भविष्यवाणी करने के पंद्रह सूत्र: ज्योतिष सीखें (भाग-11)

फलादेश के पंद्रह महत्‍वपूर्ण नियम

ग्रहों के शुभ और अशुभ फल जानने के लिए 15 नियम बताता हूं जिससे आप यह जान पाएंगें कि कोई ग्रह शुभ है या अशुभ।

  • नियम 1 - जो ग्रह अपनी उच्‍च, अपनी या अपने मित्र ग्रह की राशि में हो - शुभ फल देगा। इसके विपरीत नीच राशि में या अपने शत्रु की राशि में ग्रह अशुभ फल देगा।
  • नियम 2 - जो ग्रह अपनी राशि पर दृष्टि डालता है वह देखे जाने वाले भाव के लिए शुभ फल देता है।
  • नियम 3 - जो ग्रह अपने मित्र ग्रहों और शुभ ग्रहों के साथ या मध्‍य हो वह शुभ फलदायक होता है। मध्‍य का मतलब अगली और पिछली राशि में ग्रह।
  • नियम 4 - जो ग्रह अपनी नीच राशि से उच्‍च राशि की ओर भ्रमण करे और वक्री न हो।
  • नियम 5 - जो ग्रह लग्‍नेश का मित्र हो।
  • नियम 6 - त्रिकोण के स्‍वामी सदा शुभ फल देते हैं।
  • नियम 7 - केन्‍द्र का स्‍वामी शुभ ग्रह अपनी शुभता छोड देता है और अशुभ ग्रह अपनी अशुभता छोड देता है।
  • नियम 8 - क्रूर भावों (3, 6, 11) के स्‍वामी सदा अशुभ फल देते हैं।
  • नियम 9 - उपाच्‍य भावों (1, 3, 6, 11, 11) में ग्रह के कारकत्‍व में वृद्धि होती है।
  • नियम 11 - दुष्‍ट स्‍थानों (6, 8, 12) में ग्रह अशुभ फल देते हैं।
  • नियम 11 - शुभ ग्रह केन्‍द्र (1, 4, 7, 11) में शुभफल देते हैं, पाप ग्रह केन्‍द्र में अशुभ फल देते हैं।
  • नियम 12 - पूर्णिमा के पास का चन्‍द्र शुभफलदायक और अमावस्‍या के पास का चंद्र अशुभफलदायक होता है।
  • नियम 13 - चन्‍द्र की राशि, उसकी अगली और पिछली राशि में जितने ज्‍यादा ग्रह होते हैं, चन्‍द्र उतना ही शुभ होता है।
  • नियम 14 - बुध, राहु और केतु जिस ग्रह के साथ होते हैं वैसा ही फल देते हैं।
  • नियम 15 - सूर्य के निकट ग्रह अस्‍त हो जाते हैं और अशुभ फल देते हैं।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

नवग्रह यन्त्र खरीदें

ग्रहों को शांत और सुखी जीवन प्राप्त करने के लिए नवग्रह यन्त्र एस्ट्रोसेज लें।

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।