• Varta Astrologers
  • Arun
  • Biren
  • Debolina
  • Vinutha

मंगल का कन्या राशि में गोचर (06 सितंबर 2021)

मंगल ग्रह को लाल ग्रह कहा जाता है और नौ ग्रहों में सबसे अधिक पौरुष इस ग्रह में माना जाता है। मंगल को खेती का मुख्य ग्रह भी माना जाता है, रोमन लोगों द्वारा इसे युद्ध के देवता के रूप में भी पूजा जाता था। इस ग्रह की ऊर्जा बहुत तीव्र होती है और यह सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही प्रकार की हो सकती है। मंगल आपको एक भावुक प्रेमी बना सकता है लेकिन साथ ही यह आपको अपनी इंद्रियों का गुलाम भी बनाता है।

मंगल का कन्या राशि में गोचर

एस्ट्रोसेज वार्ता से दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें फोन पर बात

यह आपको बहादुर इंसान बनाने के साथ-साथ हिंसक भी बनाता है। मंगल को भौम नाम से भी जाना जाता है है जिसे भूमि पुत्र कहा जाता है। मंगल ग्रह वक्री गति भी करता है और इस दौरान इसमें क्रोध की अधिकता देखी जा सकती है। मंगल को नेतृत्वकारी ग्रह भी माना जाता है और यह कुंडली के प्रथम भाव पर शासन करता है। कुंडली में मंगल की ग्रह की स्थिति संकेत देती है कि आपकी शारीरिक संरचना कैसी होगी। व्यक्ति दुबला होगा, मोटा होगा या तंदरुस्त होगा, ये सभी कारक मंगल ग्रह से प्रभावित होते हैं। अच्छे सर्जन भी अपनी कुंडली में मंगल की अच्छी स्थिति देख सकते हैं। मंगल को क्रूर ग्रह माना जाता है लेकिन कर्क और सिंह लग्न वालों के लिए यह योगकारक बन जाता है और ऐसे जातकों को समृद्धि और सम्मान देता है। मंगल ग्रह मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी है; यह मेष राशि में आक्रामक औऱ वृश्चिक राशि में संकोची और गुप्त होता है।

कन्या राशि में मंगल का गोचर 6 सितंबर 2021 को सुबह 3:21 बजे से 22 अक्टूबर दोपहर 1:13 बजे तक रहेगा, इसके बाद यह तुला राशि में प्रवेश कर जाएगा।

आइए जानें कि सभी राशियों के लिए यह गोचर कैसा रहेगा।

यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। इसके अलावा व्यक्तिगत भविष्यवाणी जानने के लिए ज्योतिषियों के साथ फ़ोन पर या चैट पर जुड़े

Click here to read in English: Mars Transit in Virgo: 6 September 2021

मेष

मेष राशि के जातकों के लिए मंगल उनके पहले और आठवें घर का स्वामी है और इनके ऋण, शत्रुओं और पेशेवर जीवन के छठे घर में मंगल का गोचर हो रहा है। गोचर के दौरान आप ऊर्जावान और उत्साही रहेंगे और आपके दिमाग में नए-नए विचार आ सकते है। पेशेवर जीवन की बात करें तो आप अपने क्षेत्र में सफलता और लाभदायक परिणाम प्राप्त करेंगे और आप अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने और वांछित परिणाम प्राप्त करने में सक्षम होंगे। आपके वरिष्ठ अधिकारी और सहयोगी आपके काम की सराहना करेंगे, जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा। आप अपने प्रतिद्वंद्वियों पर भी विजय प्राप्त करेंगे और सफलता की नई ऊंचाईयों को प्राप्त करेंगे। आर्थिक रूप से, आप विदेशी स्रोतों से लाभ प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन आपको यह सलाह दी जाती है कि अपना पैसा सावधानी से खर्च करें। आपके नाते-रिश्तों पर नजर डाली जाए तो आप अपने निजी जीवन में कुछ बदलाव देख सकते हैं, आपके पार्टनर या परिचित लोगों के साथ आपके कुछ लड़ाई-झगड़े हो सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता, आपको कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामान करना पड़ सकता है। आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की सालह दी जाती है।

उपाय: हनुमान जी की आराधना करें।

वृषभ

वृषभ राशि वालों के लिए मंगल द्वादश और सप्तम भाव का स्वामी है और वर्तमान में यह आपके पंचंम भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान मंगल आपको अपने संबंधों पर ध्यान देने की ओर आकर्षित करेगा। आपके साथी के प्रति आपका व्यवहार बहुत ही खुला हुआ होगा और साथ ही आप खुलकर उनसे अपनी भावनाएं साझा करेंगे। मंगल के गोचर के चलते आप रिश्ते में अपना प्रभुत्व जमा सकते हैं। आर्थिक रूप से इस गोचर के दौरान आपको किसी भी प्रकार की सट्टेबाजी या जुआ खेलने से बचना चाहिए। इस राशि के पेशेवर लोगों को अपने कार्यस्थल पर टकराव का सामना करना पड़ सकता है, इसके साथ ही कुछ सहकर्मी आपकी पीठ के पीछे आपकी बुराईयां कर सकते हैं। इससे आपको थोड़ी चिढ़ भी महसूस हो सकती है क्योंकि आपको अपने प्रयासों में अनावश्यक रुकावटों का सामना भी करना पड़ सकता है। इस राशि के विवाहित लोगों के जीवनसाथी के साथ संबंध सामान्य रहेंगे। कुछ रिश्तेदार या पड़ोस के लोग आपके रिश्ते को देखकर जलन महसूस कर सकते हैं। प्रेमियों के लिए यह एक अनुकूल अवधि नहीं कही जा सकती क्योंकि रिश्ते में आसानी से गलतफहमी पैदा हो सकती है। आपकी संतान इस दौरान अच्छा प्रदर्शन नहीं करेगी या उनके स्वास्थ्य के कारण आपको थोड़ी चिंता हो सकती है। बच्चों के व्यवहार को देखकर आप व्यथित हो सकते हैं। आपको अपने स्वास्थ्य का अतिरिक्त ध्यान रखना होगा क्योंकि आप पाचन संबंधी स्वास्थ्य परेशानियों या पेट दर्द से पीड़ित हो सकते हैं। इस गोचर के दौरान आपको उचित आहार और जंक फूड से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

उपाय: हनुमान चालीसा का पाठ करें।

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए, मंगल छठे और ग्यारहवें घर का स्वामी है और यह आपके सुख, माता, विलासिता और संपत्ति के चौथे भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आप अत्यधिक आक्रामकर महसूस कर सकते जिसके कारण परिवार के सदस्यों, मित्रों और सहकर्मियों के साथ आपके रिश्ते खराब हो सकते हैं। बच्चों के साथ आपका रिश्ता बहुत बेहतर नहीं होगा लेकिन इस दौरान आपको अपने जीवनसाथी का पूरा सहयोग प्राप्त होगा। आप अपने घरेलू जीवन को सुधारने के लिए कई प्रयास इस दौरान कर सकते हैं। आपकी गतिविधियाँ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आपकी आंतरिक इच्छाओं से संबंधित होंगी और इससे आपके करियर पर प्रभाव पड़ेगा। इस दौरान पेशेवर जीवन में आप कई महत्वपूर्ण बदलाव देख सकते हैं। चौथे घर में मंगल के गोचर के कारण आप अपने लक्ष्य और इच्छाओं को अपने परिवार के सदस्यों की मदद से पूरा करेंगे। आर्थिक जीवन पर नजर डाली जाए तो आप संपत्ति खरीदने या बेचने के बारे में सोच सकते हैं, इस राशि के कुछ जातक घर का नवीनिकरण करने पर भी धन खर्च कर सकते हैं। आपको इस अवधि के दौरान अपने जीवनसाथी का पूरा समर्थन प्राप्त होगा और प्रेम में पड़े इस राशि के जातकों के लिए भी यह अवधि अनुकूल होगी। इस दौरान स्वास्थ्य का आपको ध्यान देना होगा क्योंकि रक्त से संबंधित कोई परेशानी आपको हो सकती है।

उपाय: मंगलवार को मसूर की दाल दान करें।


राजयोग रिपोर्ट से जानें कब खुलेगी आपकी किस्मत और कब आएंगी जीवन में खुशियां

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए, मंगल पांचवें और दसवें भाव का स्वामी है और आपके साहस, भाई-बहनों और छोटी यात्राओं के तृतीय भाव में इसका गोचर होने जा रहा है। मंगल गोचर की यह अवधि आपके लिए अनुकूल साबित होगी और आपको सकारात्मक परिणाम देगी। इस अवधि के दौरान आप साहस और ऊर्जा से भरे रहेंगे और जीवन में आने वाली कठिन परिस्थितियों और चुनौतियों का खुलकर सामना करेंगे। आप इस गोचर के दौरान अपने रचनात्मक पक्ष को ढूंढना चाहेंगे। आर्थिक रूप से यह अवधि आपके लिए अनुकूल रहेगी, अगर आप सोच-समझकर धन खर्च करते हैं तो समय और भी बेहतर हो सकता है। यदि आप निवेश करना चाहते हैं तो किसी जानकार की सलाह अवश्य लें और धन का लेन-देन करते समय सावधान रहें। पेशेवर जीवन की बात की जाए तो किसी काम को लेकर आपको यात्रा करने का मौका मिलेगा। इस राशि के कुछ लोग सट्टेबाजी में भी पैसा लगा सकते हैं, इससे लाभ होने की भी संभावना है, लेकिन आपको ऐसे कामों से दूर ही रहना चाहिए। इस गोचर के दौरान आपको समझदार लोगों से बातचीत करने और भविष्य की योजनाओं के बारे में सोचने का मौका मिल सकता है। और आपकी भविष्य की योजनाओं पर चर्चा करने में मदद करेगा। अपनी प्रतिभा को तराशने के लिए लगातार कुछ न कुछ नया सीखते रहें, इससे आपको अपने कार्यक्षेत्र में बेहतर परिणाम मिलेंगे। इस अवधि के दौरान आपके जीवनसाथी और परिवार के लोगों साथ संबंध अच्छे रहेंगे। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो छठे भाव पर मंगल की दृष्टि के चलते जुकाम-बुखार जैसी मामूली स्वास्थ्य समस्याएं आपको हो सकती हैं। मौसम में बदलाव के दौरान अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें।

उपाय: मंगल मंत्र का जाप करें: ओम क्रां क्रीम् क्रौं सः भौमाय नमः, 40 दिनों में 7000 बार।

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए मंगल चौथे और नौवें घर का स्वामी है और आपके धन, वाणी और संचार के दूसरे घर में इसका गोचर होगा। इस गोचर के दौरान वित्तीय रूप से आप बहुत भाग्यशाली नहीं होंगे क्योंकि आप अपने निवेश से औसत रिटर्न प्राप्त करेंगे, सट्टेबाजी में पैसा लगाना या किसी से ऋण लेना इस समय आपके लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता। परिवार में किसी शुभ मांगलिक कार्य के चलते परिवार के सदस्यों के साथ यात्रा करने की भी संभावना है। इस दौरान आपका पूरा ध्यान अपने घरेलू जीवन पर होगा और आप ऊर्जा से भरे होंगे। आपको बस यह सलाह दी जाती है कि इस दौरान अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें और कोई भी कठोर शब्द न बोलें क्योंकि इससे आपके परिवार के सदस्यों के साथ आपके संबंध बिगड़ सकते हैं। विवाहित जातक अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य में गिरावट देख सकते हैं। आप अपने रिश्ते में कुछ उतार चढ़ाव का सामना कर सकते हैं, लेकिन अपने अच्छे व्यवहार से स्थितियों में सुधार करने में भी सक्षम होंगे। इस राशि के नौकरी पेशा लोगों को कार्यक्षेत्र में विकास करने में कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है और विरोधी आपकी छवि को खराब करने का प्रयास कर सकते हैं। ठंडे दिमाग से रिश्ते बनाए रखने की कोशिश करें। स्वास्थ्य जीवन को लेकर सावधान रहें, खासकर अपने चहरे को लेकर, क्योंकि इस दौरान आपको चोट लग सकती है। इस दौरान कुछ जातकों को शरीर में दर्द, थकान और अनिद्रा जैसी परेशानी का भी सामना करना पड़ सकता है।

उपाय: मंगल स्तोत्र का पाठ करें।

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए मंगल तीसरे और आठवें घर का स्वामी है और यह आपकी आत्मा, व्यक्तित्व के पहले भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपके अंदर क्रोध की अधिकता हो सकती है जिसके कारण दोस्तों और करीबियों के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं। आपको आंतरिक ऊर्जा का उपयोग सही तरह से करने की सलाह दी जाती है इसे बेवजह की चीजों पर खर्च न करें। इस राशि के पेशेवर जातकों को इस दौरान जल्दबाजी से बचना चाहिए, आपके आक्रामक दृष्टिकोण के कारण सफलता प्राप्त करने के आपके प्रयास में कुछ रुकावटें आ सकती हैं। आपको सलाह दी जाती है कि कोई भी निर्णय जल्दबाजी में न लें और इस गोचर के दौरान किसी भी नए उद्यम को शुरू करने से बचें, इसकी बजाय उन परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करें जो चल रही हैं। आपको अपने प्रतिद्वंदियों से सावधान रहना चाहिए क्योंकि वो आपके लिए परेशानी पैदा कर सकते हैं। इस गोचर की अच्छी बात यह है कि इस दौरान आपकी कड़ी मेहनत को किस्मत का साथ मिलेगा। आर्थिक रूप से, खर्च में वृद्धि होगी और आपको अपना पैसा अनावश्यक चीजों पर खर्च करना पड़ सकता है। इस राशि के विवाहित जातक आक्रामक रवैये के कारण विवाहित जीवन में कुछ गलतफहमियां पैदा कर सकते हैं, वहीं जो जातक प्रेम संबंध में हैं उनके जीवन में स्थिरता आ सकती है। स्वास्थ्यप्रद, यह अवधि दुर्घटना प्रवण है इसलिए चलते समय सावधान रहें और किसी भी जोखिम भरे उपक्रम में शामिल न हों। स्वास्थ्य की बात की जाए तो यह समय बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता, कोई भी जोखिम भरा काम इस दौरान न करें।

उपाय: तीन मुखी रुद्राक्ष पहनें।

तुला

तुला राशि के जातकों के लिए, मंगल दूसरे और पहले घर का स्वामी है और आपके अध्यात्मवाद, आतिथ्य और हानि के द्वादश भाव में इस ग्रह का गोचर हो रहा है। इस अवधि के दौरान अनावश्यक खर्चे के कारण आर्थिक स्थिति कुछ खराब हो सकती है। पेशेवर जीवन में इस दौरान सहकर्मियों और वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग आपको प्राप्त नहीं होगा, कार्यक्षेत्र में कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है और कुछ जातकों को अपमान का सामना भी करना पड़ सकता है। व्यावसायिक उद्देश्य से की गई यात्रा फलदायी साबित नहीं होगी। जीवनसाथी और बच्चों के साथ आपके संबंध बहुत अच्छे नहीं होंगे इसलिए, किसी भी बुरी स्थिति से बचने के लिए आपको इस दौरान उनसे तर्क-वितर्क करने से बचना चाहिए। इस अवधि के दौरान अपने आक्रामक स्वभाव को नियंत्रित करने की आपको सलाह दी जाती है। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य को लेकर आप चिंतित हो सकते हैं और आपको अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना होगा क्योंकि आपको पेट से संबंधित समस्याएँ या छोटी-मोटी चोट लग सकती है।

उपाय: मंगल स्तोत्र का पाठ करें।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए, मंगल पहले और छठे भाव का स्वामी है और यह आपके आय / लाभ और इच्छाओं के एकादश भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान आपको मिश्रित परिणाम मिलेंगे। आर्थिक रूप से रूप से इस दौरान स्थिति अच्छी रहेगी, लेकिन बेहतर स्थिति के लिए आपको अभी भी कड़ी मेहनत करनी होगी ताकि आप अतिरिक्त आय का आनंद ले सकें। शेयर बाजार में किए गए निवेश से इस राशि के लोगों को अच्छा लाभ मिल सकता है। आपके पेशेवर जीवन पर नजर डाली जाए तो, यह समय पदोन्नति के लिए बहुत अच्छा है, इसके साथ ही इस राशि के कारोबारियों के लिए भी यह समय अच्छा रहेगा, अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए यह सबसे अच्छा समय है क्योंकि भाग्य आपका साथ देगा। आप इस समय लंबी यात्रा के लिए भी निकल सकते हैं और यह यात्रा सुखद और आनंददायक होगी। आप अपने करियर में आवश्यक सुधार इस दौरान कर सकते हैं जिससे निकट भविष्य में आपको सहायता मिलेगी। इस अवधि में आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ संबंध सुधारना शुरू कर सकते हैं और आपका भाई आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। प्रेमी-प्रेमिकाओं के लिए अवधि अनुकूल नहीं है और लवमेट के साथ गलतफहमी पैदा हो सकती है। मैत्री और पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा और इस दौरान आपको उनसे सम्मान की प्राप्ति भी होगी। विवाहित जीवन की समस्याएं भी कम हो सकती हैं। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याएं आपको हो सकती हैं, इसलिए नियमित व्यायाम या योग करें।

उपाय: भगवान शिव की पूजा करें और उन्हें गेहूं अर्पित करें।

धनु

धनु राशि वालों के लिए मंगल पांचवें और द्वादश भाव के स्वामी हैं और आपके करियर, प्रसिद्धि के दसवें घर में इनका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान पेशेवर जीवन में आपकी ज़िम्मेदारियां बढ़ेगी और आपके काम में भी वृद्धि होगी। आपको इस समय काफी मेहनत भी करनी पड़ेगी। लेकिन अच्छी खबर यह है कि आपको अपने प्रयासों में सफलता मिल सकती है, हालांकि आप अपनी उपलब्धियों से इस दौरान संतुष्ट नहीं होंगे। आपको अपने कार्यस्थल पर किसी ऐसे व्यक्ति से सतर्क रहना चाहिए जो आपके खिलाफ योजनाएं बना सकता है, साथ ही आपको यह सलाह भी दी जाती है कि अपने विरोधियों को कम आंकने की कोशिश न करें। रिश्तेनातों के लिहाज से यह गोचर बहुत अधिक अनुकूल नहीं होगा क्योंकि इस गोचर के दौरान अपने जीवनसाथी से आप अलग हो सकते हैं और आपके साथी और आपके परिवार के सदस्यों के साथ आपके संबंधों में कुछ तनाव आ सकता है। आर्थिक रूप से, आप अपने धन संबंधी मामलों को लेकर चिंतित हो सकते हैं, लेकिन आप आर्थिक रूप से खुद को बेहतर कर पाने में कामयाब हो सकते हैं बस आपको नकारात्मक विचारों से दूर रहने की सलाह दी जाती है। भाग्य इस दौरान आपके पक्ष में होगा इसलिए आपको इस अवधि का लाभ उठाना चाहिए। आप इस अवधि में अपने व्यवसाय या काम में पैसे का निवेश कर सकते हैं। स्वास्थ्य जीवन की बात की जाए तो अधिक चिंता के कारण स्वास्थ्य खराब हो सकता है, शारीरिक पीड़ा औऱ थकान की शिकायत आपको हो सकती है इसलिए अपना ख्याल रखें।

उपाय: अपने भाई के साथ मधुर संबंध बनाए रखें और उन्हें उपहार दें।


करियर से जुड़ी हर समस्या को दूर करने के लिए अभी ऑर्डर करें- कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

मकर

मकर राशि के जातकों के लिए, मंगल चौथे और ग्यारहवें घर का स्वामी है और यह आपके भाग्य, धर्म, उच्च शिक्षा और पिता के नवम भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान ज्यादातर वित्तीय समस्याएं हल हो जाएंगी लेकिन आपको अपनी कमाई के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। आपके खर्च अधिक हो सकते हैं जो आपकी चिंता का विषय हो सकता है। आपको यह सुझाव दिया जाता है कि अनावश्यक विलासितापूर्ण चीजों पर धन खर्च करने से बचें। आपके विरोधी और प्रतिद्वंदी भी इस दौरान आपकी चिंता का कारण बन सकते हैं और वो आपकी छवि को धूमिल करने की कोशिश भी कर सकते हैं, कुछ सहयोगियों के गलत कार्यों के कारण आपको अपने कार्यस्थल पर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए सावधान रहें और ऐसी गतिविधियों में शामिल न हों जो आपके दुश्मनों को आपको गलत साबित करने का मौका दें। रिश्तेनातों पर नजर डाली जाए तो यह समय आपके और आपके पार्टनर के बीच के मतभेदों को सुलझाने के लिए सबसे अच्छा है, लेकिन इस बात की संभावना भी है कि आप इस समय बहुत जल्दी क्रोधित हो जाएंगे और इसके कारण आप अच्छे मौके का फायदा उठाने से चूक सकते हैं। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप बिना गुस्सा किए अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में सक्षम हों। अपनी वाणी पर भी इस राशि के जातकों को इस दौरान नियंत्रण रखना होगा, नहीं तो रिश्तेदारों के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं । स्वास्थ्य पर नजर डालें तो आपको बुखार, थकान या बदन दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। निराशा और अवसाद की भावना से बचने के लिए, आपको ध्यान और योग का अभ्यास करना चाहिए।

उपाय: हनुमान जी की आराधना करें।

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए, मंगल तीसरे और दसवें घर का स्वामी है और यह ग्रह अचानक लाभ / हानि और विरासत के आपके आठवें भाव में गोचर करेगा। इस अवधि के दौरान आप अपने अंदर चिड़चिड़ापन महसूस कर सकते हैं और सही निर्णय लेने में भी आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी इस राशि के जातकों को हो सकती हैं, इस दौरान आपको सड़क पार करते समय और वाहन चलाते समय भी काफी सतर्क रहना होगा। खिलाड़ियों को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए और अत्यधिक आत्मविश्वास में आने से बचना चाहिए। कुछ जातकों को रक्त संबंधी परेशानियां भी हो सकती हैं। आपको सलाह दी जाती है कि यदि आप पहले से ही ऐसी बीमारियों से पीड़ित हैं तो इस समय उचित चिकित्सकीय उपचार लें। विवाहित जातकों की बात की जाए तो इस दौरान जीवनसाथी के अंदर आप अहम की भावना देख सकते हैं जिससे सामंजस्य खराब हो सकता है, जीवनसाथी को कुछ स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। पेशेवर जीवन में लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आपको इस अवधि में बहुत मेहनत और प्रयास करना पड़ सकता है। भाग्य आपके निरंतर प्रयासों के बावजूद भी बहुत ज्यादा साथ नहीं देगा लेकिन धैर्य बनाए रखें अपनी मेहनत का फल आपको भविष्य में अवश्य मिलेगा। कुछ अनिश्चितताएं भी आपके जीवन में हो सकती हैं लेकिन अगर आप अपने कार्य से मुंह नहीं चुराते तो विपरीत परिस्थिति से बाहर आ सकते हैं। यदि आप इस अवधि के दौरान यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको किसी भी आकस्मिक स्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए, इस समय अचानक आपकी प्लानिंग में परिवर्तन हो सकता है।

उपाय: मंगलवार को उपवास रखें।

मीन

मीन राशि के जातकों के लिए मंगल दूसरे और नौवें घर का स्वामी है और यह आपके विवाह और साझेदारी के सातवें में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपके सातवें घर में क्रूर ग्रह की उपस्थिति के कारण व्यक्तिगत जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं, आपका गुस्सा भी आपके लिए समस्या का कारण बन सकता है। इस दौरान आपको मीन-मेख निकालने से बचना चाहिए नहीं तो दिक्कत में फंस सकते हैं। यह गोचर आपके जीवनसाथी के साथ आपके संबंधों के लिए परीक्षा का समय होगा, इसलिए आपको अपने जीवनसाथी के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने चाहिए और अपने जीवनसाथी के साथ झगड़ा करने से बचने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा तर्क-वितर्क की स्थिति से बचने की भी आपको सलाह दी जाती है। पेशेवर जीवन में आपको कार्यस्थल पर कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इसलिए आपको धैर्य रखने की आवश्यकता होगी। इस दौरान आप अपने सहकर्मियों के साथ लड़-झगड़ सकते हैं और न चाहते हुए भी किसी विवाद में पड़ सकते हैं। ऐसी परिस्थितियों की अनदेखी करें और ठंडे दिमाग से काम लें। अप्रिय स्थितियों से बचने के लिए लोगों से अच्छे संबंध बनाने की कोशिश करें। आर्थिक रूप से, आय का प्रवाह सही रहेगा लेकिन अपेक्षा के अनुरूप नहीं। इसलिए धन संचित करने में आपको कुछ परेशानियां आ सकती हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से थोड़ा सावधान रहना होगा क्योंकि आप मूत्राशय से जुड़ी या पेट से जुड़ी किसी समस्या से पीड़ित हो सकते हैं।

उपाय: अच्छे फल प्राप्त करने के लिए मंगलवार को तांबे के बर्तन दान करें।


सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।