• AstroSage Brihat Horoscope
  • AstroSage Big Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Shani Report
  • Career Counseling

सूर्य का सिंह राशि में गोचर (17 अगस्त, 2019)

नवग्रहों के स्वामी सूर्य देव को हिन्दू धर्म में विशेष रूप से देवता के रूप में पूजा जाता है। सूर्य देव को इस संसार के जगत पिता की उपाधि भी प्राप्त है क्योंकि उनके बिना इस धरती पर जीवन की कल्पना नहीं जा सकती है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य देव को खासतौर से सिंह राशि का स्वामी माना जाता है। व्यक्ति की कुंडली में सूर्य के प्रभाव से जीवन में तरक्की, सफलता और सम्मान के साथ ही पिता के साथ बेहतर संबंध भी स्थापित होते हैं।

सूर्य देव को मजबूत करने के लिए स्थापित करें सूर्य यंत्र

सूर्य का सिंह राशि में गोचर

सूर्य के गोचर का प्रभाव

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य आत्मा, पिता, पूर्वज, राज्य सम्मान, नेत्र और राजनीति आदि का कारक है। सूर्य के शुभ प्रभाव से विभिन्न कार्यक्षेत्र में उच्च पद की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में भी मान-सम्मान मिलता है। वहीं दूसरी तरफ यदि कुंडली पर सूर्य का अशुभ प्रभाव हो तो जातक को आँख संबंधी समस्या का योग, पिता को कष्ट और पितृ दोष की स्थिति बनती है। इसलिए जन्म कुंडली में सूर्य से संबंधित किसी भी परेशानी के समाधान के लिए ज्योतिष विशेषज्ञ सूर्य ग्रह से जुड़े विभिन्न उपाय अपनाने की सलाह देते है। सूर्य के गोचर के दौरान जातक को कैसा फल प्राप्त होगा, यह केवल और केवल इस बात पर निर्भर करता है कि उस गोचर के दौरान सूर्य एक कुंडली या राशि से किस भाव में संचरण कर रहा है। क्योंकि सभी 12 भावों में सूर्य के गोचर का परिणाम अलग-अलग होता है।

जानें विभिन्न भावों में सूर्य का प्रभाव: ज्योतिष में सूर्य ग्रह

गोचर काल का समय

अब यही संसार की आत्मा, यानी सूर्य देव 17 अगस्त 2019, शनिवार को दोपहर 12:47 बजे कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश करने जा रहे है। जो यहाँ 17 सितंबर 2019, मंगलवार 12:43 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। चूंकि सूर्य को सिंह राशि का स्वामित्व प्राप्त है अतः सूर्य के प्रभाव से सिंह राशि के जातकों को लाभ मिलने की संभावना है। इसके अलावा सूर्य के इस संचरण से बाकी सभी राशियाँ भी ख़ासा प्रभावित होंगी। आईये इस भविष्यफल के माध्यम से जानते हैं समस्त 12 राशियों पर सूर्य के सिंह राशि में होने वाले गोचर का क्या प्रभाव पड़ने वाला है।

Click here to read in English...

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैल्कुलेटर

मेष राशि

सूर्य के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से पांचवें भाव में विराजमान होंगें। गोचर की ये अवधि आपके लिए कार्यक्षेत्र में तरक्की ला सकती है। इस दौरान नौकरी की तलाश करने वाले लोगों को विशेष रूप से नयी नौकरी मिल सकती है। कार्यक्षेत्र में आपको अपने सहयोगियों का भरपूर सहयोग मिलेगा और आप अपनी मंज़िल को पाने में कामयाब रहेंगे। वहीं दूसरी तरफ यदि आप किसी व्यवसाय से जुड़े हैं तो इस दौरान आपके व्यापार में वृद्धि होगी और शुभ फल की प्राप्ति होगी। सूर्य के नकारात्मक प्रभाव से इस दौरान आपके स्वभाव में कुछ परिवर्तन आ सकते हैं, आपमें अनावश्यक जिद्द या क्रोध आ सकता है। यदि आप प्रेम में हैं तो इस गोचर काल की अवधि में आपका प्रेम जीवन सामान्य रहेगा। लिहाजा इस दौरान इस बात का विशेष ख्याल रखें की अपने पार्टनर के साथ मतभेद की स्थिति ना उत्पन्न होने दें। वैवाहिक जीवन में भी आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन आपसी तालमेल बनाए रखने की वजह से आप इस स्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। गोचर की इस अवधि के दौरान आपको सरकारी स्तर पर लाभ मिलने के भरपूर योग नजर आ रहे हैं। कुल-मिलाकर देखा जाए तो मेष राशि के जातकों के लिए सूर्य का ये गोचर फलदायी साबित होगा।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए उगते हुए सूर्य को अपनी नग्न आँखों से देखें और जल का अर्घ्य दें।

वृषभ राशि

इस गोचर के दौरान सूर्य आपकी राशि से चौथे भाव में स्थापित होंगें। इस गोचर का नकारात्मक प्रभाव आपके पारिवारिक जीवन पर पड़ सकता है। गोचर की इस अवधि के दौरान आपके परिवार का माहौल थोड़ा अशांत रह सकता है। इसके अलावा परिवार के सदस्यों के बीच किसी बात को लेकर मतभेद की स्थिति बन सकती है। हालाँकि इस दौरान आपकी माता जी की सेहत में काफी सुधार देखने को मिलेगा जिससे मन को थोड़ी शांति मिलेगी। बात करें कार्यक्षेत्र की तो, सूर्य के गोचर की ये अवधि आपके कार्यक्षेत्र के लिए विशेष रूप से फलदायी सिद्ध होने वाली है। इस दौरान कार्यस्थल पर आपकी पदोन्नति हो सकती है और आपके काम के लिए बॉस से सराहना भी मिल सकती है। इसी प्रकार से वैवहिक जीवन में भी इस दौरान स्थितियाँ सामान्य रहने वाली है, आपके जीवनसाथी को भी कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलेगी जिससे मन प्रफुल्लित रहेगा। वृषभ राशि के जातकों के लिए ये गोचर मध्यम फलदायी साबित होगा।

उपायः सूर्य के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए रविवार को नारियल एवं लाल फल की पूजा करें।

मिथुन राशि

सूर्य के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से तीसरे भाव में स्थित होंगें। इस गोचर के फलस्वरूप आपके काम करने की क्षमता में वृद्धि होगी और आप हर परिस्थिति का मुक़ाबला करने के लिए खुद को पूरी तरह से सक्षम पाएंगे। गोचर की इस अवधि के दौरान विशेष सफलता प्राप्त करने के लिए आपको कठिन मेहनत करने की आवश्यकता होगी। इस दौरान जहाँ एक तरफ आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी वहीं दूसरी तरफ आप दृढ़ निश्चयी भी बनेंगे। इस गोचर काल के दौरान आप कहीं आस पास छोटी दूरी की यात्रा पर भी जा सकते हैं, आपके लिए ये यात्रा कई मायनों में फलदायी साबित होगी। जहाँ तक पारिवारिक जीवन की बात है तो इस गोचर की अवधि में पैतृक संपत्ति को लेकर भाई बहनों के साथ मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है, जिससे परिवार में अशांति का वातावरण रहेगा। परिवार में सुख शांति बनाए रखने के लिए मतभेद की स्थिति से बचकर रहें। जहाँ तक वैवाहिक जीवन का सवाल है तो, इस गोचर के दौरान आपको अपने जीवनसाथी का हर क्षेत्र में साथ मिलेगा। लिहाजा मिथुन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि फलदायी सिद्ध होगी।

उपायः विशेष लाभ के लिए रविवार के दिन लाल कपड़े दान करें।

कर्क राशि

इस दौरान सूर्य आपकी राशि से दूसरे भाव में विराजमान होंगें। सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके स्वभाव में विशेष रूप से परिवर्तन देखने को मिल सकता है। गोचर की इस अवधि में आपके क्रोध में इज़ाफा होगा और आपमें अहंकार भी देखने को मिल सकता है। लिहाजा इस गोचरकाल में आपको खासतौर से अपनी भाषा शैली पर संयम बरतने की आवश्यकता होगी। इस दौरान बातचीत के दौरान किसी के साथ भी कठोर शब्दों का प्रयोग ना करें। यदि आप शादीशुदा हैं तो इस दौरान आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य में गिरावट देखी जा सकती है। विवाहित जोड़े को इस समय विशेष रूप से अपने साथी की सेहत का ख्याल रखना होगा। पारिवारिक स्तर पर देखें तो सूर्य के इस गोचर के दौरान, परिवार के किसी सदस्य के साथ आपका वैचारिक मतभेद हो सकता है। बहरहाल गोचर काल की ये अवधि पारिवारिक रूप से आपके लिए तनावपूर्ण रहेगी। आर्थिक दृष्टिकोण से सूर्य का ये गोचर आपके लिए फलदायी साबित हो सकता है। इस दौरान आपको किसी अनजान स्रोत से आर्थिक लाभ मिल सकता है। इसके साथ ही इस गोचर काल में आप पैसों की बचत करने में भी सफल रहेंगे जिससे आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। यदि आप सरकारी पेशे से जुड़े हैं तो इस समय आपको खासतौर से अपने उच्च अधिकारियों का सहयोग मिलेगा। इस दौरान संभवतः आपका तबादला आपके पसंदीदा जगह पर भी हो सकता है। बहरहाल कर्क राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि सामान्य फलदायी साबित होने वाली है।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए भगवान शिव की आराधना करें और उन्हें खस का इत्र चढ़ाएँ।

सिंह राशि

चूँकि सूर्य का गोचर आपकी ही राशि में हो रहा है लिहाजा ये आपकी राशि से प्रथम भाव में या लग्न भाव में स्थित होंगें। सूर्य का ये गोचर आपके लिए विशेष रूप से फलदायी साबित होगा। सबसे पहले बात करें सामाजिक जीवन की तो, सामाजिक स्तर पर आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी और आप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र होंगें। इस गोचरकाल की अवधि में आपका स्वास्थ्य भी आपका भरपूर साथ देगा और आप खुद को बेहद ऊर्जावान महसूस करेंगे। इस दौरान आप अपने व्यक्तित्व में एक ख़ास निखार का अनुभव करेंगे। हालाँकि इस दौरान आपके अंदर एक विशेष प्रकार का जोश तो जरूर नजर आएगा लेकिन आपको अपनी भाषा में संयम बनाए रखने की आवश्यकता होगी। इस दौरान आपके मुख से निकली कोई कड़वी बात आपके करीबी को चोट पहुंचा सकती है। इसलिए वाणी पर संयम बरतना सिंह राशि के जातकों के लिए इस दौरान विशेष रूप से आवश्यक है। यदि आप विवाहित हैं तो इस दौरान आप अपने जीवनसाथी के साथ रोमांटिक डिनर पर जा सकते हैं और विवाहित जीवन का आनंद उठा सकते हैं।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए तांबे के बर्तन से सूर्य देव को जल का अर्घ्य दें।

कन्या राशि

इस दौरान सूर्य आपकी राशि से बारहवें भाव में विराजमान होगा। सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके विदेश जाने की इच्छा पूरी हो सकती है। इसके साथ ही कार्यक्षेत्र की बात करें तो इस दौरान आप अपनी नौकरी में परिवर्तन कर सकते हैं। हालाँकि कोई भी फैसला लेने से पहले एक बार विचार ज़रूर कर लें। इसके अलावा सूर्य के गोचर के समय आप किसी हिल स्टेशन पर घूमने जाने की योजना बना सकते हैं। आर्थिक रूप से देखें तो इस गोचर के दौरान आपके ख़र्चों में वृद्धि हो सकती है, लिहाजा इस दौरान आपको विशेष रूप से उन चीजों पर ही खर्च करना चाहिए जिसकी आपकी जरुरत हो। पैसों का बचत ना करने से आप आने वाले दिनों में आर्थिक तंगी के शिकार हो सकते हैं। इस गोचर काल के दौरान कन्या राशि के जातकों को शत्रु पक्ष पर विजय प्राप्त होगी। इसके साथ ही यदि आपका कोई कोर्ट कचहरी का मामला चल रहा है तो फैसला यक़ीनन आपके पक्ष में आने की उम्मीद है। निजी तौर पर इस अवधि में आपको अपने गुस्से पर नियंत्रण रखना चाहिए और वाद विवाद की स्थिति से दूर रहना चाहिए। कुलमिलाकर देखा जाए तो कन्या राशि के जातकों के लिए ये गोचर मध्यम फलदायी साबित होगा।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए ‘’ॐ आदित्याय विदमहे भास्कराय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयात्!!’’ मंत्र का जाप करें।

तुला राशि

सूर्य के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में स्थित होंगें। गोचर की ये अवधि आपके लिए विशेष रूप से लाभकारी साबित हो सकती है। इस दौरान आपकी सरकारी क्षेत्र में कार्यरत लोगों से ख़ासा लाभ मिलने की संभावना बन रही है। उनके साथ आपके अच्छे संबंध स्थापित हो सकते हैं, लिहाजा इस समय लोगों के साथ घुलने-मिलने में भी आपको अपना समय देना चाहिये। इस गोचर काल के दौरान समाज में आपके मान सम्मान में भी वृद्धि होगी और आप ज्यादा से ज्यादा लोगों के संपर्क में आएँगे। तुला राशि के जातकों के प्रेम जीवन की बात करें तो आपके लिए ये अवधि थोड़ी चिंताजनक बीत सकती है। गोचर की इस अवधि में आपके पार्टनर के साथ विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। इस दौरान आपको विशेष सलाह दी जाती है कि अपने पार्टनर के साथ किसी भी बात को लेकर मतभेद की स्थिति ना उत्पन्न होने दें। अब अगर पारिवारिक जीवन की बात करें तो, इस गोचर काल के दौरान आप अपने बच्चों की सेहत को लेकर परेशान रह सकते हैं। बहरहाल सूर्य के इस गोचर के दौरान उनकी सेहत का विशेष ध्यान रखें। इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपको अपने उच्च अधिकारियों का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा और आपके काम की सराहना होगी। जहाँ तक वैवाहिक जीवन की बात है तो गोचर की इस अवधि के दौरान आपके जीवनसाथी को कार्यक्षेत्र में तरक्की मिल सकती है या जॉब की तलाश में हैं तो इस दौरान नई नौकरी भी मिल सकती है।

उपायः सूर्य के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए आदित्य हृदय स्तोत्र का जप करें।

वृश्चिक राशि

इस गोचर के दौरान सूर्य आपकी राशि से दसवें भाव में विराजमान होगा। इस दौरान आपके लिए विशेष रूप से कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलने की अच्छी संभावना नजर आ रही है। इस गोचर काल के दौरान आपको कार्यक्षेत्र में विशेष रूप से पदोन्नति भी मिल सकती है। इसके साथ ही इस अवधि में आपको अपने काम में ख़ासा आनंद की अनुभूति होगी और कार्यक्षेत्र में आपके काम की सराहना होगी। हालाँकि इस दौरान काम की अधिकता होने की वजह से आपको निजी जीवन में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बहरहाल परिवार के सदस्य आपको इस बात के लिए ताने दे सकते हैं कि आप उनके साथ पर्याप्त समय नहीं गुजार पाते। गोचर की ये अवधि आपकी माता जी की सेहत में गिरावट ला सकता है, लिहाजा इस अवधि में उनकी सेहत का विशेष रूप से ख्याल रखने की जरुरत होगी। इसके साथ ही अगर वैवाहिक जीवन की बात करें तो आपके लिए ये अवधि खासतौर से सामान्य रहने वाली है। वृश्चिक राशि के जातकों के लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि निम्न फलदायी साबित होने वाली है।

उपायः विशेष लाभ के लिए इस मंत्र का जाप करें: ॐ ग्रिणिः सूर्याय नमः!!

धनु राशि

इस गोचर अवधि में सूर्य आपकी राशि से नवम भाव में स्थित होंगें। सूर्य का ये गोचर धनु राशि के जातकों के लिए सामाजिक रूप से काफी लाभदायक साबित होने वाला है। लिहाजा गोचर की इस अवधि में समाज में आपकी छवि काफी अच्छी बनेगी और आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी। इसके साथ ही इस दौरान समाज के कुछ बेहद प्रभावशाली लोगों के संपर्क में भी आने का अवसर आपको मिल सकता है। इस गोचर काल के दौरान धार्मिक अनुष्ठानों में आपकी रुचि ज्यादा होगी और आप दान पुण्य जैसे धार्मिक कार्यों में ज्यादा समय व्यतीत करेंगे। गोचर की इस अवधि के दौरान संभावना है कि आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं। आपके भविष्य के लिए ये यात्रा लाभकारी साबित हो सकती है। पारिवारिक स्तर पर आपके लिए ये गोचर चुनौतीपूर्ण साबित हो सकती है। इस दौरान पिता की सेहत बिगड़ने की वजह से मन अशांत रहेगा और परिवार में भाई बहनों के साथ किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है। हालाँकि कार्यक्षेत्र की बात करें तो यहाँ भाग्य का आपको पूरा साथ मिलेगा। धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि मध्यम फलदायी साबित होगी।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए रविवार के दिन उत्तम कोटि का रूबी रत्न पहनें।

मकर राशि

सूर्य के सिंह राशि में गोचर के दौरान ये आपकी राशि से आठवें भाव में स्थित होंगें। गोचर की इस अवधि के दौरान आपके स्वास्थ्य में विशेष रूप से कुछ गिरावट आ सकती है। लिहाजा इस दौरान आपको अपनी सेहत का विशेष ख़्याल रखने की आवश्यकता होगी। इस गोचरकाल के दौरान आप किसी दुर्घटना के शिकार हो सकते हैं, इसलिए इस समय आपको ख़ास सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है। आर्थिक रूप से देखें तो सूर्य का ये गोचर आपके लिए जहां एक तरफ धन लाभ लेकर आएगा वहीं दूसरी तरफ आपको धन हानि भी हो सकती है। आपको विशेष रूप से सलाह दी जाती है कि इस समय पैसों को लेकर सावधानी बरतें और अपने ख़र्चों पर काबू रखें। यदि आप शादीशुदा हैं तो गोचर की अवधि में आपके जीवनसाथी के सामने आपका कोई ऐसा राज सामने आ सकता है जिसे आप लंबे समय से छुपाने का प्रयास कर रहे थे। इस दौरान विशेष रूप से ऐसे कामों में संलग्न ना हो जिससे आपकी छवि खराब होती हो। सूर्य का ये गोचर मकर राशि के जातकों के लिए सामान्य रहेगा।

उपायः सूर्य गोचर के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए विशेष रूप से रविवार के दिन गेहूँ का दान करें।

कुंभ राशि

इस गोचर के दौरान सूर्य आपकी राशि से सातवें भाव में विराजमान होगा। बहरहाल आपकी राशि में सूर्य की ये स्थिति आपके वैवाहिक जीवन के लिए मुसीबत पैदा कर सकती है। इस दौरान जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर आपका मतभेद हो सकता है। वैवाहिक जीवन में सुख शांति बनाए रखने के लिए विशेष रूप से जीवनसाथी के साथ उत्पन्न होने वाली विवाद की स्थिति से बचें और किसी भी मामले को प्यार से सुलझाने की कोशिश करें। स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो इस दौरान आप अपनी सेहत को लेकर परेशान हो सकते हैं। बेहतर स्वास्थ्य लाभ के लिए गोचर की इस अवधि के दौरान आपको अपना खान पान अच्छा रखने के साथ ही एक हेल्दी रूटीन भी अपनाना चाहिए। कार्यक्षेत्र की बात करें तो आपके लिए सूर्य के गोचर का ये समय विशेष रूप से लाभदायक साबित होगा। इस दौरान आपकी पदोन्नति के साथ ही आय में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। यदि आप काफी वक़्त से नौकरी बदलने की सोच रहें हैं तो आपके लिए सूर्य के गोचर की ये अवधि विशेष रूप से सहायक साबित हो सकती है। वहीं दूसरी तरफ यदि आप किसी व्यापार से जुड़े हैं तो इस दौरान आपको अपने बिज़नेस पार्टनर के साथ से विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है। कुंभ राशि के जातकों के लिए भी ये अवधि ख़ासा लाभदायक साबित हो सकती है।

उपायः सूर्य के हानिकारक प्रभाव से बचने के लिए ब्राह्मणों को गुड़ दान में दें।

मीन राशि

इस दौरान सूर्य आपकी राशि से छठे भाव में विराजमान होंगें। इस गोचर काल में आप अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में सफल रहेंगे। सूर्य के इस गोचर का नकारात्मक प्रभाव आपके वैवाहिक जीवन पर देखा जा सकता है। इस दौरान आप अपने जीवनसाथी के व्यवहार में थोड़ी आक्रामकता देख सकते हैं। बात करें आर्थिक जीवन की तो, आपको इस दौरान विशेष रूप से अपने ख़र्चों पर काबू रखने की आवश्यकता है। हालाँकि आपको धन लाभ तो ज़रूर होगा बावजूद इसके अगर आपने अभी से सूझ-बूझ से काम ना लिया तो आप आर्थिक तंगी के शिकार भी हो सकते हैं। यदि आपका कोर्ट कचहरी का कोई मामला चल रहा है तो संभव है कि इस दौरान फैसला आपके पक्ष में आये। मीन राशि के छात्रों के लिए गोचर की ये अवधि विशेष रूप से लाभदायक साबित होने वाली है। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को इस दौरान विशेष रूप से अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। यदि स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो सूर्य के गोचर की ये अवधि आपके लिए शारीरिक पीड़ा का कारण भी बन सकती है। इस गोचर काल में आप बुखार या सिरदर्द की समस्या से ग्रस्त हो सकते हैं। लिहाजा मीन राशि के जातकों के लिए गोचर की ये अवधि समान्य फलदायी साबित हो सकती है।

उपायः विशेष लाभ प्राप्ति के लिए रविवार के दिन बैल को गेहूँ व गुड़ खिलाएँ।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।