन्हें इस गोचर के दौरान विशेष लाभ की प्राप्ति होगी। स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा सचेत रहने की आपको आवश्यकता है। धूल और प्रदूषित वायु के कारण आपको इस समय एलर्जी हो सकती है।

उपाय: भगवान विष्णु की आराधना करें। “ओम नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का निष्ठा से जाप करें।

कन्या राशि

बुध ग्रह के गोचर के कारण आपका चतुर्थ भाव इस समय सक्रिय अवस्था में रहेगा। इस भाव को सुख भाव भी कहा जाता है और इस भाव में बुध का गोचर आपके लिए कई मायनों में शुभ रहेगा। बीते समय में आपके द्वारा की गई मेहनत का इस दौरान आपको सकारात्मक परिणाम मिल सकता है। इस गोचर काल में आपको कई क्षेत्रों से शुभ समाचार मिलने के योग हैं। पारिवारिक जीवन में व्यस्तता बढ़ सकती है क्योंकि आपके घर में मेहमानों का इस दौरान आगमन हो सकता है। इसके साथ ही इस राशि के कुछ जातक इस समय नया मकान खरीदने का भी मन बना सकते हैं। जीवनसाथी के साथ कुछ बातों को लेकर आपका मन-मुटाव हो सकता है और आपका जीवनसाथी आपसे नाराज़ भी हो सकता है लेकिन अपने शांत स्वभाव से आप सारी परेशानियों को दूर कर पाने में कामयाब होंगे। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को इस समयावधि में अपने काम को कल पर नहीं टालना चाहिए। समय का सदुपयोग करके ही आप जीवन में आगे बढ़ते हैं इसलिए आज के काम को आज ही पूरा करें। स्वास्थ्य में अच्छे परिवर्तन आने के इस समय योग बन रहे हैं, अगर आप किसी लंबी बीमारी से जूझ रहे थे तो इस समय आपको उस बीमारी से छुटकारा मिल सकता है।

उपाय: “ओ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः” मंत्र का जाप करें।

तुला राशि

बुध देव का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में होगा। इस भाव को पराक्रम भाव भी कहा जाता है। आपके तृतीय भाव में बुध के गोचर के दौरान आपको जीवन में कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। आपके द्वारा लिये गये कुछ गलत फैसले इस समय परिवार में बिखराव की वजह बन सकते हैं। अगर आपको अपने परिवार को एकजुट बनाए रखना है तो सबके सामने अपनी गलती को स्वीकार करना होगा। इस समय आपके विरोधी भी आपके खिलाफ साजिशें रच सकते हैं, हालांकि आप अपनी चतुराई से ऐसी सभी स्थितियों से पार पा जाएंगे। अगर इस दौरान आपको अपने कार्य क्षेत्र में अच्छे परिणाम प्राप्त करने हैं तो आपको आलस्य त्यागने की ज़रूरत होगी। यह बात ध्यान रखें कि यदि आप अपनी मदद नहीं करेंगे तो कोई और भी आपकी मदद नहीं कर पाएगा। अपने जीवन में आ रही परेशानियों को आप अपने किसी दोस्त या क़रीबी रिश्तेदार के साथ साझा कर सकते हैं। छोटी दूरी की यात्राएं आपको तरोताजा करने का काम इस समय कर सकती हैं। शारीरिक रुप से आपको इस समय कोई बड़ी परेशानी नहीं आएगी लेकिन मानसिक तनाव आपको परेशान कर सकता है। खुद को फिट रखने के लिए शारीरिक रुप से सक्रिय रहें।

उपाय: किन्नरों को दान करें और उनका आर्शीवाद ग्रहण करें।

वृश्चिक राशि

बुध देव आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेंगे। यह गोचर आपकी कई परेशानियों को दूर कर देगा और आपको आशा अनुसार फल दिलाएगा। आर्थिक दृष्टि से देखा जाए तो इस गोचर के दौरान आप धन को संचित कर पाने में सफल होंगे और आपको पैतृक संपत्ति से भी लाभ होने के आसार हैं। इस दौरान आपकी संवादशैली भी प्रभावशाली रहेगी। अगर आपको लगता है कि आपके द्वारा कही गयी बातों को सुना नहीं जा रहा है तो आपको ऐसी स्थिति में चुप रहना सीखना चाहिए। आपके काम करने का अंदाज़ आपको कार्य क्षेत्र और समाज के बीच नयी पहचान दिलाएगा। इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने की जरुरत है। त्वचा से संबंधी कोई रोग इस समय आपको परेशान कर सकता है इसलिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें। इस राशि के छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे परिणाम मिलने की पूरी संभावना है। जो छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियाँ कर रहे हैं उन्हें एक समय सारणी बनाकर पढ़ाई करनी चाहिए। एकाग्रता को मजबूत करने के लिए आप योग का सहारा ले सकते हैं इसके साथ ही आपको संतुलित आहार ग्रहण करने की भी जरुरत है।

उपाय: साबुत मुंग का दान करें।

धनु

बुध देव का गोचर आपके लग्न भाव यानि प्रथम भाव में होगा। काल पुरुष की कुंडली में यह भाव मेष राशि का होता है और इससे आपके स्वास्थ्य, शरीर और आत्मज्ञान के बारे में विचार किया जाता है। कारोबार से जुड़े इस राशि के जातकों को इस समय अपने विरोधियों से संभलकर चलने की जरुरत है, आपका कोई विरोधी आपके किसी राज से इस दौरान पर्दा उठा सकता है जिसकी वजह से आपको आर्थिक हानि होने की संभावना है। इस राशि के जातकों को पारिवारिक जीवन में भी धन से जुड़ी समस्याओं का सामना इस समय करना पड़ सकता है। अपनी आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए आप अपने किसी मित्र या रिश्तेदार से इस समय उधार मांग सकते हैं। वैवाहिक जीवन में चीजें सामान्य रुप से चलती रहेंगी, कुछ मुद्दों को लेकर जीवनसाथी के साथ कहासुनी हो सकती है लेकिन आप अपने सौम्य व्यवहार से जल्द ही अपने जीवनसाथी के साथ सामंजस्य बिठा लेंगे। आपकी वाणी की कठोरता इस समय कार्य क्षेत्र में आपको नुकसान पहुंचा सकती है इसलिये आपको सलाह दी जाती है कि साथी कर्मचारियों के साथ विनम्रता से बात करें। इस राशि की ग्रहणियां अपने जीवनसाथी को खुश करने के लिए इस समय उनके पसंदीदा व्यंजन बना सकती हैं।

उपाय: बुधवार को कपूर का दिया जलाए।


मकर राशि

बुध के इस गोचर के दौरान आपका द्वादश भाव सक्रिय अवस्था में रहेगा। स्वास्थ्य पर इस गोचर का प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है इसलिए आपको इस समय सोच समझकर चलने की जरुरत है। स्वस्थ रहने के लिए योग का सहारा लें। इसके साथ ही अपने भोजन में फल और हरी सब्जियों को जगह दें। वैवाहिक जीवन में परेशानियां आ सकती हैं और इन परेशानियों का कारण होगा आपका जिद्दी रवैया, इस समय आप अपनी बात को मनवाने के लिए अपने जीवनसाथी पर दबाव बना सकते हैं। आर्थिक पक्ष सामान्य रहेगा कुछ लेकिन अनचाहे खर्चे बीच-बीच में आपको परेशान कर सकते हैं। इस राशि के जो जातक विदेश जाने के सपने देख रहे थे इस दौरान उनके यह सपने पूरे हो सकते हैं। कुछ जातकों को काम के संबंध में भी लंबी दूरी की यात्राएं करनी पड़ सकती हैं। अपने परिजनों के साथ समय बिताना आपके लिए इस समय अच्छा रहेगा, उनके साथ वक्त बिताकर आपको मानसिक शांति मिलेगी और कई उलझनों से भी आप दूर हो जाएंगे। छात्रों को इस समय स्कूल की तरफ से कहीं घूमने ले जाया जा सकता है। इस राशि के कुछ जातक अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए इस वक्त अच्छे लेखकों की पुस्तकें पढ़ सकते हैं।

उपाय: श्री विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत का जाप करें।

कुंभ राशि

बुध देव का गोचर आपकी राशि से एकादश भाव में होगा। यह भाव लाभ भाव कहलाता है। इस भाव में बुध के गोचर के दौरान आपको अच्छे फल मिलने की पूरी उम्मीद है। सबसे पहले बात करें आपके आर्थिक पक्ष की तो यह गोचर आपकी कई आर्थिक परेशानियों को दूर कर देगा। अगर आपने किसी से उधार लिया था तो इस समय उसे चुका पाने में आप सक्षम होंगे। पारिवारिक जीवन में भी ख़ुशियाँ बनी रहेंगी और आप अपने जीवनसाथी और बच्चों के साथ आनंद के क्षण बिता पाएंगे। सामाजिक जीवन में आपकी गतिशीलता बढ़ेगी और इस समयावधि में आपकी मित्र मंडली बढ़ सकती है। अपने कुछ मित्रों के साथ मिलकर आप कहीं घूमने जाने का भी प्लान बना सकते हैं। आपकी बुद्धि की प्रखरता इस अवधि में आपको जीवन के कई क्षेत्रों में लाभ दिलवाएगी। अगर आपको लगता है कि आपके द्वारा किये गये कामों का आपको सही फल नहीं मिल रहा तो एक बार आपको सही से अपने द्वारा किये गये कामों का आकलन करने की जरुरत है। प्रेम में पड़े इस राशि के जातक अपने पार्टनर को खुश करने के लिए कोई तोहफ़ा उन्हें दे सकते हैं। कुछ जातक अपने प्रेमी को शादी का प्रस्ताव भी इस वक्त दे सकते हैं।

उपाय: “ओम बुं बुधाय नमः” मंत्र का उच्चारण करें।

मीन राशि

बुध देव का गोचर आपकी राशि से दशम भाव में होगा इस भाव को कर्म भाव भी कहा जाता है। दशम भाव में बुध के गोचर के दौरान आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और आप अपनी तार्किक बुद्धि के दम पर अपने विरोधियों को परास्त कर सकेंगे। यह ऐसा समय है जब आपके विरोधी आपके सामने आने में भी कतराएंगे। इस समय आप अपने अटके कामों को पूरा कर पाने में भी सक्षम होंगे। पारिवारिक जीवन सामान्य रहने की उम्मीद है लेकिन दांपत्य जीवन में इस दौरान आपको अच्छे फल मिलेंगे। जीवनसाथी के साथ आपकी नज़दीकी इस समय बढ़ेगी और आप उनके साथ रुमानी पल बिता पाएंगे। इस दौरान आप नये कपड़े खरीदने में धन व्यय कर सकते हैं। अपने करियर को सुनहरा बनाने के लिए अतीत में आपने जो प्रयास किये थे उनका अच्छा परिणाम भी आपको इस समय मिल सकता है। छात्रों की स्थिति बेहतर होगी अपने किसी सहपाठी की मदद से आप जटिल विषयों को समझाने में भी सक्षम होंगे। आपको अपनी पढ़ाई के साथ-साथ अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान देने की जरुरत है। अपनी किसी प्रतिभा को लोगों के सामने प्रदर्शित करके सामाजिक जीवन में इस समय आप आकर्षण का केंद्र बन सकते हैं। वहीं इस राशि के कुछ जातक अपनी प्रतिभा को ही अपने करियर के रुप में चुन सकते हैं।

उपाय: हरी सब्जियों का दान करें।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।