पितृ दोष निवारण के उपाय

वैदिक ज्योतिष में पितृ दोष निवारण के उपाय बताये गये हैं। हिंदू धर्म में पितृ दोष को बड़ा दोष माना जाता है इसलिए पितृ दोष की शांति के लिए उपाय किये जाते हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएँगे कि पितृ दोष और पितृ दोष की शांति के उपाय। ज्योतिष के अनुसार यदि किसी जातक की कुंडली में पितृ दोष है तो उसे अनेक प्रकार के कष्टों से गुज़रना पड़ता है। जैसे- पितृ दोष से पीड़ित व्यक्ति को अपने जीवन में अस्थिरता, संतान कष्ट, नौकरी-व्यापार में परेशानी, आर्थिक संकट, गृह क्लेश, शारीरिक और मानसिक कष्ट आदि का सामना करना पड़ता है इसलिए उनकी कुंडली से पितृ दोष निवारण आवश्यक है। पितृ दोष मुक्ति उपाय को जानने से पहले आइए जानते हैं कि पितृ दोष क्या है? किन कारणों से कुंडली में पितृदोष बनता है?

Pitra dosha nivaran ke upay

पितृ दोष क्या है ?

पितृ दोष निवारण के उपाय जानने से पहले समझें पितृ दोष क्या होता है? पूर्वजों की अतृप्ति के कारण उनके वंशजों को होने वाले कष्ट को पितृ दोष कहते हैं। ऐसा माना जाता है कि मरने के बाद हमारे पूर्वजों की आत्मा अपने परिवार को देखती हैं और महसूस करती हैं कि उनके परिवार के लोग उनके प्रति अनादर का भाव रखते हैं व उनकी उपेक्षा करते हैं। इस बात से दुखी होकर दिवंगत आत्माएँ अपने वंशजों को श्राप दे देती हैं, जिसे पितृ दोष कहा जाता है। इसे एक प्रकार का अदृश्य कष्ट माना जाता है।

पितृ दोष का कारण

यदि जातक के लग्न एवं पंचम भाव में सूर्य, मंगल एवं शनि हो और अष्टम भाव में बृहस्पति और राहु स्थित हो तो पितृ दोष बनता है। इसके अलावा अष्टमेश या द्वादशेश का संबंध सूर्य या बृहस्पति से हो तो व्यक्ति पितृ दोष से पीड़ित होता है। वहीं सूर्य, चंद्र एवं लग्नेश का राहु से संबंध होना भी कुंडली में पितृ दोष का निर्माण करता है। यदि कुंडली में राहु एवं केतु का संबंध पंचम भाव या भावेश से हो तो पितृ दोष बनता है। यदि कोई व्यक्ति अपने हाथ से अपने पिता की हत्या करता है, उन्हें कष्ट पहुँचाता या फिर अपने बुजुर्गों का अनादर करता है तो अगले जन्म में उसे पितृ दोष का कष्ट झेलना पड़ता है। हालांकि पितृ दोष के उपाय करने से पूर्वजों का आशीर्वाद मिलता है और अशुभ प्रभाव खत्म होता है।

पितृ दोष के लक्षण

  • गर्भधारण में समस्या
  • गर्भपात
  • मानसिक व शारीरिक दृष्टि से विकलांग बच्चे
  • बच्चों की अकाल मृत्यु
  • विवाह में बाधा
  • वैवाहिक जीवन में क्लेश
  • बुरी आदत (70 फ़ीसदी व्यसन पितृदोष के कारण होते हैं)
  • नौकरी में कठिनाई
  • क़र्ज़

पितृ दोष निवारण के उपाय

पितृ दोष निवारण के उपाय करने से पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है। कुंडली में पितृ दोष से मुक्ति प्राप्त करने हेतु शास्त्रों में पितृ दोष निवारण यंत्र के बारे में बताया गया है। ऐसा विश्वास है कि यदि इस यंत्र को पूर्ण विधि-विधान से स्थापित किया जाए तो कुंडली में पितृ दोष से मुक्ति मिल जाती है। किसी पंडित की सहायता से इस यंत्र को स्थापित किया जा सकता है। यंत्र की स्थापना के बाद मंत्र सहित इस यंत्र की प्रतिदिन आराधना करें। इस यंत्र में पितरों की शक्ति एवं उनका आशीर्वाद समाहित होता है इसलिए इसकी पूजा से पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। पितृ दोष की शांति के लिए हर माह की अमावस्या को इस यंत्र की पूजा अवश्य करें।

पितृ दोष निवारण मंत्र-

ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः प्रथम पितृ नाराणाय नमः नमो भगवते वासुदेवाय नमः

पितृ दोष निवारण के टोटके

  • शनिवार को सूर्योदय से पूर्व कच्चा दूध व काले तिल पीतल के वृक्ष पर चढ़ाएँ
  • सोमवार को आक के 21 पुष्पों से भगवान शिव जी की पूजा करें
  • अपने पूर्वजों से चांदी लेकर नदी में प्रवाहित करें
  • अपने से बड़ों का आदर करें
  • माता जी का हमेशा सम्मान करें
  • पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में इमली का बांदा लाकर घर में रखें
  • अपने इष्टदेव की नियमित रूप से पूजा-पाठ करें
  • ब्रह्मा गायत्री का जप अनुष्ठान कराएँ
  • उत्तराफाल्गुनी, उत्तराभाद्रपद या उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में ताड़ के वृक्ष की जड़ को घर लाएँ और उसे किसी पवित्र स्थान पर स्थापित करें
  • प्रत्येक अमावस्या को अंधेरा होने पर बबूल के वृक्ष के नीचे भोजन करें
  • अमावस्या के दिन पितरों को भोग लगाएँ
  • अमावस्या के दिन पितरों के नाम से ब्राह्मïणों को भोजन कराएँ
  • श्राद्ध पक्ष में प्रतिदिन पितरों को जल और काले तिल अर्पण करें
  • सात मंगलवार तथा शनिवार को जावित्री और केसर की धूप घर में दें
  • मंगल यंत्र को स्थापित कर उसकी पूजा करें
  • प्रतिदिन प्रात:काल सूर्योदय से पूर्व उठकर सूर्यदेव को नमन करें
  • शुक्ल पक्ष को प्रथम रविवार के दिन सूर्य यंत्र को स्थापित करें
  • सूर्य देव को नित्य तांबे के पात्र से जल का अर्घ्य दें
  • पाँच मुखी रुद्राक्ष धारण करें
  • पशु-पक्षियों को रोटी आदि खिलाएँ
  • घर में दक्षिण दिशा की दीवार में अपने पूर्वजों का माला सहित चित्र लगाएँ
  • माँ काली की नियमित आराधना करें
  • प्रतिदिन शिवलिंग पर जल चढ़ाएँ और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करे

हम आशा करते हैं कि पितृ दोष निवारण के उपाय के बारे में लिखा गया है यह लेख आपको पसंद आया होगा।

यह भी पढ़ें:

एस्ट्रोसेज मोबाइल पर सभी मोबाइल ऍप्स

एस्ट्रोसेज टीवी सब्सक्राइब

रत्न खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रत्न, लैब सर्टिफिकेट के साथ बेचता है।

यन्त्र खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम के विश्वास के साथ यंत्र का लाभ उठाएँ।

नवग्रह यन्त्र खरीदें

ग्रहों को शांत और सुखी जीवन प्राप्त करने के लिए नवग्रह यन्त्र एस्ट्रोसेज लें।

रूद्राक्ष खरीदें

एस्ट्रोसेज डॉट कॉम से सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले रुद्राक्ष, लैब सर्टिफिकेट के साथ प्राप्त करें।