• Varta Astrologers
  • Mragaank
  • Kriti
  • Parul

कन्या राशि में बुध होंगे मार्गी (18 अक्टूबर, 2021)- समय और महत्व

बुध ग्रह सौरमंडल में सूर्य के सबसे नजदीक है। वैदिक ज्योतिष में बुध को सभी ग्रहों के बीच राजकुमार का दर्जा प्राप्त है। आम तौर पर बुध को एक शुभ फल दाता ग्रह के तौर पर देखा जाता है लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में बुध आपके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव भी डालता है। उदाहरण के तौर पर इसे ऐसे समझिए कि बुध यदि किसी जातक की कुंडली के छठे, आठवें या बारहवें भाव में स्थित होता है तो यह जातकों को नकारात्मक फल देता है। बुध को देवदूत के तौर पर भी जाना जाता है और इसका सभी बारह राशियों के बीच मिथुन और कन्या राशि पर आधिपत्य है। किसी भी जातक के जीवन में यह ग्रह बुद्धि, गणित, वाणिज्य, संचार आदि का कारक माना जाता है। वे जातक जिनकी कुंडली में बुध मजबूत स्थिति में होता है, वे आमतौर पर हाजिर जवाब होते हैं और गणित तथा वाणिज्य पर भी उनकी पकड़ काफी अच्छी होती है। शरीर के विभिन्न हिस्से जैसे कि बाँह, कान, फेफड़े, तंत्रिका तंत्र और त्वचा पर बुध का ही आधिपत्य है।

कन्या राशि में बुध होंगे मार्गी

एस्ट्रोसेज वार्ता से दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात

बुध साल 2022 में 18 अक्टूबर को सोमवार की रात को 08 बजकर 46 मिनट पर कन्या राशि में मार्गी हो जाएंगे। अपनी स्वराशि कन्या में 22 दिनों तक गोचर करने के बाद बुध 02 नवंबर को मंगलवार की सुबह 09 बजकर 43 मिनट पर तुला राशि में गोचर कर जाएंगे। जो जातक वक्री बुध की ऊर्जा से प्रभावित होकर अपने स्वभाव में चिड़चिड़ापन या फिर मानसिक तनाव महसूस करते हैं, वे राहत की सांस ले सकते हैं क्योंकि बुध अपनी उच्च राशि कन्या में मार्गी होने जा रहे हैं जोकि जातकों को अनुकूल फल प्रदान करेगा। बुध ग्रह संचार, यात्रा, भाई-बहन, पड़ोसी, सहकर्मियों का समर्थन और कई नौकरियों को प्रभावित करेगा। व्यवसाय से संबंधित योजनाओं, बातचीत और ऐसे सौदे जो काफी समय से अटके हुए थे, उन्हें बुध इस दौरान गति देने का कार्य करेगा। बुध के मार्गी होने के साथ ही कार्यक्षेत्र में मौजूद सारी बंधी हुई ऊर्जा मुक्त होकर कार्य प्रणाली को सकारात्मक रूप से बेहतर करने में सहायक सिद्ध हो सकती हैं जिसके फलस्वरूप जातक अपने कार्यक्षेत्र से जुड़ी समस्याओं का व्यावहारिक समाधान पाने और कार्यक्षेत्र में रचनात्मक बदलाव लाने में सफल रह सकते हैं। इस दौरान जातक किसी भी कार्य को करते वक्त उसकी बारीकियों पर पैनी नजर रखेंगे और साथ-साथ कार्य को पूरा करने में कुशलता, स्वच्छता और उसकी सही प्रक्रिया का विशेष ध्यान रखेंगे। आइये अब आपको कन्या राशि में बुध के मार्गी होने की वजह से सभी बारह राशियों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इसकी जानकारी दे देते हैं।

यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी व्यक्तिगत चन्द्र राशि अभी जानने के लिए चंद्र राशि कैलकुलेटर का उपयोग करें।

Read in English: Mercury Being Direct in Virgo (18th October 2021)

मेष

मेष राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके तीसरे व छठे भाव का स्वामी है और यह इस दौरान आपके छठे भाव यानी कि दैनिक आमदनी, कर्ज़ और शत्रु के भाव में मार्गी होगा। इस दौरान आपके मन में नई शुरुआत करने और नया अनुभव प्राप्त करने की इच्छा प्रबल हो सकती है। साथ ही बुध के मार्गी होने से मेष राशि के जातकों के अंदर महत्वाकांक्षा में वृद्धि देखी जा सकती है। यह समय आपके लिए अपने कौशल को निखारने, अपने लिए समय निकालने और उन सभी कागजी कार्यों से छुटकारा पाने के लिए अनुकूल है जो आपको लंबे समय से परेशान कर रहे हैं। आर्थिक तौर पर यह समय आपके लिए औसत रह सकता है। वहीं पारिवारिक जीवन में इस दौरान तनावपूर्ण माहौल रहने की आशंका है। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से यह अवधि आपके लिए अच्छी रह सकती है। इस दौरान आप स्वयं को शारीरिक रूप से स्वस्थ महसूस कर सकते हैं। हालांकि अत्यधिक कार्यभार की वजह से आपको इस अवधि में मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि आप इस दौरान अपनी दिनचर्या में योग और ध्यान को शामिल कर मानसिक तनाव से छुटकारा पा सकते हैं।

उपाय: बुधवार को व्रत रखें।

वृषभ

वृषभ राशि के जातकों की कुंडली में बुध को उनके दूसरे भाव व पंचम भाव का स्वामी माना जाता है। बुध इस दौरान आपके पंचम भाव यानी कि संतान, शिक्षा और प्रेम संबंध के भाव में मार्गी होंगे। इस अवधि में जातकों के अंदर की रचनात्मक कौशल में वृद्धि हो सकती है और यह अवधि वृषभ राशि के जातकों के लिए विशेषकर अपने करियर में रचनात्मक तरीके से कुछ नई योजनाएं बनाने या कुछ नया करने के लिए बिल्कुल ही अनुकूल समय सिद्ध हो सकता है। आर्थिक तौर पर देखा जाए तो वृषभ राशि के जातकों को इस अवधि में सजग रहने की जरूरत है। इस दौरान आप अपनी जीवनशैली को और बेहतर बनाने के लिए अतिरिक्त धन खर्च करते नजर आ सकते हैं जिसकी वजह से आपका मासिक बजट बिगड़ सकता है। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि आप इस दौरान अपने फिजूलखर्ची पर रोक लगाएं और केवल जरूरी चीजों पर ही धन खर्च करें। धन संचय करने की कोशिश करें। निजी जीवन में आप इस दौरान अपने दोस्तों के साथ बेहतरीन समय बिताते नजर आ सकते हैं। साथ ही इस बात की भी संभावना है कि आप इस अवधि में नए लोगों से मिलेंगे और उनमें से किसी के साथ अपने प्रेम जीवन में एक नए रिश्ते की शुरुआत करेंगे। यह समय वृषभ राशि के उन जातकों के लिए भी अनुकूल रहने की संभावना है जो विवाहित हैं और संतान सुख भोग रहे हैं। सट्टा बाजार जैसे कि शेयर बाजार आदि से भी आपको इस अवधि में लाभ हो सकता है। हालांकि आपको सलाह दी जाती है कि आप इस दौरान कोई भी बड़ा निवेश करने से परहेज करें।

उपाय: नए कपड़े पहनने से पहले उसे धो लें।

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके लग्न भाव और चौथे भाव का स्वामी माना जाता है और इस अवधि में बुध उनके चौथे भाव यानी कि माता, भोग-विलास और सुख के भाव में मार्गी होगा। मिथुन राशि के जातक इस अवधि में अपने पेशेवर जीवन में हर मुद्दे या सौदे को व्यावहारिक तरीके से निपटाने पर ज़ोर देते नजर आ सकते हैं। साथ ही इस दौरान आप किसी से भी संवाद करते वक्त अपनी बातों में स्पष्टता और ईमानदारी रख सकते हैं। ऐसे में यह अवधि मिथुन राशि के जातकों के लिए किसी के साथ भी अपने विचार साझा करने के लिए बेहद अनुकूल रह सकती है क्योंकि इस दौरान आपकी कही हर बात को काफी सराहा जा सकता है। निजी जीवन में इस दौरान आपको अपने भाइयों का पूरा समर्थन प्राप्त हो सकता है और आप इस अवधि में अपने परिवार के साथ सुखद पल बिताने में सफल रह सकते हैं। मिथुन राशि के जातक इस दौरान अपने परिवार को लेकर सजग नजर आ सकते हैं और संभावना है कि आप उनकी सुख-सुविधाओं का इस दौरान पूरा ख्याल रखेंगे। आर्थिक तौर पर देखा जाए तो आप इस दौरान संपत्ति से लाभ अर्जित कर सकते हैं। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आपको इस अवधि में परेशान कर सकती हैं। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान आप अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और छोटी से छोटी समस्या होने पर लापरवाही न बरतते हुए समय पर चिकित्सीय परामर्श अवश्य लें।

उपाय: मंदिर में दूध और चावल का दान करें।


चंद्र राशि कैलकुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

कर्क

कर्क राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी माना जाता है जबकि इस अवधि में यह आपके तीसरे भाव यानी कि पराक्रम, संवाद और भाई-बहनों के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में कर्क राशि के जातकों का मन अनिश्चितता से भरा हुआ रह सकता है। इस दौरान आप घर पर रहना, आराम करना और दुनिया से अलग-थलग रहने की कोशिश करते नजर आ सकते हैं जबकि कभी-कभार आपको इस दौरान ऐसा भी महसूस हो सकता है कि आपको कुछ नया शुरू करने की जरूरत है या फिर कहीं बाहर घूमने जाना चाहिए। इस अवधि में आप अपने पेशेवर जीवन में पैसा और यश अर्जित करने में सफल रह सकते हैं। आर्थिक तौर पर बुध की इस स्थिति की वजह से आपके खर्चों में वृद्धि होने की आशंका है और आप स्वभाव से भी थोड़े ख़र्चीले रह सकते हैं। निजी जीवन में आपके अंदर मौजूद दया भावना में वृद्धि हो सकती है और आप अपने परिवार व दोस्तों के साथ इस अवधि में अच्छा समय बिताने में सफल रह सकते हैं। साथ ही इस दौरान आप अपने आसपास हो रही गतिविधियों में सम्मिलित होते भी नजर आ सकते हैं। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से आप इस अवधि में शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ रह सकते हैं। कुल मिलाकर यह समय आपके लिए अनुकूल रह सकता है।

उपाय: गौ माता को चारा खिलाएं।

सिंह

सिंह राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके दूसरे और ग्यारहवें भाव का स्वामी माना जाता है जबकि इस दौरान यह आपके धन, संवाद और संपत्ति के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में सिंह राशि के जातकों के अंदर अपनी आरामदायक ज़िंदगी को पीछे छोड़ कर अपने सपनों को पूरा करने की इच्छा प्रबल हो सकती है। आर्थिक तौर से देखा जाए तो यह समय सिंह राशि के जातकों के लिए किसी अनुभवी के परामर्श के आधार पर कोई लंबी अवधि का निवेश करने के लिए बेहद अनुकूल सिद्ध हो सकता है। साथ ही इस दौरान आप अपने खर्चों पर लगाम लगाने की कोशिश कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए अपने आय के स्रोतों का विस्तार करने पर भी विचार कर सकते हैं। बुध की मार्गी स्थिति के दौरान आपका झुकाव धार्मिक क्रियाकलापों की तरफ ज्यादा रह सकता है। साथ ही आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर भी जाने की योजना बना सकते हैं जिससे आपको लाभ होने की संभावना है। वहीं आपका निजी जीवन इस दौरान खुशहाल रह सकता है। स्वास्थ्य के नजरिए से देखा जाए तो इस अवधि में आप खुद को ऊर्जा से भरा हुआ महसूस कर सकते हैं।

उपाय: मदिरा और मांस के सेवन से परहेज करें।


राजयोग रिपोर्ट से जानें कब खुलेगी आपकी किस्मत और कब आएंगी जीवन में खुशियां

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए बुध उनके लग्न भाव और दशम भाव का स्वामी माना जाता है जबकि इस अवधि में यह कन्या राशि के लग्न भाव यानी कि चरित्र, व्यवहार और व्यक्तित्व के भाव में मार्गी होगा। बुध की इस स्थिति की वजह से कन्या राशि के जातक इस दौरान काफी मिलनसार और बातूनी हो सकते हैं। आप इस अवधि में अपना काफी समय सोशल नेटवर्किंग साइट्स और संचार के उपकरण जैसे कि लैपटॉप, मोबाइल आदि पर बिता सकते हैं। साथ ही आप इस दौरान किसी भी परिस्थिति का डटकर सामना करते नजर आ सकते हैं और आपको इसमें सफलता मिलने की भी प्रबल संभावना है। आर्थिक तौर से यह समय आपके लिए अनुकूल सिद्ध हो सकता है। इस अवधि में आप अच्छे और लाभदायक आर्थिक निवेश करने में सफल रह सकते हैं। वहीं संभावना है कि निजी जीवन में आप इस दौरान काफी सामाजिक रहेंगे और अपने दोस्तों व परिवार के साथ ज्यादा समय बिताने या उनसे मिलने आदि की योजना भी बना सकते हैं। कन्या राशि के जातकों का वैवाहिक जीवन भी इस अवधि में सुखद रहने की संभावना है। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से इस दौरान आप मानसिक व शारीरिक तौर पर स्वयं को स्वस्थ महसूस कर सकते हैं।

उपाय: हरे रंग के कपड़े पहनें।

तुला

तुला राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके नवम भाव और द्वादश भाव का स्वामी माना जाता है और इस दौरान यह आपके द्वादश भाव यानी कि व्यय, मोक्ष और विदेश में बंदोबस्त के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में आपकी रुचि अकेले समय बिताने में ज्यादा रह सकती है और साथ ही इस दौरान आपका झुकाव अध्यात्म की तरफ रह सकता है। पेशेवर जीवन के लिहाज से यह अवधि वैसे तो आपके लिए अनुकूल रहने की संभावना है लेकिन आशंका है कि इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपसे कुछ जिम्मेदारियां या फिर आपको सौंपे गए कुछ जरूरी कार्य आपसे वापस लिए जा सकते हैं। तुला राशि के वह जातक जो विदेश यात्रा पर जाने की योजना बना रहे हैं, उनकी यह इच्छा इस अवधि में पूरी हो सकती है। आर्थिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो इस दौरान आपके खर्चों में वृद्धि हो सकती है। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान आप केवल जरूरी चीजों पर ही धन खर्च करें और धन संचय करने की कोशिश करें। निजी जीवन के दृष्टिकोण से आपको सलाह दी जाती है कि आप इस अवधि में अपने दोस्तों से कुछ भी न छिपाएं क्योंकि संभावना है कि वे जरूरत के समय पर आपका साथ देने से पीछे नहीं हटेंगे। स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो इस अवधि में आपको अपने परिवार के स्वास्थ्य को लेकर धन खर्च करना पड़ सकता है लेकिन कोई बड़ी स्वास्थ्य समस्या आपको इस दौरान परेशान करे, इस बात की आशंका बेहद कम है।

उपाय: घर की महिलाओं व लड़कियों की इज्जत करें और छोटी बच्चियों को प्यार दें व उनका ध्यान रखें।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके आठवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी माना जाता है और इस अवधि में यह आपके ग्यारहवें भाव यानी कि इच्छा और लाभ के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में वृश्चिक राशि के जातक कई स्रोतों से आय करने में सक्षम रह सकते हैं। पेशेवर जीवन के दृष्टिकोण से यह अवधि आपके लिए अनुकूल रहने की संभावना है और इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपके वरिष्ठ आपके कार्य की सराहना भी कर सकते हैं। आर्थिक जीवन के लिहाज से आप इस अवधि में कई स्रोतों और पुराने किसी निवेश से लाभ प्राप्त करने में सफल रह सकते हैं। वहीं निजी जीवन सकारात्मक और खुशनुमा रह सकता है। इस दौरान वृश्चिक राशि के जातक अपने दोस्तों के साथ ज्यादा समय बिताते नजर आ सकते हैं। आप इस दौरान आप अपना सामाजिक दारा बड़ा करने की कोशिश भी करते नजर आ सकते हैं। वृश्चिक राशि के जातकों का वैवाहिक जीवन इस दौरान औसत रहने की संभावना है। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से यह अवधि जातकों के लिए अनुकूल रह सकती है और इस दौरान वे स्वयं को चुस्त व दुरुस्त महसूस कर सकते हैं।

उपाय: अपनी बहन को कोई उपहार दें और व्यवसाय में ईमानदार रहें।


बृहत् कुंडली: जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

धनु

धनु राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके सातवें और दसवें भाव का स्वामी माना जाता है। वहीं इस अवधि में यह धनु राशि के दसवें भाव यानी कि नाम, यश और पेशे के भाव में मार्गी होगा। पेशेवर जीवन के लिहाज से देखा जाए तो इस दौरान आपका अपने कार्य को लेकर उत्साह चरम पर रह सकता है और आप अपना पूरा ध्यान अपने करियर पर केन्द्रित कर सकते हैं। साथ ही इस अवधि में आप कोई भी कार्य पूरे आत्मविश्वास के साथ करते नजर आ सकते हैं। कार्यक्षेत्र में अपने कार्य कौशल और मेहनत की वजह से आप इस दौरान अपने वरिष्ठों और सहकर्मियों के बीच एक अलग पहचान बनाने में भी कामयाब रह सकते हैं। पदोन्नति या आर्थिक लाभ होने के भी योग बन रहे हैं। वहीं निजी जीवन के लिहाज से देखा जाए तो धनु राशि के विवाहित जातकों के लिए यह अवधि सुखद रहने की संभावना है लेकिन साथ ही इस बात की भी आशंका है कि आपकी आपके पेशेवर जीवन में अत्यधिक व्यस्तता की वजह से आप दोनों के बीच कोई गलतफहमी भी पैदा हो सकती है। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि पेशेवर जीवन के साथ-साथ वैवाहिक जीवन को भी समय दें अन्यथा समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। धनु राशि के विवाहित जातकों के जीवनसाथी भी इस अवधि में अपने करियर में अच्छी सफलता अर्जित कर सकते हैं। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से इस दौरान आपको अत्यधिक कार्य बोझ की वजह से मानसिक रूप से तनाव का सामना कर सकते हैं।

उपाय: हरी घास, साबुत मूंग और पालक का दान करें।

मकर

मकर राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके छठे भाव और नवम भाव का स्वामी माना जाता है और इस दौरान यह आपके नवम भाव यानी कि भाग्य, धर्म और अध्यात्म के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में मकर राशि के जातकों को भाग्य का साथ मिल सकता है और उनके संचार कौशल में भी सुधार देखने को मिल सकता है। साथ ही वे इस दौरान अपने आसपास के लोगों को प्रभावित करने में भी सफल रह सकते हैं। हालांकि आपको यह सलाह भी दी जाती है कि आप इस दौरान किसी से भी संवाद करते वक्त सजग रहें क्योंकि आशंका है कि आप अति आत्मविश्वास की वजह से संवाद के दौरान कटु शब्दों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं जिससे कोई गलतफहमी या विवाद पैदा हो सकता है। ऐसे में अति आत्मविश्वासी होने से बचें। आर्थिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो यदि आपके जीवन में कोई संपत्ति संबंधित विवाद चल रहा है तो यह अवधि उस विवाद या समस्या को खत्म करने के लिए अनुकूल समय सिद्ध हो सकती है। वहीं मकर राशि के जातक इस अवधि में धार्मिक आयोजनों या गतिविधियों में धन खर्च करते नजर आ सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय आपके लिए अनुकूल रहने की संभावना है। हालांकि आपको इस दौरान आपके पिता को छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं परेशान कर सकती हैं। ऐसे में आपको अपने पिता के स्वास्थ्य को लेकर सजग रहने की सलाह दी जाती है।

उपाय: “ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः” का जाप करें।

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों की कुंडली में बुध को उनके पंचम भाव और अष्टम भाव का स्वामी माना जाता है और इस दौरान यह उनके अष्टम भाव यानी कि अप्रत्याशित लाभ/हानि, पैतृक संपत्ति और रहस्य के भाव में मार्गी हो रहा है। बुध की इस स्थिति के दौरान कुंभ राशि के जातकों को अत्यधिक मेहनत के बावजूद मनचाहा फल प्राप्त करने में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यह समय उन जातकों के लिए अनुकूल रहने की संभावना है जो शोध के क्षेत्र में या फिर पीएचडी की पढ़ाई कर रहे हैं क्योंकि इस दौरान आप अपनी पढ़ाई पर बेहतर तरीके से ध्यान केंद्रित करने में सफल रह सकते हैं। आर्थिक दृष्टिकोण से इस अवधि में आपको उत्तराधिकारी के तौर पर अप्रत्याशित लाभ होने के योग बन रहे हैं जिससे आपकी आर्थिक स्थिति को बल मिलेगा। वहीं निजी जीवन में कुंभ राशि के जातकों के अपने रिश्तेदारों से बेहतर संबंध रहने की संभावना है और आप इस दौरान उनके साथ सुखद जीवन व्यतीत करते नजर आ सकते हैं। साथ ही इस अवधि में आपको उनसे किसी प्रकार का सहयोग भी प्राप्त हो सकता है। कुंभ राशि के वे जातक जो विवाहित हैं उनके लिए यह अवधि औसत रहने की आशंका है क्योंकि इस दौरान आपका आपके जीवनसाथी से किसी बात को लेकर छोटा-मोटा विवाद हो सकता है। वहीं कुंभ राशि के वे जातक जो एकल जीवन व्यतीत कर रहे हैं, उन्हें इस अवधि में किसी भी रिश्ते में ना आने की सलाह दी जाती है क्योंकि आशंका है कि इस नए रिश्ते से उन्हें प्रतिकूल परिणाम प्राप्त होंगे। स्वास्थ्य के लिहाज से कुंभ राशि के जातकों को इस दौरान सजग रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि इस दौरान आपको छोटी-मोटी चोट लग सकती है या फिर कान, नाक और आँख से संबंधित कोई समस्या आपको परेशान कर सकती है।

उपाय: 108 बार “ॐ बुं बुधाय नमः” मंत्र का जाप करें।


करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

मीन

मीन राशि के जातकों की कुंडली में बुध उनके चतुर्थ और सप्तम भाव का स्वामी माना जाता है और इस दौरान यह आपके सप्तम भाव यानी कि विवाह और साझेदारी के भाव में मार्गी होगा। इस अवधि में मीन राशि के वह जातक जो साझेदारी में व्यवसाय करते हैं, उन्हें अच्छा मुनाफा हो सकता है और उनके संबंध अपने साझेदार से और भी मजबूत हो सकते हैं। वहीं मीन राशि के वह जातक जो नौकरीपेशा हैं, उन्हें भी इस अवधि में लाभ हो सकता है। इस बात की प्रबल संभावना है कि आप इस दौरान कोई नया व्यवसाय शुरू कर सकते हैं या फिर अपनी बेहतरीन संवाद शैली से कोई नया व लाभदायक सौदा करने में सफल रह सकते हैं। आर्थिक जीवन के लिहाज से यह समय आपके लिए अनुकूल रहने की संभावना है और इस दौरान आप अपने जीवनसाथी/प्रेमसाथी के साथ कहीं छुट्टी मनाने जा सकते हैं। वैवाहिक जीवन में चल रहे विवाद इस अवधि में खत्म हो सकते हैं और आप इस दौरान अपने परिवार के सभी सदस्यों के साथ संबंध बेहतर करने पर ध्यान केंद्रित करते नजर आ सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो इस अवधि में आपका स्वास्थ्य बेहतर रह सकता है लेकिन फिर भी आपको बेहतर स्वास्थ्य के लिए नियमित रूप से व्यायाम करने और खानपान संबंधी परहेज करने की सलाह दी जाती है।

उपाय: गाय को हरा चारा या हरी सब्जियां खिलाएं।


सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।