• Navratri Sale Banner
  • AstroSage Brihat Horoscope
  • Ask A Question
  • Raj Yoga Reort
  • Career Guidance

सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर- 17 नवंबर 2019

जगत की आत्मा कहा जाने वाले सूर्य ग्रह सभी जीवधारियों को ऊष्मा तथा जीवन प्रदान करते हैं, इसलिए इन्हें प्रत्यक्ष देव भी कहा जाता है। ये हमारे जीवन में हमारे पिता, सरकार तथा सरकारी क्षेत्र, समाज के उच्च गणमान्य व्यक्ति तथा हमारे पूर्वजों का कारक माने जाते हैं। सिंह इनकी राशि है तो वहीं कृतिका, उत्तराफाल्गुनी और उत्तराषाढ़ा नक्षत्रों पर यह आधिपत्य रखते हैं। सूर्य को काल पुरुष की आत्मा माना गया है। इसे पूर्व दिशा का स्वामी तथा लाल रंग का द्योतक माना जाता रहा है वहीं इसे पुरुष ग्रह भी माना गया है।

Surya ka Tula rashi mei gochar 2018

सूर्य का प्रभाव

कुंडली के तीसरे, छठे, दसवें और ग्यारहवें भाव में सूर्य की उपस्थिति अनुकूलता प्रदान करती है तथा दशम भाव में स्थित सूर्य विशेष रुप से बली माना जाता है। चंद्र, मंगल और बृहस्पति इनके मित्र ग्रह माने जाते हैं। सूर्य मानव शरीर में हड्डियों पर अधिकार रखता है तथा पित्तकारक होता है। यह मनुष्य को आत्मबल देता है और इसे आरोग्य का कारक भी माना जाता है। यह अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। चंद्र, मंगल और बृहस्पति सूर्य के मित्र माने जाते हैं। बुध ग्रह सूर्य के लिए सम है तथा शुक्र और शनि को सूर्य का शत्रु माना जाता है।

सूर्य यंत्र से कुंडली में सूर्य देव को बनाए मजबूत

सूर्य की आपकी कुंडली में स्थिति

सूर्य ग्रह आपकी कुंडली में यदि अच्छी अवस्था में है तो जीवन में आपको उपलब्धियाँ प्राप्त होती हैं। जीवन के हर क्षेत्र में आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं। पिता का आपको सहयोग मिलता है और सरकारी नौकरी मिलने के योग बनते हैं। वहीं अगर जन्म कुंडली में सूर्य की स्थिति सही नहीं है तो जातक को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अगर आपकी कुंडली में भी सूर्य कमजोर है तो आपको इसके लिए सूर्य ग्रह की शांति के उपाय करने चाहिए।

सूर्य गोचर का समय

सूर्य 17 नवंबर 2019, रविवार 00:30 बजे तुला राशि से निकलकर वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा और 16 दिसंबर 2019, सोमवार दोपहर 15:10 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। सूर्य के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों पर होगा। आईये इस राशिफल के माध्यम से विस्तार पूर्वक जानते हैं कि इस गोचर का सभी राशियों पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है।

यह भविष्यफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैलकुलेटर

Click here to read in English...

मेष

सूर्य ग्रह का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव में होगा। अष्टम भाव में सूर्य के गोचर से आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां आ सकती हैं। आपको इस दौरान सर्दी जुकाम जैसी छोटी-मोटी बीमारियाँ हो सकती हैं। सामाजिक स्तर पर आपको इस दौरान सोच समझकर चलना होगा किसी भी तरह के गलत काम में आपका लिप्त होना सामाजिक स्तर पर आपके मान-सम्मान को गिरा सकता है। इस अवधि में आपके विरोधी आपको किसी तरह की हानि पहुंचा सकते हैं। पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो सूर्य के इस गोचर से आपके बच्चों और जीवनसाथी को अच्छे परिणाम मिलेंगे। घर के अच्छे वातावरण को देखकर आपकी भी कई उलझनें दूर हो जाएंगी। इस दौरान आपकी मुलाकात अपने पुराने मित्रों से भी हो सकती है। आर्थिक पक्ष की बात की जाए तो जुंआ या सट्टेबाज़ी की लत से आपको इस समय धन हानि हो सकती है इसलिए इन बुरी आदतों से दूर रहें। आपके द्वारा जो राज छुपाए गए हैं इस दौरान वो आपके घर वालों के सामने आ सकते हैं। कुल मिलाकर देखा जाए तो सूर्य के इस गोचर के दौरान आपको बहुत सोच समझकर चलना होगा और गलत संगति से बचना होगा।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें।

वृषभ

सूर्य देव का गोचर आपकी राशि से सप्तम भाव में होगा। इस भाव को विवाह भाव भी कहा जाता है और इससे जीवन में होने वाली साझेदारियों के बारे में पता चलता है। इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपको वैवाहिक जीवन में संभलकर चलना होगा, इस गोचर के असर से जीवनसाथी के साथ आपके झगड़े हो सकते हैं लेकिन झगड़ों के बावजूद भी आपको उनके स्वास्थ्य की चिंता सताती रहेगी। अगर आप उनके स्वास्थ्य में सुधार देखना चाहते हैं तो आपको अपने गुस्से पर काबू रखना होगा और उनके साथ प्रेम पूर्वक व्यवहार करना होगा। वहीं आपके करियर के लिए यह गोचर अच्छा रहने वाला है आपके करियर में इस दौरान ग्रोथ देखने को मिल सकती है। आपको अपने कार्यक्षेत्र में इस गोचर के प्रभाव से पदोन्नति मिलने के भी आसार हैं। अगर आपके बच्चे हैं तो उनकी सेहत का इस समय विशेष ख्याल रखें। हालांकि आपकी माता का स्वास्थ्य इस दौरान बहुत अच्छा रहेगा जिससे आपको खुशी होगी। इस समय आपको धैर्य और संयम के साथ हर काम करने की जरुरत है। छात्रों को भी शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए मेहनत करने की जरुरत है।

उपाय: रविवार को गुड़ दान करें।

मिथुन

सूर्य देव आपकी राशि से षष्ठम भाव में गोचर करेंगे। इस भाव से हम आपके शत्रु पक्ष के बारे में विचार करते हैं। सूर्य का यह गोचर आपके लिए शुभ फलदायी रहेगा। आपने अपने अतीत में जो कड़ी मेहनत की है उसका अच्छा फल इस समय आपको मिल सकता है। आपका आभामंडल इस समय ऐसा रहेगा कि आपके विरोधी भी आपके सामने आने में कतराएंगे। स्वास्थ्य की बात की जाए तो सर्दी-जुकाम जैसी छोटी-मोटी बीमारियों के अलावा आपको और कोई परेशानी नहीं आएगी। आर्थिक पक्ष इस समय मजबूत रहेगा जिससे पारिवारिक जीवन भी सुचारु रुप से चलता रहेगा। सूर्य के गोचर के दौरान आपको सरकारी नीतियों से लाभ प्राप्त हो सकता है। सामाजिक स्तर पर भी आपका प्रदर्शन अच्छा रहेगा और लोगों की नज़र में आप अपनी अलग पहचान बना पाएंगे। जो कारोबारी लंबे समय से कारोबार में कुछ नये परिवर्तन करने के बारे में सोच रहे थे इस समय वो उन परिवर्तनों को लागू कर सकते हैं।

उपाय: आदित्य हृदय स्तोत्रम का जाप करें।

कर्क

सूर्य का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में होने जा रहा है। इस भाव को संतान भाव भी कहते हैं और इससे आपकी विद्या, ज्ञान और संतान के बारे में विचार किया जाता है। आपके आर्थिक पक्ष के लिहाज से यह गोचर अच्छा रहेगा। अगर आपने किसी को उधार दिया था तो इस वक्त आपको वापस मिल सकता है। प्रेम जीवन में आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है किसी तीसरे शख्स की वजह से आपके और आपके प्रेमी के बीच मनमुटाव हो सकता है। वैवाहिक जीवन की बात करें तो सूर्य के गोचर के चलते आपके जीवनसाथी को लाभ प्राप्त हो सकता है। हालांकि आप दोनों के बीच किसी बात को लेकर मनमुटाव होने की भी संभावना है। अगर आप चाहते हैं कि जीवन की गाड़ी सुचारु रुप से चलती रहे तो अपने साथी के साथ बातचीत करके समस्याओं का हल निकालें। बच्चों के स्वास्थ्य का भी आपको ख्याल रखना होगा। इस दौरान आपमें अहम भाव की अधिकता देखी जा सकती है। शिक्षार्थियों की बात की जाए तो यह गोचर आपको बहुत अच्छे फल दिलाएगा। आपका मन पढ़ाई में तो लगेगा ही साथ ही आप अपने पाठ्यक्रम से हटकर कुछ ज्ञानवर्धक पुस्तकों का भी अध्ययन कर सकते हैं।

उपाय: ग़रीबों में दवाइयाँ बाटें।

सिंह

सूर्य देव आपकी राशि से चतुर्थ भाव में संचरण करेंगे। इस भाव को सुख भाव भी कहा जाता है। सूर्य का यह गोचर आपके लिए अच्छा रहने वाला है। सरकारी जॉब करने वाले लोगों को इस दौरान कार्यक्षेत्र में प्रमोशन के साथ-साथ घर गाड़ी जैसी सुविधाएँ भी मिल सकती हैं। यह गोचर सिर्फ आपके लिए ही नहीं बल्कि आपके जीवनसाथी के लिए भी अच्छा रहने वाला है इस अवधि में उनको उनके कार्यक्षेत्र में उच्च लाभ की प्राप्ति होगी। सामाजिक जीवन की बात की जाए तो सूर्य देव की ही तरह इस समय आपकी बातों में भी तेज देखा जा सकता है और आप अपनी तार्किक बातों से सबका मन मोह सकते हैं। आपके दोस्त इस समय आपसे सलाह लेते नज़र आएँगे। आप अपने द्वारा अतीत में किये गये कुछ कामों की वजह से परेशान हो सकते हैं लेकिन जल्द ही आप इस स्थिति से निकल जाएंगे, और उन ग़लतियों को नहीं दोहराएँगे। पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो मां की खराब तबियत आपकी परेशानी का कारण बन सकती है। सूर्य के इस गोचर के दौरान इस राशि के कुछ जातक नया वाहन या नयी प्रोपर्टी खरीदने का विचार बना सकते हैं। कुल मिलाकर देखा जाए तो यह गोचर आपको अच्छे फल देगा।

उपाय: रोज़ाना सूर्य नमस्कार करें।

कन्या

जगत की आत्मा कहे जाने वाले सूर्य देव का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में होगा। इस भाव से आपके साहस, पराक्रम आदि के बारे में विचार किया जाता है। इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपके साहस में कुछ कमी आ सकती है। जिन कामों को आप बड़ी आसानी से कर लेते हैं उन्हें करने में भी आपको इस समय दिक्कतें आ सकती हैं। हालांकि अपने लक्ष्य के प्रति आप आगे बढ़ते जाएंगे। आपके विरोधी आपको नीचा दिखाने के लिए साज़िश कर सकते हैं लेकिन उनको इसमें सफलता नहीं मिलेगी। आर्थिक पक्ष की बात की जाए तो यह समय आपके अनुकूल है। धन को संचित करने के लिए बीते समय में जो आपने ज़रुरी फैसले लिए थे उनका लाभ आपको अब प्राप्त होगा। इस समय आपकी धार्मिक भावनाएं भी उभरकर सामने आ सकती हैं और आप अपने घर में कोई धार्मिक कार्य करवा सकते हैं। वहीं नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को इस समयावधि में काम के सिलसिले में यात्राएं करनी पड़ सकती हैं। इस समय में आपकी मुलाकात समाज के कुछ प्रतिष्ठित लोगों से हो सकती है। छात्रों को समय का सदुपयोग करना सीखना होगा। घर वालों और दोस्तों को समय दें लेकिन इतना नहीं कि आपकी पढ़ाई में कमी आ जाए।

उपाय: ज़रूरतमंदों को रविवार के दिन गेहूं दान करें।

तुला

सूर्य ग्रह आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेंगे। कुंडली के दूसरे भाव से हम आपकी वाणी और धन के बारे में विचार करते हैं। सूर्य के इस गोचर के दौरान आपकी वाणी में कठोरता देखने को मिल सकती है, जिस वजह से परिवार में भी वाद-विवाद हो सकता है। अगर आप चाहते हैं कि घर का माहौल अच्छा बना रहे तो बेवजह की बहस करने से बचें। सामाजिक जीवन में आपको अपनी संगति सुधारनी होगी क्योंकि इस समय गलत विचार वाले लोगों से आपका सामना हो सकता है। हालांकि पहली नजर में यह लोग आपको भले लगेंगे लेकिन जब आप इनसे घुलने-मिलने लग जाएंगे तो आपको हकीक़त का पता चलेगा। इसलिए इस दौरान संभलकर रहें। आर्थिक पक्ष को मजबूत करने में आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन इन परेशानियों से लड़कर आप अच्छी रकम कमाने में कामयाब होंगे। इस राशि के कारोबारियों को कोई भी बड़ा कदम उठाने से पहले अपने विश्वासपात्र लोगों को अपने साथ रखना चाहिए। स्वास्थ्य में कमी देखी जा सकती है, जीवन में चल रही परेशानियां मानसिक तनाव का कारण बन सकती हैं। अगर आप खुद को मानसिक रुप से स्वस्थ रखना चाहते हैं तो प्राणायाम का सहारा लें।

उपाय: रविवार को लाल फूल और लाल कपड़ा दान करें।


वृश्चिक

सूर्य ग्रह का गोचर आपकी ही राशि यानि आपके लग्न भाव में होगा। कुंडली के पहले भाव से हम आपके स्वास्थ्य, स्वभाव और आत्मा के बारे में विचार करते हैं। इस गोचर के दौरान आपकी एकाग्रता प्रबल रहेगी। आप जिस काम को हाथ में ले लेंगे उसे पूरा करने के बाद ही आगे बढ़ेंगे। काम के प्रति आपकी लगन को देखकर लोग आपसे प्रभावित होंगे। इस गोचर के समय आपके स्वभाव में घमंड और गुस्से की अधिकता देखी जा सकती है। पारिवारिक जीवन में इस वक्त बहुत सावधानी से चलना होगा। अगर आप अपने गुस्से पर काबू नहीं रखेंगे तो परिवार से अलगाव की स्थिति बन सकती है। आप इस दौरान अपने साथी की बातों को सुनने से ज्यादा अपनी बातों को मनवाने की कोशिश करेंगे जिसकी वजह से आपके वैवाहिक जीवन में भी टकराव बढ़ सकते हैं। अगर आप स्थितियों को सुधारना चाहते हैं तो आपको अपने मन को शांत रखना होगा। इस अवधि में आप अनचाही यात्राओं पर जा सकते हैं और इन यात्राओं के कारण आपके स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। स्वास्थ्य को दुरुस्त करना चाहते हैं तो अपने खान-पान का विशेष ध्यान दें। आपका कोई क़रीबी इस अवधि में आपसे उधार मांग सकता है।

उपाय: सूर्य देव की पूजा करें और उन्हें जल चढ़ाएं।

धनु

सूर्य ग्रह आपकी राशि से द्वादश भाव में संचरण करेगा। इस भाव को व्यय भाव भी कहा जाता है। इस गोचर के दौरान आपको अपनी सेहत पर दोगुना ध्यान देने की जरुरत है क्योंकि बुख़ार, अनिद्रा और पेट दर्द जैसी समस्याएं इस समय आपको परेशान कर सकती हैं। इनसे बचने के लिए आपको शारीरिक रुप से सक्रिय रहने की जरुरत है। इस राशि के जो जातक विदेश जाने का ख़्वाब सज़ाएँ बैठे थे उन्हें इस दौरान विदेश जाने का मौका मिल सकता है। वहीं इस राशि के कारोबारियों को भी विदेशों से इस दौरान मुनाफ़ा हो सकता है। ख़र्चों में वृद्धि के कारण कुछ लोगों की परेशानियां बढ़ सकती हैं। सामाजिक जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं, हो सकता है कि आपके दोस्तों के साथ आपकी कहासुनी हो जाए और रिश्ते बिगड़ जाएं। आपके द्वारा किये गये बुरे काम इस समय लोगों की नज़र में आ सकते हैं जिसकी वजह से आपकी मान हानि हो सकती है। सूर्य के इस गोचर काल में आप तनाव ग्रस्त रह सकते हैं लेकिन आपको संयम और धैर्य बनाए रखना होगा क्योंकि परिस्थितियां आपके पक्ष में अवश्य आएँगी। इस राशि के जो लोग विदेशों में रहते हैं या विदेशी कंपनियों में काम करते हैं उन्हें इस समय कोई अच्छी खबर मिल सकती है।

उपाय: पानी में सिंदूर व लाल फूल डालकर सूर्य देव को अर्पित करें।

मकर

सूर्य देव आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर करेंगे। कुंडली के एकादश भाव को लाभ भाव भी कहा जाता है। इस भाव में सूर्य देव के गोचर के दौरान आपको अप्रत्याशित लाभ मिलने की पूरी संभावना है। कार्यक्षेत्र में आपके काम को इस समय सराहा जाएगा। सीनियर्स के साथ आपकी घनिष्ठता बढ़ेगी और उनके साथ उठना बैठना हो सकता है। अगर आपके दिमाग में कोई नया आईडिया है तो उसे सीधे उच्च अधिकारियों को बताएं नहीं तो कोई और इसका श्रेय ले सकता है। पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो यह समय बहुत अच्छा रहेगा। इस दौरान आपको कोई अच्छी खबर मिल सकती है। माता-पिता के साथ आपके संबंध अच्छे होंगे और उनके सहयोग से आप जीवन के हर क्षेत्र में अच्छा काम करेंगे। हालांकि प्रेम संबंधों में इस समय मनमुटाव की स्थिति बन सकती है। आपका प्रेमी आपके लापरवाह रवैये के कारण आपसे नाराज़ हो सकता है। हालांकि वक्त के साथ आप खुद में सुधार कर लेंगे। इस राशि के शादीशुदा लोगों को जीवन के किसी भी बड़े फैसले को लेने से पहले उसके बारे में अपने जीवनसाथी को ज़रुर अवगत करना चाहिए। छात्रों को समय सारणी बनाकर पढ़ाई करने की जरुरत है और हर विषय पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

उपाय: तांबे के बर्तन से सूर्य देव को जल अर्पित करें।


कुंडली मिलान के लिए क्लिक करें

कुंभ

सूर्य का यह गोचर आपकी राशि से दशम भाव में होगा। इस भाव को कर्म भाव भी कहा जाता है। इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपको कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलेगी और इसके कारण आपके काम में और भी निखार आएगा। सरकारी नौकरी करने वाले इस राशि के जातकों को सरकार की तरफ से घर या वाहन की सुविधा इस दौरान मिल सकती है। इस गोचर से आपका व्यावसायिक जीवन तो अच्छा रहेगा लेकिन पारिवारिक जीवन में आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। किसी बात को लेकर आप घर के लोगों से झगड़ सकते हैं। आपके स्वभाव में घमंड की वृद्धि आपको अपने करीबियों से दूर कर सकती है। इसके अतिरिक्त सामाजिक जीवन में आपके मान-सम्मान में बढ़ौतरी होगी। आप लोगों की मदद करने के लिए इस समय आगे आएँगे। शादीशुदा जिंदगी में ख़ुशियाँ देखना चाहते हैं तो अपने जीवनसाथी को समय दें। जिन लोगों ने हाल ही में नया कारोबार शुरु किया है उन्हें इस समय संभलकर चलना होगा। किसी की भी सलाह पर अमल करने से पहले किसी अनुभवी इंसान से सलाह मशवरा अवश्य करें अगर आप ऐसा नहीं करते तो मुसीबत में पड़ सकते हैं। इस राशि की गृहणियां इस दौरान अपने जीवनसाथी को खुश करने के लिए उन्हें उनकी पसंद का तोहफ़ा दे सकती हैं।

उपाय: केसरिया रंग के कपड़े को रविवार के दिन भगवान विष्णु के मंदिर में दान करें।

मीन

सूर्य ग्रह का गोचर आपकी राशि से नवम भाव में होगा। काल पुरुष की कुंडली में यह भाव धनु राशि का होता है और इससे धर्म, भाग्य आदि के बारे में विचार किया जाता है। इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपको जीवन में संघर्ष करना पड़ेगा। इस दौरान आप जो भी काम करें उसमें अपनी पूरी ऊर्जा लगा दें तभी आपको मनमाफिक फल मिल पाएंगे। पारिवारिक जीवन में आपको अपने पिता की सेहत का इस समय ध्यान रखना होगा। अगर उनको हड्डियों से जुड़ी कोई परेशानी होती है तो तुरंत अच्छे डॉक्टर के पास उन्हें ले जाएं। अगर भाई-बहनों के साथ किसी बात को लेकर आपके मतभेद हैं तो इस समय उनके साथ बैठकर बातचीत के द्वारा हल निकालने की कोशिश करें। नवम भाव धर्म का भाव होता है इसलिए इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपका रुझान धार्मिक कार्यों की तरफ बढ़ेगा। इस राशि के कुछ लोग कार्य के संबंध में लंबी यात्राओं पर जा सकते हैं। स्वास्थ्य जीवन सामान्य रहेगा लेकिन इस राशि के वो जातक जो 40 की उम्र पार कर चुके हैं अपनी सेहत का ख्याल रखें। छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे फल प्राप्त करने हैं तो समाज से कुछ दिनों के लिए दूर होना होगा। कुल मिलाकर देखा जाए तो यह समय आपके लिए चुनौतिपूर्ण रहेगा लेकिन आप यदि निरंतर प्रयास करते रहेंगे तो सफलता आपके कदम जरुर चूमेगी।

उपाय: रविवार को लाल फूल चढ़ाएं।


रत्न, यंत्र समेत समस्त ज्योतिष समाधान के लिए विजिट करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।