• AstroSage Brihat Horoscope
  • AstroSage Big Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Career Counseling

बुध का सिंह राशि में गोचर (26 अगस्त, 2019)

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सभी नवग्रहों में से एक बुध को मुख्यतः भाषा-शैली और बुद्धि का कारक माना जाता है। बुध ग्रह को खासतौर से व्यापार, संचार, वाणिज्य और तर्क वितर्क का कारक माना जाता है। इस ग्रह के कुंडली पर पड़ने वाले सकारात्मक प्रभाव से व्यक्ति बुद्धिमान और अपनी भाषा-शैली का सटीकता से प्रयोग करने वाला बनता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बुध ग्रह को विशेष रूप से मिथुन और कन्या राशि का स्वामी ग्रह माना जाता है। इसके आलावा ये कन्या राशि में उच्च भाव में और मीन राशि में नीच भाव में मौजूद रहता है। अन्य नवग्रहों में बुध की मित्रता केवल शुक्र ग्रह और नवग्रहों के राजा सूर्य के साथ ही है। चन्द्रमा के साथ इस ग्रह की शत्रुता रहती है।

बुध के प्रभाव

वैदिक ज्योतिष के अनुसार नव ग्रहों में राजकुमार की संज्ञा प्राप्त करने वाला बुध ग्रह बुद्धि और तर्क क्षमता का कारक ग्रह है जो मिथुन व कन्या राशि का स्वामी है। अश्लेषा, ज्येष्ठा रेवती नक्षत्र बुध के अधिपत्य में आते हैं। कुंडली में बुध की शुभ स्थिति से जातक इन सभी क्षेत्रों में उन्नति करता है। बुध को सामान्यतः शुभ ग्रह माना जाता है लेकिन क्रूर ग्रहों के संपर्क में आकर इसके परिणाम जातक के लिए अशुभ हो जाते हैं। बुध का वर्ण हरा होता है और सप्ताह में बुधवार का दिन इन्ही को समर्पित होता है। ये भी देखा गया कि यदि किसी जातक की कुंडली में बुध ग्रह मजबूत स्थिति में होता है तो उस जातक की संवाद शैली में कुशलता आती है। ऐसे लोग स्वभाव से काफी हाज़िर जवाबी होता है। ये लोग अपनी बातों से सबको मोह लेते हैं। बली बुध जातक को कुशाग्र बुद्धि का बनने में मदद करता है। वहीं यदि जन्म कुंडली में बुध ग्रह किसी क्रूर अथवा पापी ग्रहों से पीड़ित हो तो यह जातक को शारीरिक और मानसिक रूप से समस्या दे सकता है। इस स्थिति में ऐसे जातक अपने विचारों को सही रूप में बोलकर पेश कर पाने में असमर्थ होते हैं। पीड़ित बुध जातक को दिमागी रूप से भी कमज़ोर बनाता है। पीड़ित बुध के दुष प्रभाव से व्यक्ति को क़ारोबार में हानि होती है और व्यक्ति के जीवन में दरिद्रता आती है। ऐसे ज्योतिष विशेषज्ञ जातकों को बुध ग्रह से संबंधित उपाय करने की सलाह देते हैं।

गोचर काल का समय

अब यही बुध ग्रह 26 अगस्त 2019, सोमवार को दोपहर 13:56 बजे सिंह राशि में गोचर करेगा और 11 सितंबर, बुधवार की सुबह 04:47 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। वैदिक ज्योतिष की माने तो किसी भी राशि में बुध के गोचर की अवधि सबसे काम होती है। बुध की ये गोचर अवधि निम्नतम 14 दिनों की ही होती है। ऐसे में इस अवधि में बुध के राशि परिवर्तन का प्रभाव अन्य राशियों पर भी देखने को मिलेगा। आईये जानते हैं की बुध के सिंह राशि में गोचर का अन्य राशि के जातकों पर क्या सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव पड़ने वाला है।

Click here to read in English...

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैल्कुलेटर

बुध का सिंह राशि में गोचर

मेष राशि

बुध का गोचर सिंह राशि में होने से इसका प्रभाव मेष राशि के जातकों पर विशेष रूप से पड़ने वाला है। गोचर की इस अवधि में आपको बौद्धिक लाभ की प्राप्ति होगी और इसके साथ ही आपकी बुद्धि और ज्ञान में भी इज़ाफा होगा। इस दौरान आपकी सामाजिक सक्रियता बढ़ेगी और आप नए लोगों के संपर्क में आएंगे। संभव है कि गोचर की इस अवधि में आपका मेल-जोल समाज के कुछ प्रभावशाली लोगों से भी हो, जो आपके लिए आगे चलकर लाभकारी साबित हो सकता है। यदि आप सिंगल हैं तो इस गोचरकाल के दौरान आपकी मुलाकात किसी ऐसे शख़्स से हो सकती है जिसके साथ आप अपने नए रिश्ते की शुरुआत करने में सफल होंगें। पारिवारिक जीवन की बात करें तो, परिवार में बच्चों को बुध के इस गोचर का विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है , इसके प्रभाव से उन्हें स्कूल में अच्छे अंक मिलेंगे। साथ ही उनकी खेल कूद में भी रुचि बढ़ सकती है। इसके आलावा आर्थिक स्तर पर लाभ प्राप्त करने के लिए यदि आप शेयर मार्किट में निवेश करने की सोच रहें हैं, तो इससे आपको विशेष लाभ मिल सकता है। आपका ध्यान इस दौरान सट्टेबाजी और लाटरी में पैसे लगाने की तरफ भी जा सकता है, लेकिन कोई भी कदम उठाने से पहले अच्छी प्रकार से सोच विचार ज़रूर कर लें। इसके अलावा इस दौरान आपका रूझान धार्मिक किताबों को पढ़ने में, लेखन क्रिया और भाषण आदि की तरफ हो सकता है।

उपाय: बुध ग्रह के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए श्री विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र का जाप करें।

वृषभ राशि

इस गोचर के दौरान बुध आपकी राशि से चौथे भाव में स्थापित होंगे। बुध के इस गोचर का प्रभाव विशेष रूप से आपके पारिवारिक जीवन के लिए खासतौर से सकारात्मक रहेगा। इस दौरान परिवार में शांति बनी रहेगी और घर के वातावरण में सकारात्मकता का भाव रहेगा। लिहाजा लंबे अरसे के बाद आप अपने पारिवारिक जनों के साथ एक सुखमय पल व्यतीत कर पाएंगे। इसके अतिरिक्त आपको अपने परिवार को इस समय ज्यादा वक़्त भी देना पड़ सकता है। इस गोचरकाल में आप नया घर खरीद सकते हैं या फिर अपने पुराने घर का ही नए तरीके से निर्माण कर सकते हैं। ये समय करीबी रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ भी एक बेहतरीन समय व्यतीत करने के लिए महत्वपूर्ण है। कार्यक्षेत्र की बात करें तो गोचर की इस अवधि में आपको कठिन परिश्रम करने से ही अनुकूल फल की प्राप्ति होगी। हालाँकि इस दौरान यदि आप नयी नौकरी की तलाश में हैं तो आपकी ये इच्छा पूरी हो सकती है। यदि आप शादी शुदा हैं तो ये गोचरकाल आपके लिए ख़ासा महत्वपूर्ण रहेगा, क्योंकि इस अवधि में आप अपने जीवनसाथी के साथ प्यार भरे पल गुज़ारने में सफल रहेंगे। वहीं प्रेम जीवन में कुछ मतभेदों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन प्रेम में कोई कमी नहीं आएगी। कुलमिलाकर देखें तो वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध का ये गोचर सामान्य फलदायी सिद्ध होगा।

उपाय: विशेष लाभ के लिए इस मंत्र का जाप करें - ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः!!

मिथुन राशि

गोचर की इस अवधि के दौरान बुध आपकी राशि से तीसरे भाव में स्थित होंगें। इस गोचर के प्रभाव के फलस्वरूप कार्यक्षेत्र में आपको काफी लाभ प्राप्त हो सकता है। इस दौरान आपके काम करने की क्षमता में वृद्धि होगी और कार्यस्थल पर आप काफी अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। लिहाजा गोचर की इस अवधि के दौरान आपकी पदोन्नति भी हो सकती है। इस गोचरकाल के दौरान आपकी भाषा-शैली में काफी निखार आएगी जिसका लाभ आपको जीवन के हर क्षेत्र में मिलेगा। अब यदि पारिवारिक जीवन की बात करें तो बुध का ये गोचर आपके पारिवारिक जीवन के लिए नकारात्मक प्रभाव ला सकता है। इस दौरान मात की सेहत में गिरावट होने की वजह से मन चिंतित रहेगा, बहरहाल उनका विशेष ख्याल रखें। हालाँकि आपके भाई बहनों के लिए ये गोचरकाल लाभकारी साबित होगा, उनके किसी कार्य में आप भी अपनी सहभागिता दे सकते हैं। यदि आप विवाहित हैं तो बुध के इस गोचर के दौरान आपके जीवनसाथी की सामाजिक रूप से तरक्की होगी और समाज में उनके मान सम्मान में वृद्धि होने से इसका लाभ आपको भी प्राप्त होगा। प्रेम जीवन की बात करें तो इस दौरान आप पाने पार्टनर के साथ किसी ट्रिप पर जाने का प्लान बना सकते हैं। फलतः मिथुन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि विशेष रूप से फलदायी साबित होगी।

उपाय: बुध के हानिकारक प्रभावों से बचने के लिए श्री दुर्गा सप्तशती का पाठ करें।

कर्क राशि

बुध का गोचर सिंह राशि में होने की वजह से ये आपकी राशि से दूसरे भाव में स्थापित होंगें। इस गोचरकाल के दौरान व्यापार में आपको किसी विदेशी श्रोत से लाभ प्राप्त हो सकता है। यदि व्यापार में आपका कोई साझेदार है तो आपको थोड़ा संभलकर रहने की जरुरत होगी, क्योंकि आपकी नाक के नीचे वो कुछ ऐसा काम कर सकते हैं जिससे व्यपार में घाटा हो सकता है। आर्थिक स्तर पर देखें तो इस गोचर की अवधि में आपको अपने भाई बहनों से आर्थिक लाभ प्राप्त हो सकता है। दूसरी तरफ इस दौरान किसी अनजान श्रोत से भी आपको धन प्राप्ति हो सकती है। बुध के इस गोचर के दौरान सामाजिक स्तर पर आप अपनी भाषा-शैली के माध्यम से लोगों पर ख़ासा प्रभाव छोड़ने में सफल रहेंगे। जहाँ तक कार्यक्षेत्र की बात है तो बुध के गोचर की ये अवधि आपको कार्यस्थल पर सफलता दिला सकती है। बहरहाल इस दौरान आपके हाथ में जो भी काम होगा उसमें आपको सफलता मिलेगी। फलस्वरूप आपको अपने उच्चाधिकारियों का साथ मिलेगा और सहकर्मी आपकी हर बात कोतवज्जो देंगें। यदि आप विवाहित हैं तो इस गोचरकाल के दौरान आपको अपने वैवाहिक जीवन में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी की सेहत को लेकर परेशान रहेंगे या फिर उनके साथ किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। कर्क राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि मध्यम फलदायी साबित होगी।

उपाय: बुध के हानिकारक प्रभावों से बचने के लिए बुधवार को साबूत मूँग की दाल दान करें।

सिंह राशि

चूँकि बुध का गोचर आपकी ही राशि में हो रहा है, लिहाजा ये आपकी राशि से प्रथम भाव या लग्न भाव में स्थापित होंगें। चूँकि प्रथम भाव “स्व” का कारक होता है इसलिए इस गोचर के दौरान आपके सामाजिक मान सम्मान में वृद्धि होगी और आपके व्यक्तित्व में निखार आयेगा। आपकी भाषा-शैली में रचनात्मकता आएगी और आप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बन सकते हैं। सिंह राशि के जातकों के लिए बुध के गोचर की ये अवधि खासतौर से उनके व्यक्तित्व में चार चाँद लगाएगा। इसके आलावा आप इस गोचरकाल के दौरान विभिन्न सामाजिक कार्यक्रमों में भी हिस्सा ले सकते हैं। पारिवारिक स्तर पर देखें तो, इस गोचरकाल के दौरान आपको परिवार के सदस्यों का हर काम में सहयोग प्राप्त होगा। यदि आप शादीशुदा हैं तो, इस गोचर की अवधि में आप अपने जीवनसाथी के साथ किसी पसंदीदा जगह पर छुट्टियाँ मनाने जा सकते हैं। इसके साथ ही साथ बात करें प्रेम जीवन की तो, माता पिता से अपने पार्टनर को मिलवाने के लिए इससे अच्छा समय और कोई नहीं हो सकता। ग़ौरतलब है कि आपके लिए बुध का ये गोचर हर दृष्टिकोण से विशेष फलदायी साबित होगा।

उपाय: विशेष लाभ के लिए बुधवार को ब्राह्मणों को चीनी दान करें।

कन्या राशि

इस गोचर के दौरान बुध आपकी राशि से बारहवें भाव में स्थापित होंगें। इस गोचरकाल के दौरान आपको विशेष रूप से विदेश यात्रा का लाभ प्राप्त हो सकता है। हालाँकि यदि आर्थिक स्तर पर देखें तो बुध के इस गोचर के दरम्यान आपके ख़र्चों में वृद्धि हो सकती है। लिहाजा इस समय केवल उन्हीं चीजों पर खर्च करें जिसकी आपको ज्यादा आवश्यकता हो। जितना को सके गोचर की इस अवधि के दौरान पैसे को बचाने की दिशा में प्रयास करें। कन्या राशि के जातकों के लिए इस गोचर का हानिकारक प्रभाव उनकी सेहत पर भी पड़ सकता है। इस दौरान अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखें और बाहर का खाना या अशुद्ध भोजन ना ग्रहण करें। यदि आप विवाहित हैं तो इस गोचरकाल के दौरान आप अपने जीवनसाथी की सेहत को लेकर भी ख़ासा परेशान रह सकते हैं। बहरहाल आपको इस अवधि में अपने और अपने जीवनसाथी की सेहत का खासतौर से ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। कार्यक्षेत्र में होने वाली कोई घटना इस समय आपके मानसिक तनाव का कारण बन सकती है। हालाँकि कार्यस्थल पर आने वाले चुनौतियों का सामना आप अपनी सूझ-बूझ से करने में सफल रहेंगे। आपके लिए बुध के गोचर की ये अवधि निम्न फलदायी साबित होगी।

उपाय: विशेष लाभ के लिए श्री राम रक्षा स्तोत्र का जाप करें।

तुला राशि

इस दौरान बुध आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में स्थापित होंगें। बुध का सिंह राशि में होने वाले इस गोचर का प्रभाव आपके आर्थिक जीवन पर देखने को मिल सकता है। इस गोचरकाल के दौरान आपकी आय में वृद्धि हो सकती है और किसी गुप्त स्रोत से धन की प्राप्ति भी हो सकती है। कार्यक्षेत्र की बात करें तो इस समय आपको कार्यस्थल पर कुछ चुनौतियों का सामना ज़रूर करना पड़ेगा लेकिन अपनी लगनशीलता के बल पर आप इस स्थिति से निकल पाने में सफल रहेंगे। यदि आप व्यापारी हैं तो आपके लिए बुध के गोचर की ये अवधि विशेष रूप से फलदायी साबित हो सकती है। विशेष रूप से यदि आप ऑटोमोबाइल या कपड़े के व्यापार से जुड़े हैं तो आपके लिए ये गोचरकाल फलदायी साबित हो सकता है। आर्थिक स्तर पर देखें तो इस दौरान आप अपनी सूझ बूझ और बौद्धिक कौशल के आधार पर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस गोचर अवधि के दौरान आप सामाजिक रूप से काफी सक्रिय रहेंगे और नए दोस्त बनाने में भी सफल होंगें। अपनी भाषा-शैली की वजह से आप दूसरों पर अपना प्रभाव डालने में सफल रहेंगे। आपके करीबी आपकी बातों से ख़ासतौर से प्रभावित होंगें और आपके बताये अनुसार ही चलेंगे। यदि आप किसी मीडिया चैनल या संचार क्षेत्र से जुड़े हैं तो बुध के इस गोचर का समय आपके लिए काफी अनुकूल रहेगा। जिस चीज की इच्छा आपको काफी रही है, इस गोचर के दौरान आप उस चीज को पाने में सफल रहेंगे। कुल मिलाकर देखा जाए तो तुला राशि के जातकों के लिए ये गोचर मध्यम फलदायी रहेगा।

उपाय: बुध के हानिकारक प्रभावों से बचने के लिए बुधवार के दिन बुध यंत्र धारण करें।

वृश्चिक राशि

इस गोचर के दौरान बुध आपकी राशि से दसवें भाव में स्थापित होंगें। गोचर की इस अवधि में आप अपने कार्यक्षेत्र में सुधार करने का प्रयास कर सकते हैं। संभव है कि इस दौरान आप पूर्व में मिले किसी काम को पूरी शिद्दत के साथ पूरा करेंगे, इसके परिणामस्वरूप आपको ऑफिस में बॉस से तारीफ मिल सकती है। हालाँकि दूसरी तरफ किसी सहकर्मी के साथ मतभेद की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है, लेकिन आपके लिए कार्यस्थल पर इस समय किसी भी प्रकार के मतभेद में पड़ना हानिकारक साबित होगा। बुध के इस गोचर के दौरान निजी जीवन में भी किसी तरह के वाद विवाद में पड़ना आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। लिहाजा इस समय आपको विशेष हिदायत दी जाती है कि अपने काम से ही काम रखें, फालतू किसी के झमेले में ना पड़े और लड़ाई झगड़े से जहाँ तक हो सके खुद को दूर रखें। पारिवारिक जीवन की बात करें तो गोचर की ये अवधि आपके लिए सकारात्मक परिणाम ला सकते हैं। इस गोचरकाल में परिवार का माहौल शांतिपूर्ण रहेगा और परिवार के सदस्यों के साथ आप अच्छा वक़्त गुजार पाएंगे। इसके आलावा आपकी धार्मिक कार्यों में विशेष रुचि होगी। संभव है कि परिवार के लोगों द्वारा धार्मिक यात्रा पर जाना हो। लेकिन दूसरी पिता के स्वास्थ्य में होने वाली गिरावट से मन अशांत रहेगा लेकिन यदि उनका विशेष ख्याल रखा जाए तो सुधार जल्द देखने को मिल सकता है। वृश्चिक राशि के जातकों के लिए बुध की ये स्थिति विशेष रूप से फलदायी साबित होगी।

उपाय: विशेष लाभ के लिए बुधवार को हरी इलायची दान में दें।

धनु राशि

बुध के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से नवम भाव में स्थित होंगें। बुध के गोचर की ये स्थिति आपके लिए विशेष फलदायी साबित हो सकती है। यदि आप एक लंबे अरसे से किसी यात्रा पर जाने का प्लान बना रहे हैं तो इस गोचर की अवधि में आप लंबी यात्रा पर जा सकते हैं। बुध के इस गोचरकाल में आप सामाजिक रूप से काफी सक्रिय रहेंगे। इस दौरान आपकी मुलाकात समाज के कुछ ऐसे गणमान्य लोगों से हो सकती है, जिनका साथ भविष्य में आपके लिए लाभदायक साबित होगा। इस समय सामाजिक रूप से आपके मान मर्यादा में भी ख़ासा वृद्धि होगी और आप ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच अपनी पहचान बना पाने में सफल रहेंगे। धनु राशि के जातकों की इस गोचर के दौरान लेखन कार्य, मीडिया वर्ग और उच्च शिक्षा प्राप्ति में अधिक रुचि हो सकती है। वैसे जातक जो काफी समय से बेरोज़गार हैं उन्हें इस समय विशेष रूप से नयी नौकरी मिल सकती है। दूसरी तरफ यदि आप किसी व्यापार से जुड़े हैं तो इस अवधि में व्यापार में साझेदारी करने से अच्छा ख़ासा मुनाफ़ा मिल सकता है। यदि आप शादीशुदा हैं तो इस गोचर के दौरान आपको अपने जीवनसाथी का साथ हर क्षेत्र में मिलेगा।

उपाय: बुध के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए बुधवार के दिन चीनी दान में दें।

मकर राशि

इस गोचर के दौरान बुध आपकी राशि से आठवें भाव में विराजमान होंगें। बुध के गोचर की इस अवधि में आपको जीवन में विशेष चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इस गोचरकाल में पिता की सेहत बिगड़ने की वजह से आप मानसिक तनाव से ग्रस्त रह सकते हैं। आपको इस दौरान पिता की सेहत का विशेष रूप से ध्यान रखने की आवश्यकता होगी। लिहाजा अधिक चिंतित होने से अच्छा है कि आप उनकी सेहत का ख़ास ख्याल रखें। आर्थिक जीवन की बात करें तो बुध के इस गोचरकाल में आपको आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है। बहरहाल इस गोचरकाल के दौरान विशेष रूप से आपको धन का निवेश सोच समझकर करना होगा वर्ना आर्थिक तंगी से जूझना पड़ सकता है। आपकी रुचि इस गोचरकाल में धार्मिक अनुष्ठानों और ज्योतिषशास्त्र को जानने में हो सकती है। विवाहित जातकों को इस समय अपने जीवनसाथी से बिना मतलब की बहसबाजी या मतभेद से बचना चाहिए। जीवनसाथी के साथ होने वाली अनायास मतभेद आपके मानसिक तनाव का कारण बन सकती है। इस दौरान अपनी भाषा पर संयम बरतें और आक्रमक बर्ताव से बचें। बुध का ये गोचर मकर राशि के जातकों के लिए सामान्य फलदायी साबित होगा।

उपाय: बुध के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए गणेश जी की पूजा करें और उन्हें ध्रुव (घास) चढ़ाएँ।

कुंभ राशि

इस अवधि में बुध आपकी राशि से सातवें भाव में स्थापित होंगें। इस गोचरकाल के दौरान आपको विशेष रूप से सावधान रहने की आवश्यकता है। आपके साथ इस दौरान कोई ऐसी घटना घट सकती है जो आपके लिए बेहद नुक़सानदेह साबित हो। लिहाजा इस दौरान आपको विशेष रूप से चौकन्ना रहने की सलाह दी जाती है। यदि आप विवाहित हैं तो, जीवनसाथी के साथ आपका किसी बात को लेकर वाद विवाद भी संभव है। लिहाजा वैवाहिक जीवन में सुख शांति बनाये रखने के लिए आपको विशेष रूप से मतभेदों को किनारे कर प्रेम और सौहार्द की भावना बनाई रखनी होगी। प्रेम संबंध के लिहाज यह गोचरकाल आपके लिए विशेष फलदायी साबित हो सकता है। जहाँ एक तरफ आपको पार्टनर के साथ ख़ास आनंद की अनुभूति होगी, वहीं दूसरी तरफ यदि आप अपने पार्टनर के साथ विवाह बंधन में बंधना चाहते हैं तो प्रेम विवाह के लिए ये समय अति उत्तम है। कुंभ राशि के वैसे जातक जो किसी व्यापार से जुड़े हैं उन्हें इस गोचर अवधि के दौरान अच्छा ख़ासा मुनाफ़ा मिल सकता है। यदि बिज़नेस में कोई साझेदार है तो उसपर इस समय भरोसा करना आपके लिए नुक़सानदेह होगा। कुंभ राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि मिला जुला परिणाम देने वाली सिद्ध होगी।

उपाय: विशेष लाभ के लिए स्नान से पहले अपामार्ग की जड़ को पानी में घोलें और उसके बाद उस पानी से स्नान करें।

मीन राशि

बुध के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से छठे भाव में स्थित होंगें। इस गोचरकाल के दौरान आप किसी वाद विवाद की स्थिति में पड़ सकते हैं। आपको इस दौरान विशेष रूप से ये सलाह दी जाती है कि ऐसी किसी स्थिति के उत्पन्न होने पर उसका हिस्सा कदापि ना बनें। यदि आप विवाहित हैं तो इस गोचरकाल के दौरान आपको आपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखना होगा। बुध के गोचर की ये अवधि आपके जीवनसाथी की सेहत के लिए ख़तरा उत्पन्न कर सकती है, लिहाजा उनका विशेष रूप से ख्याल रखें और उन्हें किसी भी परेशानी से दो चार ना होने दें। जहाँ तक कार्यक्षेत्र का सवाल है तो, इस अवधि में आप कार्यस्थल पर अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रहेंगे। इस दौरान आपको अपनी मेहनत का पूर्ण रूप से फल प्राप्त होगा, पदोन्नति की भी संभावना नजर आ रही है। पारिवारिक जीवन इस गोचर के दौरान तनावपूर्ण हो सकता है, पैतृक संपत्ति या किसी प्रॉपर्टी को लेकर पारिवारिक सदस्यों के बीच मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। इस स्थिति से निपटने के लिए खासतौर से अपनी वाणी पर संयम रखें और शांति से काम लें। गोचर के इस अवधि के दौरान आपके लिए विशेष रूप से ट्रैफिक के नियमों का पालन करना काफी महत्वपूर्ण है वर्ना कानूनी पचड़ों में वक़्त बर्बाद हो सकता है। आर्थिक रूप से देखें तो मीन राशि के जातकों का इस दौरान विशेष ख़र्चा हो सकता है। लिहाजा पैसों की बचत करें और बेकार की चीजों पर खर्च करने से बचें।

उपाय: विशेष लाभ के लिए रोज़ाना बुध बीज मंत्र का जाप करें।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।