• AstroSage Big Horoscope
  • Raj Yoga Reort
  • Kp System Astrologer

विद्यारंभ मुहूर्त 2018

पढ़ें वर्ष 2018 में विद्यारंभ के शुभ मुहूर्त और जानें बच्चों को पहली बार किस शुभ समय और तारीख पर स्कूल में दिलाएँ एडमिशन या घर पर सिखाएँ उन्हें लिखना और पढ़ना।

जानें साल 2018 में विद्यारंभ के मुहूर्त
विद्यारंभ मुहूर्त 2018
दिनांक तिथि वार टिप्पणी
9 फरवरी नवमी शुक्रवार अनुराधा नक्षत्र में (14:34 से 16:55 के बीच)
11 फरवरी एकादशी रविवार मूल नक्षत्र में
18 फरवरी तृतीया रविवार पूर्वा भाद्रपद/उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में
21 फरवरी षष्टी बुधवार अश्विनी नक्षत्र में
25 फरवरी दशमी रविवार मृगशिरा/आर्द्रा नक्षत्र में
4 मार्च तृतीया रविवार 13.38 से पहले हस्ता नक्षत्र में
20 अप्रैल पंचमी शुक्रवार मृगशिरा नक्षत्र में
22 जून दशमी शुक्रवार हस्ता नक्षत्र में
15 जुलाई तृतीया रविवार अश्लेषा नक्षत्र में

विद्यारंभ संस्कार का अर्थ है शिक्षा के अध्ययन की शुरुआत करना। जब शिशु की आयु शिक्षा ग्रहण करने के योग्य हो जाये, तब यह संस्कार किया जाता है। इसमें बच्चे को अक्षर ज्ञान और शिक्षा के प्रारंभिक स्तर से परिचित कराया जाता है। प्राचीन काल में जब बच्चे विद्या के अध्ययन के लिए गुरुकुल जाते थे। तब विद्यारंभ संस्कार को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है हालांकि आधुनिक युग में इसकी प्रासंगिकता कम हो गई है, लेकिन मुंडन, कर्णवेध और अन्नप्राशन संस्कार की तरह यह संस्कार भी अवश्य करना चाहिए।

विद्यारंभ संस्कार का मुहूर्त

जब बच्चे के अंदर शिक्षा ग्रहण करने की चेतना का विकास होने लगता है तब यह संस्कार किया जाता है। सामान्यतः 5 वर्ष की आयु में इस संस्कार को किया जाता है। विद्यारंभ संस्कार शुभ तिथि, नक्षत्र, वार और पवित्र माह में संपन्न करने का विधान है।

  • चैत्र-वैशाख शुक्ल तृतीया, माघ शुक्ल सप्तमी तथा फाल्गुन शुक्ल तृतीया में यह संस्कार विशेष रूप से करना चाहिए।
  • चतुर्दशी, अमावस्या, प्रतिपदा, अष्टमी, सूर्य संक्रांति के दिन विद्यारंभ संस्कार नहीं करना चाहिए।
  • पौष, माघ और फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली अष्टमी तिथि भी निषेध होती हैं।
  • रविवार, सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार विद्यारंभ संस्कार के लिए उत्तम माने गये हैं।
  • अश्विनी, रोहिणी, मृगशिरा, आर्द्रा, पुनर्वसु, पुष्य, आश्लेषा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, मूल, पूर्वाषाढ़ा, उत्तराषाढ़ा, अभिजीत, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती नक्षत्र विद्यारंभ संस्कार के लिए शुभ माने गये हैं।
  • वृषभ, मिथुन, सिंह, कन्या और धनु लग्न विद्यारंभ संस्कार के लिए सबसे उत्तम माने गये हैं।

कैसे करें विद्यारंभ संस्कार

प्राचीन काल में गुरुकुल में बच्चों का विद्यारंभ संस्कार संपन्न कराया जाता था। इस दौरान यज्ञ, हवन और पूजा-पाठ के बीच बच्चों को वेदों का अध्ययन कराया जाता था। हालांकि अब जमाना बदल गया है इसलिए यह संस्कार घर या स्कूलों में किया जाता है।

विद्यारंभ संस्कार में मुख्य रूप निम्न पूजा संपन्न होती है-

  • गणेश पूजा- हर कार्य के निर्विघ्न संपन्न होने के लिए भगवान गणेश की आराधना की जाती है।
  • सरस्वती पूजा- माता सरस्वती को विद्या की देवी कहा गया है इसलिए विद्या की प्राप्ति के लिए देवी सरस्वती के पूजन का विशेष विधान है।
  • लेखनी पूजा- कलम और स्याही के बिना लिखना व शिक्षा प्राप्त करना असंभव है, इसलिए कलम की पूजा की जानी चाहिए।
  • पट्टी पूजन- चूंकि कलम का उपयोग पट्टी या कापी पर किया जाता है इसलिए पट्टी का पूजन किया जाता है।
  • गुरु पूजा- शिक्षा की प्राप्ति शिक्षक और गुरुजन से प्राप्त की जाती है, इसलिए विद्यारंभ संस्कार में गुरु पूजा का विशेष महत्व है। क्योंकि गुरु ही बच्चे को शिक्षा प्रदान करते हैं।
  • अक्षर लेखन पूजा- इस पूजन में गुरु बच्चे से कापी या पट्टी पर अक्षर व गायत्री मंत्र लिखवाते हैं।

विद्यारंभ संस्कार का महत्व

ज्ञान के बिना मनुष्य का जीवन व्यर्थ है इसलिए शिक्षा और अच्छे संस्कार ही जीवन की सबसे बड़ी पूंजी होती है। विद्यारंभ संस्कार धर्म, वेद और स्कूली शिक्षा अर्जित करने का प्रथम चरण कहा जाता है। इस संस्कार में पूजा-अर्चना के बाद ईश्वर से यह कामना की जाती है कि बालक आने वाले समय में बेहतर शिक्षा ग्रहण करे और समाज व कुल का गौरव बढ़ाये।

विद्यारंभ संस्कार के माध्यम से बच्चों में अध्ययन का उत्साह पैदा किया जाता है, साथ ही माता-पिता और शिक्षकों को भी बच्चों की बेहतर शिक्षा के प्रति जागरूक किया जाता है। इसलिए विद्यारंभ संस्कार को हिन्दू धर्म में महत्वपूर्ण संस्कार बताया गया है।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।