• Talk To Astrologers
  • AstroSage Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Child Report

बुध का तुला राशि में गोचर, 22 सितंबर 2020

22 सितंबर 2020 को बुध ग्रह का गोचर तुला राशि में होगा। बुध देव 16:55 बजे कन्या राशि से निकलकर तुला में प्रवेश कर जाएंगे और 14 अक्टूबर को वक्री होते हुए इसी राशि में 6:32 बजे तक रहेंगे। इसके बाद 3 नवंबर को बुध देव इसी राशि में मार्गी गति प्रारंभ करेंगे और 28 नवंबर 07 बजकर 04 मिनट पर वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएंगे। हालांकि नीचे दिया गया राशिफल केवल बुध में तुला राशि के गोचर का है।

जीवन में किसी भी समस्या का समाधान पाने के लिए ज्योतिष से प्रश्न पूछें

बुध ग्रह को सभी ग्रहों में युवराज का दर्जा प्राप्त है और कुंडली में इसकी अच्छी स्थिति व्यक्ति को तार्किक क्षमता देती है इसके साथ ही व्यक्ति गणितीय विषयों में अच्छा प्रदर्शन करता है। अगर बुध कुंडली में दुर्बल अवस्था में हो तो व्यक्ति की तार्किक क्षमता पर बुरा प्रभाव पड़ता है, इसके साथ ही त्वचा से संबंधी रोग भी ऐसे व्यक्ति को हो सकते हैं। आईए अब जानते हैं कि बुध का तुला राशि में गोचर सभी 12 राशियों के जातकों के जीवन में क्या परिवर्तन लेकर आएगा।

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। जानें अपनी चंद्र राशि

Read in English: Mercury transit in Libra

बुध का तुला राशि में गोचर

मेष

बुध ग्रह का गोचर आपकी राशि से सप्तम भाव में होगा। इस भाव से जीवन में होने वाली साझेदारियों और जीवनसाथी के बारे में विचार किया जाता है। इस भाव में बुध की स्थिति आपके जीवन में चुनौतियां ला सकती है। पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो घर के सदस्यों के साथ आपके मतभेद हो सकते हैं। ऐसे में आपको गुस्से पर काबू रखकर बातों को सुलझाने का प्रयास करना चाहिए।

वहीं दांपत्य जीवन में भी उतार-चढ़ाव आ सकते हैं। इस गोचर के दौरान आपको किसी पुरानी बात को लेकर बहस करने से बचना चाहिए। जितना हो सके जीवनसाथी के साथ तालमेल बिठाने की कोशिश करें। आर्थिक पक्ष को लेकर भी आपको सतर्क रहने की जरुरत है, अपने खर्चों पर ध्यान दें और कर्ज लेने या देने से बचें। धन की बचत करने के लिए आपको अच्छा बजट प्लान बनाना चाहिए।

इस राशि के जो जातक साझेदारी में बिजनेस करते हैं उन्हें गोचर काल के दौरान बहुत संभलकर रहने की जरुरत है। अपने साझेदार की गतिविधियों पर नजर बनाए रखें। जो जातक नया बिजनेस करने का प्लान बना रहे थे उन्हें कुछ समय के लिए इस विचार को स्थगित कर देना चाहिए। मेष राशि के जातकों को अपने स्वास्थ्य का भी इस दौरान विशेष ध्यान रखना होगा, खुद को फिट रखने के लिए पौष्टिक भोजन करें।

उपाय- बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाएं शुभ फल प्राप्त होंगे।

वृषभ

आपके द्वितीय और पंचम भाव के स्वामी बुध का गोचर आपके षष्ठम भाव में होगा। इस भाव से रोग, ऋण, विवाद, अभाव आदि के बारे में विचार किया जाता है। वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध ग्रह का यह गोचर शुभफलदायी साबित होगा। इस राशि के विद्यार्थियों को शिक्षा के क्षेत्र में इस दौरान शुभ फलों की प्राप्ति होगी। अपनी बुद्धि के दम पर सहपाठियों के बीच अलग जगह बना सकते हैं। किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो उसमें सफलता मिलने की भी आपको संभावना है। कार्यक्षेत्र में इस दौरान आप अपने प्रतिद्वंदियों पर हावी रह सकते हैं। वाद-विवाद की स्थिति में आपकी विजय होगी। आपके प्रेम जीवन पर नजर डालें तो इस समय लवमेट के साथ आपका सामंजस्य अच्छा रहेगा। किसी बात को लेकर यदि आप दोनों के बीच दूरी आयी थी तो वो भी इस दौरान दूर हो जाएगी। सामाजिक स्तर पर आपका मान-सम्मान इस दौरान बढ़ेगा। दांपत्य जीवन में संतान के चलते खुशियां आ सकती हैं, आपकी संतान को इस दौरान तरक्की मिलने की पूरी संभावना है। आर्थिक पक्ष पर नजर डालें तो इस समय काल में आप कर्जों से मुक्ति पा सकते हैं। कुल मिलाकर देखा जाए तो बुध का यह गोचर वृषभ राशि के जातकों की कई परेशानियों को दूर करने वाला साबित हो सकता है।

उपाय- बुधवार के दिन ग़रीबों को फल दान करें शुभ फल मिलेंगे।

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध ग्रह का गोचर उनके पंचम भाव में होगा। पंचम भाव से बुद्धि, संतान, प्रेम जीवन आदि के बारे में विचार किया जाता है। बुध की पंचम भाव में स्थिति दर्शाती है कि इस दौरान आपके परिवार का माहौल सुखद रहेगा। घर के छोटे सदस्यों के साथ इस समय आप काफी वक्त बिताएंगे और अपनी सारी चिंताओं को भूल जाएंगे। अपने कामों को संजीदगी के साथ करना आपको पसंद आएगा जिसके कारण जीवन में सकारात्मकता बनी रहेगी। सामाजिक स्तर की बात की जाए तो अपने करीबी मित्रों के साथ समय बिताने का आपको मौका मिल सकता है। वहीं इस राशि के जातक मनोरंजन के साधनों पर भी खर्च करने से इस दौरान नहीं कतराएंगे। हालांकि अपने बजट के हिसाब से ही खर्च करने की आपको सलाह दी जाती है। यदि आप सट्टेबाजी करते हैं तो फायदा मिल सकता है लेकिन ऐसे काम ना ही करें तो आपके लिए बेहतर रहेगा। एक बार मुनाफा पाकर ऐसे कामों में आप कई बार नुक्सान भी उठा सकते हैं। इस राशि के विद्यार्थियों को भी बुध के इस गोचर का लाभ प्राप्त होगा और प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलने की पूरी संभावना है।

उपाय- दुर्गा माता की आराधना करें।

कर्क

बुध देव आपके द्वादश और तृतीय भाव के स्वामी हैं। गोचर काल के दौरान बुध देव आपके चतुर्थ भाव में स्थित रहेंगे। इस भाव से माता, सुख, वाहन आदि के बारे में विचार किया जाता है। बुध के चतुर्थ भाव में होने के कारण आपके पारिवारिक जीवन में शांति बनी रहेगी। माता के साथ इस दौरान आप अच्छा वक्त बिता सकते हैं, माता का स्नेह आपको मानसिक शांति देगा। वहीं जो जातक घर से दूर रहकर नौकरी करते हैं या पढ़ाई करते हैं, इस गोचर काल के दौरान वो घर आ सकते हैं। वहीं नौकरी पेशा लोगों की बात की जाए तो आमदनी में वृद्धि होने के इस समय पूरे आसार हैं, हालांकि बावजूद इसके भी आपको आर्थिक चिंताएं बनी रहेंगी। इस राशि के विद्यार्थियों का ध्यान इस अवधि में पढ़ाई से भटक सकता है, आप दोस्तों के साथ ज्यादा वक्त बिता सकते हैं और सोशल मीडिया पर अपना कीमती समय बर्बाद कर सकते हैं। विद्यार्थियों को सलाह दी जाती है की अपने कीमती समय को बर्बाद न करें और टाइम-टेबल के हिसाब से पढ़ाई करें। इस राशि के जातकों को स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं इस दौरान हो सकती हैं। अपनी सेहत को दुरुस्त बनाए रखने के लिए आपको नियमित व्यायाम करना चाहिए और संतुलित भोजन खाना चाहिए।

उपाय- बुधवार के दिन हरी चूड़ियां दान करें, शुभ फल प्राप्त होंगे।

सिंह

सिंह राशि के जातकों के तृतीय भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को पराक्रम भाव भी कहा जाता है और इससे भाई-बहनों से आपके संबंध, साहस, लेखन आदि के बारे में भी विचार किया जाता है। इस भाव में बुध के गोचर से छोटे भाई-बहनों के साथ आपके संबंध सुधरेंगे, आप उनकी मदद करने के लिए आगे आएंगे और वो भी हर परिस्थिति में आपका साथ देंगे। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा घरवालों के बीच मेलजोल बना रहेगा। घर के अच्छे माहौल के कारण जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। सामाजिक स्तर पर आपको अपने मित्रों या करीबियों से फायदा मिल सकता है। आपके आर्थिक पक्ष पर नजर डालें तो, पैसों से जुड़े लेन-देन को लेकर आपको विशेष रुप से सावधान रहना होगा। आपकी एक छोटी सी गलती भी आपका बड़ा घाटा करवा सकती है। इस राशि के कुछ जातक इस दौरान अनजाने भय से ग्रसित हो सकते हैं, जिसके चलते मानसिक तनाव भी हो सकता है। ऐसे में आपको ध्यान-योग का सहारा लेकर अपने मन मस्तिष्क को संतुलित करना चाहिए।

उपाय- आपको किन्नरों का आशीर्वाद लेना चाहिए इससे आपके जीवन में सकारात्मकता आएगी।

कन्या

बुध ग्रह कन्या राशि के लग्न भाव का स्वामी है और तुला राशि में गोचर काल के दौरान द्वितीय भाव में विराजमान रहेगा। द्वितीय भाव आपके परिवार, वाणी और संपत्ति का होता है। इस भाव में बुध की स्थिति से पारिवारिक जीवन अच्छा रहेगा। घर के प्रत्येक सदस्य का आप ख्याल रखेंगे और उनकी जरुरतों पर खर्च करने से भी नहीं कतराएंगे। सामाजिक स्तर पर भी आपका प्रभाव पड़ेगा, अपनी वाणी के दम पर आप लोगों को प्रभावित करने में सफल होंगे। इस राशि के जो जातक कारोबार करते हैं उन्हें अतीत की योजनाओं से लाभ होने की पूरी संभावना है। आपकी मेहनत का अच्छा फल बुध के इस गोचर के दौरान आपको मिलेगा। इस राशि के विद्यार्थी अपने तर्कों से गुरुजनों और सहपाठियों को प्रभावित कर सकते हैं। कठिन विषयों को समझने में भी इस गोचर के दौरान आप समर्थ होंगे। यदि आप नौकरी पेशा हैं और कार्यक्षेत्र में किसी उच्च पद पर आसीन हैं तो आपको अपने अधिनस्थ काम करने वाले लोगों की बातों पर भी गौर करना चाहिए और उनकी जरुरतों का ख्याल रखना चाहिए।

उपाय- भगवान विष्णु की पूजा करना और उन्हें कपूर अर्पित करना आपके लिए शुभ रहेगा।

तुला

तुला राशि के जातकों के लग्न भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। लग्न भाव से आपके स्वास्थ्य, चरित्र, बुद्धि, सौभाग्य आदि के बारे में विचार किया जाता है। इस भाव में बुध के गोचर से इस राशि के कारोबारियों को दिक्कतों का सामना करना प़ड़ सकता है। यदि आप अपने कारोबार को फैलाने का विचार बना रहे थे तो किसी वजह से वह स्थगित हो सकता है। इस राशि के विद्यार्थी भी भविष्य को लेकर इस दौरान उलझन में देखे जा सकते हैं। अपनी उलझनों का सही हल पाने के लिए आपको अपने गुरुजनों या माता-पिता से बात करनी चाहिए। जल्दबाजी में कोई भी फैसला ना ही लें तो बेहतर। सामाजिक स्तर पर भी इस राशि के लोगों को सावधान होकर चलने की जरुरत है, जितना हो कम बोलें और वाद-विवाद की स्थिति से दूर रहें। आपकी कही कोई बात किसी को दुख दे सकती है। बुध के गोचर काल के दौरान आपको अपने व्यवहार में सकारात्मक बदलाव लाने की जरुरत है। इसके लिए अच्छे लोगों की संगति में रहें और अच्छी पुस्तकें पढ़ें। इस राशि के नौकरी पेशा लोगों को इस गोचर के दौरान किस्मत का साथ मिलेगा जिसके चलते कार्यक्षेत्र में उन्हें अच्छे फलों की प्राप्ति होगी।

उपाय- श्री विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करने से आपके जीवन में सकारात्मकता आएगी।

वृश्चिक

बुध ग्रह का गोचर आपकी राशि से द्वादश भाव में होगा। इस भाव को हानि भाव भी कहा जाता है और इससे आपके व्यय, अलगाव, कमज़ोरी आदि के बारे में भी विचार किया जाता है। बुध का यह गोचर आपके जीवन में आर्थिक चुनौतियां लेकर आ सकता है। आपके खर्चों में वृद्धि हो सकती है जिसके कारण आप मानसिक तनाव में भी आ सकते हैं। धन की बचत के लिए अगर आप अच्छा बजट प्लान बना लेते हैं तो आप बचत करने में सक्षम हो सकते हैं। जो लोग विदेशों से जुड़ा व्यापार करते हैं या किसी विदेशी कंपनी में काम करते हैं उनके लिए यह गोचर अच्छा रह सकता है, लाभ मिलने की पूरी संभावना है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी बुध का यह गोचर आपके लिए बहुत शुभ नहीं है। इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना चाहिए। अपनी दिनचर्या में व्यायाम को जगह दें।

उपाय- बुध बीज मंत्र का जाप करना आपके लिए शुभ फलदायक रहेगा।

धनु

धनु राशि के जातकों के एकादश भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को लाभ भाव कहा जाता है और बुध के इस भाव में स्थित होने से धनु राशि के जातकों को भी लाभ पहुँचेगा। आपके जीवन के विभिन्न पक्षों में इस दौरान सकारात्मक बदलाव देखे जा सकते हैं। जो जातक नौकरी पेशा से जुड़े हैं उनको कार्यक्षेत्र में अपने काम के अच्छे फल मिलेंगे। इस दौरान इस राशि के कुछ जातकों को कार्यक्षेत्र में पदोन्नति मिल सकती है साथ ही आमदनी में वृद्धि की भी संभावना है। पैसे का सही इस्तेमाल कैसे किया जाए इसके बारे में भी आप विचार कर सकते हैं। आपके साथ-साथ आपके जीवनसाथी को भी उनके कार्यक्षेत्र में लाभ मिल सकता है। इसके साथ ही इस राशि के लोगों को उच्च अधिकारियों का सहयोग भी प्राप्त होगा, जिससे नई चीजें सीखने का मौका मिलेगा। पारिवारिक जीवन पर नजर डालें तो बड़े भाई-बहनों के साथ आपके संबंध सुधरेंगे जिससे परिवार का माहौल बेहतर होता जाएगा। सामाजिक स्तर पर आप अपने मित्रों के साथ अच्छा समय बिता सकते हैं। इस राशि के जो जातक किसी बीमारी से लंबे समय से पीड़ित थे उन्हें बुध के इस गोचर के दौरान आराम मिल सकता है।

उपाय- बुधवार के दिन हरे फलों का दान करना आपके लिए शुभ रहेगा।

मकर

मकर राशि के जातकों के दशम भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। इस भाव को कर्म भाव भी कहा जाता है और इससे आपके कार्यक्षेत्र, नेतृत्व क्षमता आदि के बारे में विचार किया जाता है। चूंकि इस भाव से आपके कर्म और कर्मक्षेत्र पर विचार किया जाता है इसलिए बुध के इस भाव में गोचर के दौरान आपको अपने कर्मक्षेत्र में सफलता मिलेगी। यदि आप लंबे समय से किसी संस्था से जुड़े हैं तो इस दौरान आपकी पदोन्नति हो सकती है। वहीं इस राशि के व्यापारियों को भी लाभ होने की संभावना है, अपनी अधूरी योजनाओं को इस समय आप पूरा कर सकते हैं। यदि कारोबार को फैलाना चाहते हैं तो यह समय आपके लिए अच्छा रहेगा। इस राशि के लोगों को जीवन को बेहतर बनाने के कई नए अवसर इस दौरान मिल सकते हैं, आपको बस सतर्क रहना है और सही समय पर सही कदम उठाना है। इस राशि के विद्यार्थियों के लिए यह समय अनुकूल नजर आ रहा है, शिक्षा के क्षेत्र में आपको उपलब्धि मिल सकती है। आपकी एकाग्रता में इस दौरान वृद्धि होगी और कठिन विषयों को समझ पाने में भी आप कामयाब होंगे। परिवार का माहौल सुखद रहेगा, हालांकि अपने गुस्से पर काबू रखने की आपको जरुरत है। बाहर का तला-भुना भोजन खाने से बचेंगे तो स्वास्थ्य बेहतर बना रहेगा।

उपाय- घर के पूजा स्थल में कपूर का दीया जलाएं, जीवन में सकारात्मकता आएगी।

कुंभ

शनि के स्वामित्व वाली कुंभ राशि के जातकों के नवम भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। इस भाव से हम भाग्य, धर्म-कर्म, यात्राओं आदि के बारे में विचार करते हैं। बुध का यह गोचर कुंभ राशि के जातकों के लिए कई मायनों में अच्छा रहेगा। इस दौरान आप मानसिक शांति पाने के लिए धर्म-कर्म के काम करेंगे और आध्यात्मिक विषयों में भी रुचि लेंगे। आध्यात्म से जुड़ी पुस्तकों का भी आप अध्ययन इस दौरान कर सकते हैं, इसके साथ ही कुछ जातक योग आदि करने में भी रुचि लेंगे। पारिवारिक जीवन में भी संतुलन बनाने की आप पूरी कोशिश करेंगे, इस अवधि में आप परिवार के साथ धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते हैं। इस राशि के शिक्षार्थियों के लिए भी बुध का यह गोचर अच्छा रहेगा, आपकी तार्किक क्षमता बढ़ेगी, गणित, विज्ञान जैसे विषयों में आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। इस राशि के जो जातक बेरोजगार हैं इस दौरान भाग्य उनका साथ दे सकता है और किसी अच्छी जगह उनकी नौकरी लग सकती है। वहीं कारोबारियों के लिए भी यह गोचर अनुकूल रहेगा, यदि आप काम के सिलसिले में यात्रा करते हैं तो लाभ मिलने की पूरी संभावना है।

उपाय- हरी वस्तुओं का दान करना खासकर बुधवार के दिन, आपके लिए शुभ रहेगा।

मीन

मीन राशि के जातकों के अष्टम भाव में बुध ग्रह का गोचर होगा। यह भाव आयु का भाव कहा जाता है और इससे आपके जीवन में आने वाले उतार-चढ़ाव, रुकावट, गूढ़ विद्या आदि के बारे में विचार किया जाता है। मीन राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर चुनौतीपूर्ण रह सकता है। कार्यक्षेत्र में आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है आपको किसी झूठे मामले में फंसाया जा सकता है, क्योंकि आपके दुश्मन इस दौरान सक्रिय रहेंगे। इस अवधि में आपको बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है। हालांकि आप आध्यात्मिकता की तरफ बढ़ें और योग-ध्यान का सहारा लें तो इस गोचर में अनुकूल फल भी प्राप्त कर सकते हैं। आध्यात्मिक उन्नति के मौके आपको प्राप्त होंगे। इस राशि के जो जातक किसी शोध कार्य में लगे हैं उनके लिए यह गोचर अच्छा रह सकता है, आपके शोध को नई गति मिल सकती है। इस राशि के जो लोग वाहन चलाते हैं उन्हें सावधान रहने की जरुरत है, सिर्फ आपकी ही नहीं किसी अन्य की वजह से भी आप किसी दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। मीन राशि के जातकों को अपने स्वास्थ्य पर भी इस दौरान विशेष ध्यान देने की जरुरत है। अपने खान पान पर ध्यान दें, पेट को दुरुस्त रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें, समय पर सोयें और उठें।

उपाय- बुआ, मामी, या छोटी कन्याओं को कोई उपहार दें, कई परेशानियों से मुक्ति मिलेगी।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।