• Talk To Astrologers
  • Talk To Astrologers
  • Talk To Astrologers
  • Brihat Horoscope
  • Personalized Horoscope 2024
  • Live Astrologers

शुक्र का मिथुन राशि में गोचर (2 मई 2023)

शुक्र का मिथुन राशि में गोचर, जो कि 2 मई 2023 की दोपहर 13:46 बजे होगा, वैदिक ज्योतिष में सामान्य रूप में एक अनुकूल गोचर माना जाता है। शुक्र ग्रह अपनी स्वराशि वृषभ से निकलकर अपने मित्र बुध की राशि मिथुन गोचर करेंगे और यहां पर 30 मई 2023 की शाम 19:39 बजे तक रहकर चंद्रमा के स्वामित्व वाली कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। ऐसे में यह संभावना है कि यह शुक्र गोचर सभी के लिए कुछ न कुछ अच्छा प्रदान करने वाला होगा। शुक्र नैसर्गिक रूप से शुभ ग्रह माने गए हैं। यह वृषभ और तुला 2 राशियों पर प्रतिनिधित्व करते हैं और शनि की राशियों मकर और कुंभ के लिए केंद्र व त्रिकोण के स्वामी होकर योगकारक ग्रह बन जाते हैं। शुक्र भोग और विलास प्रदान करने वाले ऐसे ग्रह हैं जिनकी कृपा आज के समय में हर कोई प्राप्त करना चाहता है क्योंकि शुक्र की कृपा से ही आपके जीवन में सभी सुख-सुविधाओं की प्राप्ति होती है। इन्हीं के कारण आपके जीवन में प्रेम की उत्पत्ति होती है और आप प्रेम पाने के हकदार बनते हैं। वास्तव में प्रत्येक व्यक्ति के लिए शुक्र का अनुकूल होना आवश्यक है क्योंकि यदि ऐसा नहीं होता तो व्यक्ति सुख से वंचित हो जाता है। उसके जीवन में प्रेम नहीं आता या प्रेम संबंधों में समस्या रहती है। दांपत्य जीवन कष्ट पूर्ण हो जाता है और वह यौन दुर्बलता का शिकार भी हो सकता है। इस आर्टिकल में शुक्र के इस गोचर के बारे में बताया जा रहा है ताकि आपको यह पता चल सके कि यह गोचर आपकी राशि के अनुसार आपके लिए किस प्रकार के फल प्रदान करने वाला गोचर साबित होगा।

शुक्र का सिंह राशि में गोचर

विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात करें और जानें शुक्र गोचर का अपने जीवन पर प्रभाव

शुक्र ग्रह मीन राशि में अपनी उच्च अवस्था में माने जाते हैं। वहीं कन्या राशि में यह नीच राशिगत हो जाते हैं। आध्यात्मिक और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शुक्र को दैत्य गुरु शुक्राचार्य भी कहा जाता है। जिस प्रकार देवताओं के गुरु बृहस्पति हैं, उसी प्रकार देवताओं और दानवों के गुरु शुक्राचार्य हैं, जिनके पास भगवान शिव से प्राप्त मृत संजीवनी विद्या भी है। शुक्र कलाओं के कारक हैं इसलिए यदि शुक्र आप पर मेहरबान हैं तो आपके जीवन में कोई न कोई कलात्मक गुण भी पाया जा सकता है और आप जीवन में सुख-सुविधाओं का आनंद उठाएंगे। आपके जीवन में प्रेम भी आएगा और आप एक अच्छी जिंदगी व्यतीत कर पाएंगे।

कुंडली में मौजूद राज योग की समस्त जानकारी पाएं

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। जानें अपनी चंद्र राशि

Read in English:Venus Transit In Gemini (2 May 2023)

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव के स्वामी हैं और शुक्र के मिथुन राशि में गोचर के समय यह आपके तीसरे भाव में गोचर करेंगे। तीसरे भाव में शुक्र के गोचर करने के कारण आप अपने दोस्तों के साथ ज्यादा समय बिताना पसंद करेंगे। उनके साथ पार्टी करना, मौज मस्ती करना, आपको खूब पसंद आएगा। भाई-बहनों के साथ भी निकटता बढ़ेगी और उनसे प्रेम बढ़ेगा। यह समय आपके प्रेम संबंधों को बढ़ाने वाला होगा। आपकी नज़दीकियां अपने प्रियतम से बढ़ेंगी और आपके बीच रोमांस के योग बनेंगे। शुक्र देव के गोचर के प्रभाव से आप अपनी किसी कलात्मक अभिव्यक्ति को सबके सामने लाने में सफल रहेंगे और उससे धनार्जन भी करने में कामयाब हो सकते हैं। इस दौरान जीवनसाथी से कुछ मुद्दों को लेकर कहासुनी और संघर्ष हो सकता है। आप अपना धन अपने भाई-बहनों की मदद के लिए खर्च कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र में काम कर रहे सहयोगियों से आपका दोस्ताना व्यवहार रहेगा जो आपके बहुत काम आएगा और इससे आपके करियर को सफलता मिलेगी। वे आपकी हर संभव मदद करेंगे। व्यापार के लिए समय अच्छा रहेगा। छोटी-छोटी यात्राओं से व्यापार को लाभ मिलेगा।

उपाय: शुक्रवार के दिन लक्ष्मी जी की कृपा प्राप्ति के लिए श्री सूक्त का पाठ करें।

वृषभ राशि

शुक्र आपके राशि स्वामी होने के साथ-साथ आपके षष्ठम भाव के स्वामी भी हैं और शुक्र के मिथुन राशि में गोचर से यह आपके दूसरे भाव में प्रवेश करेंगे। शुक्र ग्रह का यह गोचर आपके जीवन में अनुकूलता, सुख-शांति तथा समृद्धि लेकर आने वाला है। आपको प्रबल धन लाभ होने के योग बनेंगे। आप अपने धन की बचत कर पाने में सक्षम होंगे जिससे आपका बैंक बैलेंस बढ़ेगा। अच्छे और स्वादिष्ट भोजन का आनंद लेंगे और पकवान खाने का मौका मिलेगा। किसी शादी समारोह में सम्मिलित होकर खुशी का अनुभव करेंगे और अनेक लोगों से मिलना-जुलना होगा जिससे सामाजिक दायरा बढ़ेगा। आपके घर में भी कोई फंक्शन या अच्छा शुभ काम हो सकता है। वाद-विवाद को हल करने का प्रयास करने से आपको लाभ होगा और उससे धन प्राप्ति के योग बन सकते हैं। नौकरी में आपकी स्थिति अच्छी होगी। आप प्रशंसा के हकदार बनेंगे और आपके प्रयासों के लिए आपको कोई प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा सकती है। पारिवारिक जीवन में सुख और शांति रहेगी। आप लोगों से मीठा बोलकर अपना काम निकलवाने में सफल रहेंगे। व्यापार में वृद्धि होगी।

उपाय: आपको प्रतिदिन छोटी कन्याओं के चरण छूकर उनका आशीर्वाद लेना चाहिए।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों की बात करें तो शुक्र आपके द्वादश भाव के स्वामी होने के साथ-साथ पंचम भाव के स्वामी भी हैं और शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके प्रथम भाव में यानी कि आपकी ही राशि में होगा। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपके व्यक्तित्व में निखार आएगा। आप लोगों के आकर्षण का केन्द्र बनेंगे। आपके जो काम पहले किसी भी वजह से रुके हुए थे, वे अब धीरे-धीरे शुरू हो जाएंगे और आपको सुख देंगे। आपको गाड़ी या मकान का लाभ मिल सकता है इसलिए यदि आप कोई संपत्ति खरीदना चाहते हैं तो इस दौरान प्रयास करने से आपको उसका सुख मिल सकता है। संतान की ओर से अच्छा सहयोग मिलेगा और उनसे आपको प्रेम प्राप्त होगा। विदेशी मुद्रा की प्राप्ति होने के योग बन सकते हैं। विदेशी संपर्कों से आपके व्यापार में भी उन्नति होगी। यदि आप नौकरी करते हैं तो यह अवधि आपसे ज्यादा मेहनत और ज्यादा एकाग्रता की मांग करेगी। आप अपने ऊपर खर्च करना पसंद करेंगे। कुछ अच्छे और महंगे कपड़े और गैजेट खरीदने में धन खर्च होगा। दांपत्य जीवन में प्रेम और रोमांस के योग बनेंगे।

उपाय: आपको गाय को मंगलवार और शुक्रवार के दिन आटे की लोई में गुड़ भरकर खिलाना चाहिए।


करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए शुक्र चतुर्थ और एकादश भाव के स्वामी हैं और शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके द्वादश भाव में होगा। शुक्र ग्रह के प्रभाव से आपके असीमित खर्च होने के योग बनेंगे। अप्रत्याशित खर्चों में बढ़ोतरी देखकर आप परेशान हो उठेंगे लेकिन आपको तनिक भी घबराने या परेशान होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इसी द्वादश भाव में स्थित शुक्र महाराज आपको प्रबल धन लाभ भी देंगे। आप अपनी सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी करने के लिए कुछ नई चीजें खरीद कर ला सकते हैं। अपने अतिरिक्त परिवार की साज-सज्जा पर भी धन खर्च कर सकते हैं। घर में रिनोवेशन का कार्य करा सकते हैं और पारिवारिक जरूरत के सामानों के साथ-साथ सुख-सुविधाओं की वस्तुओं में बढ़ोतरी कर सकते हैं। यदि कोई मामला न्यायालय में विचाराधीन है तो उस पर खर्च करना पड़ सकता है। आपके वैवाहिक जीवन में प्रेम बढ़ने के योग बनेंगे।

उपाय: आपको शुक्रवार के दिन श्री देवी कवच का पाठ करना चाहिए।

सिंह राशि

शुक्र का मिथुन राशि में गोचर सिंह राशि के जातकों के एकादश भाव में होगा। यह आपके लिए तीसरे और दसवें भाव के स्वामी हैं। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपकी आमदनी में अच्छी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। आपकी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति होगी। कार्यक्षेत्र में आप के वरिष्ठ अधिकारी आपसे प्रसन्न नजर आएंगे और आपके हर काम में आपकी मदद करेंगे। उनका समर्थन आपको प्राप्त होगा जिससे आप अपने कामों को और भी बेहतर तरीके से संपादित कर पाएंगे। आपके प्रेम जीवन के लिए यह समय बहुत खुशगवार रहेगा। आप और आपके प्रियतम के बीच मिलने-जुलने, एक दूसरे के साथ अच्छा समय व्यतीत करने और रोमांस के भरपूर अवसर मिलेंगे। यदि आप एक विद्यार्थी हैं तो आपको अपनी शिक्षा में ध्यान केंद्रित करके अपनी पढ़ाई को सही तरीके से करने में सहायता प्राप्त होगी। आपकी संतान की ओर से भी आपको अच्छे समाचार सुनने को मिलेंगे। वे जिस क्षेत्र में भी कार्यरत हों, वहां उन्हें इस दौरान तरक्की मिल सकती है। नौकरी में पदभार बढ़ने की संभावना बनेगी। आपको बस एक बात का ध्यान रखना होगा कि ज्यादा यात्रा करने और अति व्यस्त रहने से शारीरिक समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं इसलिए अपनी स्वास्थ्य समस्याओं पर भी ध्यान दें और लापरवाही न करें।

उपाय: आपको रविवार के दिन गौ माता को गेहूं का आटा खिलाना चाहिए।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और नवम भाव के स्वामी हैं और शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके दशम भाव में होगा। यह समय उन्नति कारक रहेगा। आपको भाग्य का पूरा सहयोग प्राप्त होगा और आपके हर रुके हुए काम में फिर से गति शुरू हो जाएगी। आपकी यदि कुछ व्यावसायिक परियोजनाएं थीं तो वे भी अब आगे बढ़ने लगेंगी जिससे आपको प्रबल धन लाभ होने के योग बनेंगे। अगर आप नौकरी करते हैं तो आपको किसी अच्छी जगह स्थानांतरित किया जा सकता है जहां आपका पद और वेतन पहले के मुकाबले अधिक हो सकता है। यह समय आपके करियर के लिए अनुकूल रहेगा और आपको भाग्य की कृपा से बहुत कुछ प्राप्त होगा। व्यापार करने वाले लोगों के लिए भी यह अवधि बहुत महत्वपूर्ण साबित होगी और आपके व्यवसाय को नए लोगों के साथ मिलकर आगे चलाने का अवसर मिलेगा। पारिवारिक जीवन में सुख और शांति रहेगी। शुक्र का गोचर आपको खुशियां देगा।

उपाय: आपको शुक्र देव के बीज मंत्र का जाप करना चाहिए।

तुला राशि

शुक्र का मिथुन राशि में गोचर तुला राशि के नवम भाव में होगा। शुक्र आपकी राशि स्वामी होने के साथ-साथ आपके अष्टम भाव के स्वामी भी हैं। यह समय अचानक से धन प्राप्ति का हो सकता है। आपको कोई पैतृक संपत्ति या विरासत प्राप्त हो सकती है और आपका अटका हुआ धन भी वापस मिल सकता है, जिसकी आपने उम्मीद ही छोड़ दी होगी। इससे आपको बहुत प्रसन्नता मिलेगी। आपकी लंबी-लंबी यात्राएं होंगी लेकिन उन यात्राओं के दौरान किसी तरह की असुविधा भी हो सकती है इसलिए किसी भी यात्रा पर जाने से पूर्व पूरी तैयारी से आपको लाभ होगा। जाने से पूर्व यात्रा संबंधित सभी आवश्यक दस्तावेज अपने साथ रखें। भाई-बहनों के साथ आपके संबंध मजबूत होंगे। आपके पिताजी को कुछ स्वास्थ्य समस्याएं परेशान कर सकती हैं। नौकरी करने वाले लोगों के लिए यह अवधि थोड़ी तनावपूर्ण रहेगी। आपको अधिक परिश्रम करना होगा। यदि आप व्यापार करते हैं तो व्यवसायिक यात्राओं से लाभ के योग बनेंगे। आप अपनी मेहनत से अपने कार्यक्षेत्र में अच्छी सफलता प्राप्त करेंगे और समाज में मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी।

उपाय: आपको शुक्रवार के दिन श्री सूक्त का पाठ करना चाहिए।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शुक्र सप्तम और द्वादश भाव के स्वामी हैं और अब यह आपके अष्टम भाव में प्रवेश करेंगे। शुक्र का यह गोचर आपके निजी संबंधों में उतार-चढ़ाव लेकर आएगा। जहां एक ओर आप गुपचुप तरीके से अपने प्रेम संबंधों को आगे बढ़ाने पर ध्यान देंगे और अपने अंतरंग संबंधों में बढ़ोतरी महसूस करेंगे। गुप्त सुख पाने की चाह में आप जी भर कर पैसा खर्च करेंगे जो बाद में आपके लिए समस्या प्रद हो सकता है लेकिन आर्थिक रूप से यह गोचर आपके लिए अच्छा भी रहेगा क्योंकि आपको अच्छे धन लाभ होने के योग बनेंगे। अगर आपने शेयर बाजार में पहले से निवेश किया हुआ है तो उसका अच्छा प्रतिफल इस दौरान आपको प्राप्त हो सकता है जिससे आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। इस दौरान ससुराल में किसी के विवाह या फंक्शन में शामिल होने का मौका मिल सकता है जिससे घर-परिवार में प्रेम और उत्साह का वातावरण रहेगा और सभी खुश नजर आएंगे। जीवनसाथी से कहासुनी हो सकती है। वाद-विवाद को ज्यादा बढ़ने न दें, इसी में आपका हित होगा। व्यापार में उन्नति होगी और नौकरी करने वाले लोगों को अपने काम के लिए अच्छी पहचान मिलेगी।

उपाय: आपको शिवलिंग पर श्वेत चंदन अर्पित करना चाहिए।


बृहत् कुंडली: जानें ग्रहों का आपके जीवन पर प्रभाव और उपाय

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए शुक्र छठे और ग्यारहवें भाव के स्वामी हैं और शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके सप्तम भाव में होगा। इस दौरान आपका अपने जीवनसाथी से प्रेम बढ़ेगा। आपके बीच रोमांस के योग बनेंगे। आप एक-दूसरे को भरपूर समय देंगे और एक-दूसरे के सच्चे जीवनसाथी बनकर अपनी सभी जिम्मेदारियां बहुत अच्छे से पूरा करेंगे। जीवनसाथी के लिए नई-नई वस्तुएं खरीद कर लाएंगे लेकिन बीच-बीच में आप दोनों के बीच कहासुनी भी हो सकती है। यदि आपकी कुंडली में कोई गलत योग होगा तो इस अवधि में आप विवाहेतर संबंधों (एक्स्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर्स) की ओर अग्रसर हो सकते हैं इसलिए आपको सावधान रहना चाहिए क्योंकि इससे मान मर्यादा की हानि हो सकती है। इस समय अवधि में महिलाओं को मासिक धर्म से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इसलिए यथासंभव चिकित्सीय उपचार लें। व्यवसाय करने वाले जातकों के लिए यह अवधि अनुकूलता लेकर आएगी और आपके व्यवसाय में अच्छी वृद्धि देखने को मिलेगी। जीवनसाथी को धन लाभ मिल सकता है जिससे आपकी आर्थिक स्थिति भी बढ़िया होगी।

उपाय: आपको गुरुवार के दिन बृहस्पति देव के बीज मंत्र का जाप करना चाहिए।

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए शुक्र पंचम और दशम भाव के स्वामी होकर एक योगकारक ग्रह बनते हैं। शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके षष्ठम भाव में होगा। शुक्र के इस गोचर की अवधि में आपको अपने स्वास्थ्य का सबसे ज्यादा ध्यान रखने की आवश्यकता पड़ेगी क्योंकि यहां स्थित शुक्र, मंगल के साथ युति करके कुछ स्वास्थ्य समस्याएं दे सकते हैं। आपको अच्छा भोजन करना चाहिए। सुपाच्य भोजन से आपका पेट अच्छा रहेगा और इससे पाचन तंत्र से संबंधित समस्याओं से बचा जा सकता है। भरपूर मात्रा में जल का सेवन और पेय पदार्थों का सेवन आपको अनेक स्वास्थ्य समस्याओं से बचा सकता है। इस अवधि में आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने की संभावना भी बन रही है इसलिए अपने धन पर ध्यान दें और उसका सदुपयोग करें। नौकरी करने वाले जातकों के लिए यह गोचर अवधि अनुकूल रहेगी। शुक्र देव जी की कृपा से आपको अपनी नौकरी में अच्छा स्थान मिलेगा और आप अपने सभी कार्यों को समय रहते पूर्ण कर पाएंगे। विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई में अच्छे अवसर प्राप्त होंगे और यदि किसी प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी में लगे हैं तो आपको सफलता मिल सकती है।

उपाय: आपको शुक्र यंत्र की विधिवत पूजा करनी चाहिए।

कुंभ राशि

कुंभ राशि शनि के आधिपत्य वाली राशि है और इसके लिए शुक्र चतुर्थ और नवम भाव के स्वामी होने से एक योगकारक ग्रह हैं और शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके पंचम भाव में होगा। शुक्र का पंचम भाव में जाना आपके प्रेम संबंधों के लिए वरदान साबित होगा। यदि आपके प्रियतम से आपकी कोई लड़ाई चल रही थी तो वह अब समाप्त हो सकती है और फिर से प्रेम बढ़ेगा। आप दोनों अपने प्यार को परवान चढ़ता हुआ देखेंगे। आपके बीच भरपूर रोमांस होगा। एक साथ घूमने जाना, समय बिताना, पार्टी करना, मूवी देखना आदि सभी कार्य आपके प्रेम को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इस अवधि में विद्यार्थियों को पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने के लिए थोड़ा सा प्रयास करना होगा। हालांकि उनकी बुद्धि अच्छी होगी। वे शीघ्र ही अपनी बातों को समझ जाएंगे लेकिन मन थोड़ा सा भटकेगा भी इसलिए इस अवधि में अपने किसी गुरु से मार्गदर्शन ले सकते हैं। इस अवधि में उत्तम धन लाभ के योग बनेंगे। आपको संपत्ति का लाभ भी मिल सकता है। आपकी कई गुप्त योजनाएं फिर से शुरू होंगी जिनसे आपको धन लाभ होगा। आपके मन में धार्मिक विचार भी आएंगे और आप पूजा-पाठ जैसे कामों में मन लगाएंगे। पेट से संबंधित समस्याओं के प्रति सावधानी रखना अपेक्षित होगा। बेरोजगार लोगों को नौकरी मिल सकती है और जो लोग नौकरी में बदलाव करना चाह रहे थे, उनकी यह इच्छा पूरी हो सकती है।

उपाय: आपको शुक्रवार के दिन अच्छी गुणवत्ता वाला ओपल रत्न अपनी अनामिका अंगुली में धारण करना चाहिए।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए शुक्र तीसरे और आठवें भाव के स्वामी हैं। शुक्र का मिथुन राशि में गोचर आपके चतुर्थ भाव में होगा। शुक्र के इस गोचर से परिवार में थोड़ी समस्याएं तो रहेंगी क्योंकि लोग एक-दूसरे की बातों को सही प्रकार से समझ नहीं पाएंगे और इससे बिना वजह की समस्याएं पैदा होंगी लेकिन घर में कोई नई और बड़ी वस्तु के आगमन से सबको खुशी होगी। शुक्र गोचर की इस अवधि के दौरान आप कोई नई गाड़ी खरीद सकते हैं। भाई-बहनों के सहयोग से आपको धन लाभ होगा। वे आपके हर काम में आपकी सहायता करेंगे। यदि आप कोई वाहन या संपत्ति खरीदना चाहते हैं तो उसमें भी उनका सहयोग रहेगा। ससुराल पक्ष के लोगों का सहयोग आपको प्राप्त हो सकता है। आप मन में अच्छे विचार रखेंगे और सभी के भले की कामना करेंगे। नौकरी में आपकी स्थिति इस बात पर निर्भर करेगी कि आप अपने निजी और पेशेवर जीवन के बीच कितना सामंजस्य रख पाते हैं। व्यापार के लिए यह अवधि अनुकूल रहेगी। आपके कामों में आपके मित्र भी मदद करेंगे। उनके साथ अच्छा समय बिताना आपको भी पसंद आएगा।

उपाय: आपको शुक्रवार के दिन सफेद मिठाई का दान करना चाहिए।


सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम आशा करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। एस्ट्रोसेज के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।