• AstroSage Big Horoscope
  • Raj Yoga Reort
  • Kp System Astrologer

शुक्र का वृश्चिक राशि में गोचर (26 नवंबर, 2017)

विलासिता का कारक शुक्र ग्रह तुला और वृषभ राशि को नियंत्रित करता है। शुक्र के प्रभाव से जातक के अंदर कलात्मक गुणों का निर्माण होता है। शुक्र के प्रभाव के कारण ही व्यक्ति स्वभाव से ख़र्चीला हो जाता है। शुक्र का मज़बूत होना संपन्नता की निशानी है। शुक्र की मज़बूती से समाज में मान-सम्मान बढ़ता है। शुक्र को पति-पत्नि, प्रेम संबंध, ऐश्वर्य, आनंद आदि का भी कारक ग्रह माना गया है। कुंडली में शुक्र का प्रभाव शुभ होने से भौतिक सुख-सुविधाओं का लाभ मिलता है व वैवाहिक सुख का आनंद प्राप्त होता है।

26 नवंबर 2017 को शुक्र ग्रह रात 10:20 बजे वृश्चिक राशि में गोचर करेगा। शुक्र ग्रह वृश्चिक राशि में 20 दिसंबर को शाम 6:43 बजे तक संचरण करेगा। लगभग एक महीने तक चलने वाले इस गोचर का प्रभाव हम सभी के जीवन पर पड़ेगा। आईये जानते हैं इस गोचर का ज्योतिष प्रभाव।

Click here to read in English...

यह भविष्यफल चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए क्लिक करें: चंद्र राशि कैलकुलेटर

Shukra ka Kark Rashi Mei Gochar

मेष

शुक्र आपकी राशि से अष्टम भाव में प्रवेश करेगा। इस बीच आपकी दोस्ती विपरीत लिंग के जातकों के साथ ख़ूब बढ़ेगी और आप उनकी संगत पसंद करेंगे। वास्नात्मक क्रियाओं व सुख-सुविधाओं से जुड़ी चीज़ों में आपकी रूचि बढ़ेगी। इस दौरान आप लाख से बनी हुई चीज़ें ख़रीदना पसंद करेंगे। अप्रत्याशित लाभ होने की पूर्ण संभावना है। अपने जीवनसाथी के संग ससुराल पक्ष के रिश्तेदारों के यहां जा सकते हैं। नया घर ख़रीदने के भी योग हैं।

उपायः सफेद चंदन दान करें।

वृषभ

शुक्र आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर करेगा जिस कारण आपके विपरीत लिंग के लोगों से कुछ विवाद हो सकते हैं। ये विवाद जीवन साथी के साथ भी हो सकते हैं, इसलिए अपने गुस्से पर काबू रखें। गोचर के दौरान वास्नात्मक क्रियाओं में आपका मन ज़्यादा लगेगा। विपरीत लिंग के जातकों के साथ संबंध बनाते समय सावधानी बरतें अन्यथा ये आपको नुकसान पहुंचा सकता है। ज़रूरी बचाव के साथ यदि रूटीन में अपने कार्य करेंगे तो सम्भवतः परेशानियों से बचे रहेंगे। अपने जीवनसाथी को लेकर ज़्यादा रोमांटिक हो जाएंगे।

उपायः श्री सूक्त मंत्र का जाप करें।

मिथुन

इस दौरान शुक्र आपकी राशि से षष्ठम भाव में प्रवेश करेगा। इस कारण आपको स्वास्थ्य से संबंधित परेशानियां हो सकती हैं। यदि परहेज या बचाव नहीं किया तो ये समस्याएं बीमारी का रूप भी ले सकती हैं। विवादों में पड़ने से बचें अन्यथा आप उसमें बुरी तरह से उलझ सकते हैं। अनैतिक कार्यों के कारण आपकी समाज में छवि बिगड़ भी सकती है। स्वभाव से ख़र्चीले हो जाएंगे, पैसों को ख़र्च करने से पहले एक बार भी नहीं सोचेंगे। विरोधी पक्ष इस दौरान मज़बूत हो सकता है। उनका सामना करने के लिए आपको ख़ुद को मज़बूत करना होगा। कार्यक्षेत्र पर वरिष्ठ जनों के सहयोग में कमी आ सकती हैं इसलिए उन पर निर्भर न रहें।

उपायः मां दुर्गा की सफेद फूलों से पूजा करें।

कर्क

शुक्र आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर करेगा जो आपकी ज़िंदगी में खुशी लेकर आएगा। रिश्तेदारों, बच्चों व दोस्तों के संग समय बिताना पसंद करेंगे। इस अवधि के दौरान आप काफी अच्छा महसूस करेंगे। प्यार व रोमांस के ज़रिए आपके जीवन में बहार आएगी और ज़िंदगी और भी रंगीन हो जाएगी। शत्रुओं को पराजित कर सकेंगे। कलात्मक क्रियाओं से आय के स्रोत खुलेंगे जिससे आर्थिक स्थिति अच्छी होगी। संगीत व ग्लैमर से जुड़े क्षेत्रों में आपकी रूचि बढ़ेगी। आप साथी या प्रेमी के साथ इस बीच अच्छा समय बिताएंगे।

उपायः महिलाओं की इज्जत करें और भगवान शिव को चावल दान करके पूजा करें।


सिंह

आपकी राशि से शुक्र चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आप अपने दोस्तों के संग घूमना-फिरना पसंद करेंगे। परिवार में प्रेम व सौहार्द बना रहेगा। बस पारिवारिक क्लेश से खुद को दूर रखें। इस बीच आप भौतिक सुख-सुविधाओं को लाभ उठा पाएंगे। एकाग्रता बढ़ेगी जिसके ज़रिए आप अपने काम पर पूरा ध्यान दे सकेंगे। ऐसा करने से आपके कार्यक्षेत्र पर आपकी छवि सुधरेगी। करियर में ग्रोथ के लिए जॉब चेंज का प्लान भी बना सकते हैं।

उपायः पूजा के समय भगवान शिव को खस का इत्र चढ़ाएं।

कन्या

शुक्र आपकी राशि से तृतीय भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आर्थिक लाभ होंगे और मान-सम्मान भी बढ़ेगा। छोटी-छोटी यात्राओं के संकेत मिल रहे हैं। अपनी बौद्धिक क्षमताओं से आप जीत हासिल करने में कामयाब होंगे। चुनौतियों का सामना डट कर करेंगे और अपनी मेहनत व लगन से शत्रुओं को मार गिराएंगे। इंटरनेट या अन्य किसी संचार माध्यम से शुभ समाचार प्राप्त हो सकते हैं। राह में आ रही परेशानियों व कठिनाइयों को पार करने में भाग्य का साथ मिलेगा। इस बीच आप जीत हासिल करेंगे जिससे समाज में आपका नाम होगा।

उपायः मां दुर्गा की पूजा करें और उन्हें खीर चढ़ाएं।

तुला

आपकी राशि से शुक्र द्वितीय भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आर्थिक स्थिति पहले से काफी अच्छी हो जाएगी। घर में कोई नन्हा मेहमान आ सकता है। पैतृक संपत्ति से लाभ प्राप्त हो सकता है। सरकारी नीतियों से भी लाभ मिल सकता है। सुख-समृद्धि में बढ़ोत्तरी हो जाने से जीवन में खुशी आएगी। इस दौरान आपको स्वादिष्ट व्यंजनों का स्वाद चखने को मिल सकता है। वाणी में मिठास आ जाने से व्यक्तित्व में आकर्षण आएगा।

उपायः छोटी कन्याओं से आशीर्वाद प्राप्त करें और उन्हें मिश्री दान करें।


वृश्चिक

शुक्र आपकी ही राशि में यानि प्रथम भाव में गोचर करेगा। शुक्र के प्रभाव से आप इस दौरान भौतिक सुख-सुविधाओं का आनंद उठा सकेंगे। विदेशी जमीन से आर्थिक मुनाफ़ा हो सकता है। अपने स्वभाव में ठहराव लाएं, इससे रिश्तों में स्थिरता व संतुलन बना रहेगा। इस अवधि में आप पारिवारिक सुख, स्वादिष्ट भोजन व विपरीत लिंग के जातकों की कंपनी का आनंद उठाएंगे। समस्याओंं के आने से घबराएं नहीं क्योंकि आप अपने जीवनसाथी के साथ इन सभी दिक्कतों से छुटकारा पा लेंगे। किसी बड़े बिजनेस को करने में दिलचस्पी दिखा सकते हैं।

उपायः किसी भी देवी के मंदिर में शुक्रवार के दिन बताशे दान करें।

धनु

शुक्र आपकी राशि से द्वादश भाव में गोचर करेगा। हार्मोन्स में बदलाव के कारण आप उत्तेजना के शिकार हो सकते हैं। इसके साथ ही आपको वास्नात्मक क्रियाओं से आनंद मिलेगा। जीवन स्तर को और उच्च करने के लिए आप उस पर अच्छी रकम़ ख़र्च कर सकते हैं। विदेश यात्रा के योग दिखाई दे रहे हैं। कोई नया बिजनेस शुरू कर सकते हैं और उससे लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं।

उपायः भगवान शिव का दही से रुद्राभिषेक करें।

मकर

आपकी राशि से शुक्र एकादश भाव में गोचर करेगा। इस अवधि में आपकी आर्थिक स्थिति बेहतर होगी और कई क्षेत्रों से मुनाफ़े के आसार हैं। दोस्तों की मदद से आप भौतिक सुख-सुविधाओं का लाभ उठा पाएंगे। शुक्र के प्रभाव से आप इस बीच फैशनेबल कपड़ों व परफ्यूम पर ख़र्च करेंगे। दोस्तों की गिनती में इजाफा होगा जिससे सामाजिक दायरा बढ़ेगा। इस गिनती में विपरीत लिंग के जातक भी होंगे। जीवन में प्यार व रोमांस आपके इस समय को यादगार बना देगा।

उपायः दुर्गा चालीसा पढ़े और सफेद प्रसाद चढ़ाएं।


योग्य जीवनसाथी के लिए करें वैवाहिक कुंडली का मिलान

कुंभ

शुक्र आपकी राशि से दशम भाव में गोचर करेगा। लड़ाई-झगड़ों व फ़िज़ूल की बहस के कारण समय व ऊर्जा दोनों बर्बाद हो सकते हैं। इससे मानहानि के भी आसार हैं, इसलिए इन सबसे खुद को दूर रखें। कार्यक्षेत्र पर गॉसिप करने से बचें अन्यथा आप विवाद में फंस सकते हैं। वैवाहिक जीवन में समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसके साथ ही विपरीत लिंग के लोगों के साथ भी विवाद हो सकते हैं। भाग्य के सहारे आप अपनी राह में आ रही रुकावट को दूर कर सकेंगे। करियर के लिहाज़ से ये समय आपके लिए शुभकारी है। इस दौरान आपको प्रमोशन मिल सकता है जिस कारण आप खुद को स्थानांतरित कर सकते हैं।

उपायः ऊं द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम: मंत्र का जाप करें।

मीन

आपकी राशि से शुक्र नवम भाव में गोचर करेगा। मन को शांति मिलेगी और आप आध्यात्मिक कार्यों के प्रति खुद को समर्पित करेंगे। पिता की सेहत पर ध्यान देने की ज़रूरत है प्रेम संबंध पहले से ज़्यादा मज़बूत होंगे और इस दौरान आप खुश और संतुष्ट रहेंगे। जीवन के प्रति उदार दृष्टिकोण रखेंगे हालांकि भाई-बहनों के साथ कुछ समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। गोचर की इस अवधि में आर्थिक लाभ होंगे व बैंक बैलेंस बढ़ेगा। शॉपिंग की आदत लग सकती है। आप इस बीच अपने लिए काफी नए कपड़े ख़रीद सकते हैं।

उपायः शुक्रवार को पुजारिन को चीनी दान करें।

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

ज्योतिष पत्रिका

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

फेंगशुई खरीदें

एस्ट्रोसेज पर पाएँ विश्वसनीय और चमत्कारिक फेंगशुई उत्पाद

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।